अब कानपुर में होगा पीपीपी मॉडल के जरिए 50 एकड़ क्षेत्र में औद्योगिक विकास।

अब कानपुर में होगा पीपीपी मॉडल के जरिए 50 एकड़ क्षेत्र में औद्योगिक विकास।

 

 

कानपुर, ( कुलसूम फात्मा ) कानपुर में प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप के जरिए 50 एकड़ क्षेत्रफल में औद्योगिक क्षेत्र बसाने की योजना चल रही है जिससे कि कानपुर में औद्योगिक क्षेत्र में विकास होगा
बोर्ड से इसकी मंजूरी मिल गई है तथा अब जल्द से जल्द निवेश के जरूरतमंद लोगों के आवेदन मांगे जाएंगे।
जिन लोगों के पास 5 एकड़ से अधिक भूमी है, उसमें कोई भी व्यक्ति या कंपनी तथा संस्था औद्योगिक क्षेत्र का कार्य प्रारंभ कर सकता है।

प्रदेश की सरकार कानपुर सूबे में औद्योगिक विकास करने पर बल दे रही है। औद्योगिक विकास करने के लिए पीपीपी मॉडल के तहत योजना बनाई जा रही है और इस को मंजूरी भी मिल गई है।
कोई व्यक्ति कंपनी तथा संस्था जिसके पास 5 एकड़ से अधिक भूमि है। वह औद्योगिक क्षेत्र का कार्य प्रारंभ कर सकता है। भूमि को औद्योगिक क्षेत्र घोषित करने के लिए लेआउट बनाने समेत अन्य कार्यों में भी निगम सहायता प्रदान करेगा।

 

निगम के प्रबंध निदेशक राम यज्ञ मिश्र से बातचीत की तो इससे संबंधित कुछ मुद्दों पर उन्होंने बताया की भविष्य में –

राम यज्ञ मिश्र ने कहा कि शहर में अब भूमि नहीं रह गई है। इस बात को देखते हुए उद्योग लगाना यहां पर आसान नहीं है ,हम फ्लैटेड फैक्ट्री के कंसेप्ट पर कार्य करना प्रारंभ कर चुके हैं। गाजियाबाद, आगरा लखनऊ कानपुर अन्य शहरों में हमारी यहाँ भी जमीन है और हम वहां फ्लैटेड फैक्ट्री बनाने का सोच रहे हैं।
उन्होंने कहा, यह बिल्डिंग कॉर्पोरेट ऑफिस जैसी बनाई जाएगी वहां बस इन्वेस्टर को केवल बोर्ड में प्लस लगाकर कार्य करना होगा। और एनओसी लेने का कार्य निगम करेगा उन्होंने बातचीत के दौरान बताया कि हमने डीपीआर बनवा लिया है और अब टेंडर की प्रक्रिया भी प्रारंभ होने जा रही है।
इस कार्य से हमें सेंट्रल गवर्नमेंट से सहायता मिलेगी और यह उद्योग गैर प्रदूषण कारी होंगे।
कहां की एसेट लैंडिंग बैंकिंग के जरिए कंपनी का गठन जल्द ही होगा और इससे लाभ युवाओं को प्राप्त हो सकेगा। इस सुविधा के लिए कमेटी का गठन किया जा रहा है ,छोटे कारोबारी पूरी तरह से लाभ उठा सकेंगे और
छोटे कारोबारी अपने यहां कंप्यूटर मशीन लैपटॉप अन्य जरूरतों को पूर्ण रूप से पूरा कर सकेंगे
यूपिको के साथ संयुक्त उद्यम के रूप में निगम कार्य करने जा रहा है। जिससे कि बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा।

निगम में मानव संसाधन की कमी है। इस सवाल पर उन्होंने कहा कि निगम में इंजीनियर के साथ ही कई और पद खाली हैं हमने तकरीबन 18 जेई की भर्ती जैम पोर्टल के जरिए से की है और इन पदों को भरने के लिए हम पूर्ण रुप से तैयार हैं। निगम में अभी समाज कल्याण, निर्माण निगम से चीफ इंजीनियर कीी तैनाती भी हमने करवाई है।

Leave a Comment