अब कुम्हारों के लिए भी बनी योजना मिलेगा इनके कार्यों को बढ़ावा।

अब कुम्हारों के लिए भी बनी योजना मिलेगा इनके कार्यों को बढ़ावा।

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा ) वैसे तो उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी कोरोना महामारी प्रारंभ होने से पहले ही थी परंतु जब कोरोना काल प्रारंभ हुआ, उसके पश्चात ये बेरोजगारों की संख्या और भी बढ़ गई। यहां तक की आर्थिक व्यवस्था ही पूरी तरह से गिर गई थी। अच्छी-अच्छी कंपनियों ने हाथ खड़े कर दिए थे।

परंतु अब धीमे-धीमे समय के साथ इसमें सुधार आता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर सरकार ने भी इन बेरोजगारों के लिए विभिन्न योजनाओं का प्रबंध किया जिसके द्वारा रोजगार पाने के लिए भटक रहे लोग इन सरकारी योजनाओं का फायदा उठा सके। इन योजनाओं में से कुम्हारों के भी कार्य को बढ़ावा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत योजना के जरिए कुम्हारों को फायदा पहुंचाने का प्रयत्न सरकार कर रही है।

अब आत्मनिर्भर भारत योजना के जरिए कुम्हारों को भी लाभ पहुंचाया जाएगा। लखनऊ के साथ-साथ प्रदेश के अन्य 19 जिलों के कारीगरों को नई ऊंचाई दी जाएगी। अब इन मिट्टी के परंपरागत कार्य करने वाले कुम्हारों को सोलर चाक दिया जाएगा।
जिससे कि उनके हुनर को बुलंदी मिले और इनके हुनर में चार चांद लग जाए। इस योजना के तहत अभी तक के अमेठी के कुम्हारों को सोलर चाक उपलब्ध कराया भी जा चुका है।

जाने किन जिलों में दिया जाएगा सोलर चाक।

इन जिलों के कुम्हारों को आत्मनिर्भर भारत योजना के द्वारा सोलर चाक दिए जाएंगे।
जिनमें सर्वप्रथम उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सम्मिलित है
तथा उसके पश्चात
अयोध्या
हरदोई,
जालौन
सीतापुर
अमेठी अमेठी में 20 कुम्हारों को अभी तक के सोलर चाक दिया भी जा चुका है।
इसके अलावा लखीमपुर खीरी
रायबरेली,
सुल्तानपुर,
उन्नाव,
फतेहपुर,
जौनपुर,
बांदा,
मिर्जापुर,
सोनभद्र
अंबेडकर नगर प्रयागराज
कौशांबी
प्रतापगढ़ बलिया में सोलर चाक जल्द से जल्द इस योजना के तहत पहुंचाए जाएंगे।

आयोग के सहायक निदेशक ए•के•मिश्रा –

आयोग के सहायक निदेशक ए•के•मिश्रा से बातचीत करने के पश्चात पता चला कि अभी तक के अमेठी में 10 नवंबर तक सोलर चाक दिए जा चुके हैं, जिनकी संख्या 20 है।

Leave a Comment