अब नेचुरल गैस द्वारा चलेंगे डीजल से चलने वाले वाहन पर्यावरण में अब जल्द ही आएगा सुधार।

अब नेचुरल गैस द्वारा चलेंगे डीजल से चलने वाले वाहन पर्यावरण में अब जल्द ही आएगा सुधार।

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा ) लगातार पर्यावरण की स्थिति बिगड़ती जा रही है जिससे कि लोगों पर हानिकारक प्रभाव पड़ रहा है। पर्यावरण के खराब होने का कारण अन्य कारणों के साथ-साथ एक कारण डीजल से चलने वाले वाहन भी हैं। जोकि धोए के द्वारा पर्यावरण को प्रदूषित करते हुए चलते हैं। इसलिए पर्यावरण प्रदूषण की स्थिति में सुधार लाने के लिए कुछ प्रयास किए गए।

पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड ने पूर्वांचल और मध्य उत्तर प्रदेश के 14 डिस्टिक में कंप्रेस्ड नेचुरल गैस तथा पाइप्ड नेचुरल गैस की सप्लाई के लिए टॉरेंट गैस को लाइसेंस दे दिया है।
जिनके अंतर्गत –
मुरादाबाद ,
औरैया,
कानपुर, देहात
इटावा,
बाराबंकी ,
गोंडा,
गोरखपुर,
काशी नगर
संत कबीर, नगर, अंबेडकर नगर, मऊ और बलिया आजमगढ़ सम्मिलित है।
पूर्वांचल और मध्य उत्तर प्रदेश में सीएनजी कॉरिडोर को स्वीकृति मिल गई है।
मानना है कि उपर्युक्त प्रयास से पर्यावरण में काफी हद तक सुधार आएगा और यह कार्य इसी वित्तीय वर्ष में 55 क्षेत्रों में नए सीएनजी और पंप प्रारंभ करने की कोशिश की जा रही है।

नरेंद्र कुमार के अनुसार जो कि कंपनी के एमडी हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में 45 सीएनजी पंप विभिन्न जनपदों में चल रहे हैं और अगर अन्य क्षेत्रों की बात की जाए तो अन्य क्षेत्रों में मार्च तथा अप्रैल तक 55 और पंप बढ़कर के खोलने की योजना बनाई जा रही है। इसके पश्चात 14 जिलों में यह पंप 100 हो जाएंगे।

कंपनी एलपीजी योजना पर भी कार्य करने का प्रयास कर रही है –

सीएनजी के साथ-साथ 3 जिलों में कंपनी घर-घर रसोई गैस पहुंचाने का भी प्रयास कर रही है जिसकी वर्तमान समय में वह योजना बनाने में जुटी हुई है। वह 3 जिले गोरखपुर औरैया तथा मुरादाबाद है।
और अन्य जिलों में पीएनजी पाइपलाइन की प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है।

Leave a Comment