अब गांव को मिल सकेगी बिजली की परेशानियों से निजात।

अब गांव को मिल सकेगी बिजली की परेशानियों से निजात।

 

 

अब गांव के भी सभी उपभोक्ताओं को बिजली अच्छी मिल सकेगी, इन 20,000 उपभोक्ताओं को बिजली की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए विभाग ने प्रस्ताव भेज दिया है। इनको अब लो वोल्टेज तथा ट्रिपिंग की समस्या से निजात मिलेगा। उपर्युक्त उपभोक्ताओं को बिजली पहुंचाने के लिए खर्च करीब चार करोड़ आएगा।

गांव के 20,000 उपभोक्ताओं को लो वोल्टेज तथा ट्रिपिंग की समस्या को दूर करने के लिए भोजीपुरा  भुता, कानपुर भमोरा और मिर्ज़ापुर उपकेंद्र की क्षमता वृद्धि की समस्या को दूर करने की प्रक्रिया प्रारंभ की जाएगी।
यहां के उपकेंद्रों पर 33 केवी के एमबीए ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे और इन उपकेंद्रों की क्षमता वृद्धि का अभ्यास जल्द से जल्द प्रारंभ कर दिया जाएगा। इसके साथ ही यहां पर 11 केवी लिंक लाइन का भी निर्माण किया जाएगा।
ऊर्जा निगम के द्वारा बिजली की समस्या को दूर करने के लिए इसमें खर्च 4 करोड़ का आएगा।

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि इस साल के आखिरी तक बजट मिलने की उम्मीद है। यदि बजट मिल जाता है तो इन सभी जगह काम जल्द से जल्द प्रारंभ कर दिया जाएगा और काम पूर्ण होने के पश्चात इन इलाकों में निर्बाध बिजली देने में मदद मिलेगी।

सौभाग्य योजना के अनुसार इन एरिया में बड़ी तादाद में कनेक्शन दिए गए हैं बड़ी तादाद होने के कारण इन उप केंद्रों पर बिजली का लोड भी बड़ा जिससे कि हर दिन फॉल्ट होता रहता है जिससे कि उपभोक्ताओं को बिजली की समस्या हर रोज झेलनी पड़ती है। मानना है कि क्षमता वृद्धि के पश्चात इन उप केंद्रों से जुड़े 20,000 उपभोक्ताओं को बिजली की समस्या से निजात मिलेगी।

 

अधिकारियों का कहना है कि भोजीपुरा भूता, कांधरपुर, भमोरा तथा मिर्जापुर के उपभोक्ता बिजली की समस्या से बहुत दिन से जूझ रहे हैं और इन उपभोक्ताओं का कहना है कि हम बिजली से संबंधित किसी तरह का धंधा नहीं कर पाते हैं। आए दिन फॉल्ट यहां पर हुआ करते हैं जिससे कि हमें नुकसान उठाना पड़ता है और हमारे धंधे चौपट हो जाते हैं। यहाँ के सभी घरों में अभी बिजली नहीं पहुंच पाई है। इसलिए  उपकेंद्रों की क्षमता वृद्धि के साथ-साथ नये कनेक्शन की भी जरूरत है।

Leave a Comment