उत्तर प्रदेश की सरकार अब सर्विस सेक्टर से निर्यात कर रोजगार को बढ़ावा देने के लिए उठाएगी बड़ा कदम।

उत्तर प्रदेश की सरकार अब सर्विस सेक्टर से निर्यात कर रोजगार को बढ़ावा देने के लिए उठाएगी बड़ा कदम।

 

उत्तरप्रदेश , ( कुलसूम फात्मा ) राज्य सरकार उत्तर प्रदेश निर्यात बढ़ाने के लिए अब विभिन्न पहलुओं पर चर्चा कर रही है। यूं तो सर्विस सेक्टर में निर्यात से संबंधित अभियान चैंपियन सर्विस के रूप में यूपी में प्रारंभ हो चुकी है। परंतु पूर्ण रूप से जब पॉलिसी लागू होगी तभी इसमें तेजी से रफ्तार आएगी।
क्योंकि यह सेक्टर जीडीपी निर्यात निवेश रोजगार के हिसाब से इसमें काफी संभावनाएं दिख रही हैं।

 

सरकार अब सर्विस सेक्टर पर फोकस कर शिक्षा पर्यटन स्टार्टअप मेडिकल वैल्यू ट्रेवेल्स लाजिस्टिक्स आतिथ्य अन्य सेक्टर से निर्यात को प्रारंभ करने की तैयारी में है।
इसके अनुसार सर्वप्रथम प्रोफेशनल तैयारी करने के लिए पर्यटन आतिथ्य आयुष वेलनेसस समेत कई क्षेत्रों में नए पाठ्यक्रम चलाने की योजना है। और सरकार नई पॉलिसी बनाने में खास प्रावधान कर रही है।
उत्तर प्रदेश में सेवा क्षेत्र से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए उपर्युक्त सेवाओं को चिन्हित किया जाएगा और नई निर्यात नीति के प्रारूप के अनुसार उनके विकास के लिए परिवेश तैयार किया जाएगा और इसके लिए सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा घोषित – चैंपियन सर्विसेज सेक्टर स्कीम के द्वारा पूरी तरह से प्रस्ताव तैयार कर इससे संबंधित केंद्रीय नोडल विभाग को भेज दिया जाएगा और प्रदेश के सर्वाधिक निर्यात संभावनाओं वाले सेवा एरियाज में विभिन्न विशेषज्ञों संस्थाओं कीे सहायता से क्षमता का विकास से संबंधित कई पाठ्यक्रम चलाए जाएंगे।
इसके अंतर्गत नर्सिंग, केयर गिवर्स पाठ्यक्रम , आयुष तथा वेलनेस प्रशिक्षण, तकनीकी क्षमता विकास, और पर्यटन व आतिथिेय सेवाएं और शैक्षिक सेवाएं सम्मिलित है।

 

इस निर्यात प्रोत्साहन ब्यूरो विभिन्न विभागों के समकक्ष स्थापित करके पाठ्यक्रमों को विशेषक संस्था के मध्य किया जाएगा। ऐसे क्षमता विकास प्रशिक्षण के प्रोत्साहन के लिए प्रति प्रशिक्षणार्थी आने वाले खर्च का 75% निर्यात प्रोत्साहन ब्यूरो के जरिए व्यय करेगा। जानकारी के लिए बता दें कि इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए सक्षम प्राधिकारीओं से मान्यता प्राप्त की जाएगी और सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पाने वाले अभ्यर्थी राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इससे इन प्रमाण पत्रों के जरिए अपनी सेवाएं प्रदान करने के लिए पूर्ण रूप से सक्षम होंगें।

Leave a Comment