उत्तर प्रदेश आपात सेवा की सुविधाएं और बड़ी जाने इन सुविधाओं के बारे में।

उत्तर प्रदेश आपात सेवा की सुविधाएं और बड़ी जाने इन सुविधाओं के बारे में।

उत्तर प्रदेश, ( कुलसूम फात्मा )  उत्तर प्रदेश के नंबर 112 द्वारा दी गई दी गई सुविधाओं को बढ़ा दिया गया है। अब घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं 112 नंबर पर कॉल करके अपना पंजीकरण करा सकती हैं। इसके साथ ही पंजीकरण के वक्त महिला की डिटेल 112 के सॉफ्टवेयर में दर्ज की जाएगी जिसे की आवश्यकता पड़ने पर फौरन विवरण मिल सके और सहायता की जा सके।

जिसे की आवश्यकता पड़ने पर फौरन विवरण मिल सके और सहायता की जा सके। आवाज सेवा 112 नंबर पर वर्तमान समय में तकरीबन 13 सौ विभिन्न प्रकार की हिंसा से प्रभावित महिलाएं 112 पर कॉल करके सहायता ले रहे हैं और इनमें से लगभग 800 मामले घरेलू हिंसा से ही संबंधित है।

 

जाने सवेरा योजना के जरिए –

सवेरा योजना के जरिए इससे पूर्व पूरे प्रदेश भर में तकरीबन 7 लाख बुजुर्गों का पंजीकरण कराया गया था और यह पंजीकृत बुजुर्गों 112 पर कॉल करके अपनी सारी बातें बताते थे और सहायता प्राप्त करते थे। मिशन शक्ति प्रारंभ होने के पश्चात अब घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं भी पंजीकरण कराने के लिए खास अभियान प्रारंभ कर दिया गया है।

प्रदेश में 300 महिला पीआरवी से तैयार हैं। इस पीआरवी पर सिर्फ महिला पुलिसकर्मियों की ही ड्यूटी लगाई जा रही है। इन महिला पुलिसकर्मियों को खास ट्रेनिंग भी दी जा रही है और महिलाओं के जरिए पंजीकरण कराने के पश्चात महिला पीआरवी पीड़ित महिलाओं के घर जा करके उनसे हाल पता उनका लेती है। इसके पश्चात इसमें जीपीएस लोकेशन पर उनकी तकलीफ और समस्याओं की डिटेल दर्ज करती हैं। बाद में ऐसी महिलाओं के जरिए 112 को कॉल किए जाने पर ज्यादा जानकारी देने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। शिकायत मिलते ही फ़ौरन उत्तर देने के लिए निकटतम पीआरवी वह भी महिला पीआरवी को मैसेज भेज दिया जाता है जो परिस्थितियों के हिसाब से कार्रवाई करती हैं।

Leave a Comment