उत्तर प्रदेश में अक्टूबर से दिसंबर के बीच पड़ रहे त्योहारों की जाने गाइडलाइन

लखनऊ – कोरोना महामारी के दौरान उत्तर प्रदेश में अक्टूबर से दिसंबर के बीच आ रहे त्योहारों के सीजन में जाने कैसे मनाए जाएंगे त्यौहार तथा क्या होगी गाइडलाइन। आपको बता दें कि रामलीला तथा दशहरा जैसे त्योहारों के लिए सामूहिक गतिविधियां यदि किसी बंद स्थान या हाल, कमरे में होती हैं तो उसकी निर्धारित क्षमता कम से कम 50% तथा 200 व्यक्ति अधिकतम वह भी फेस मास्क और शारीरिक दूरी, थर्मल स्क्रीनिंग, सेनिटाइजेशन और हैंड वॉश कर के शामिल हो सकेंगे अन्यथा नहीं।

सरकार ने आ रहे त्यौहार को मनाने की जहां अनुमति दी है वहीं दूसरी ओर गाइडलाइन को फॉलो करने का भी यकीन जताया है। गाइडलाइन के अंतर्गत सरकार ने यह भी बताया कि त्यौहार की गतिविधियां यदि खुले स्थान या फिर मैदान में होती हैं तो उसके क्षेत्रफल के हिसाब से कोरोना महामारी से बचाव के लिए प्रोटोकॉल का पालन करना आवश्यक होगा।

कोरोना महामारी से बचाव और नियंत्रण के लिए शुक्रवार को यूपी के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने तथा केंद्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय ने दिशा-निर्देश देते हुए गाइडलाइन जारी की।

गाइडलाइन के अंतर्गत वह लोग होंगे कौन और गाइडलाइन में क्या होगी सख़्ती

गाइडलाइन के अंतर्गत आने वाले व्यक्ति

  1. 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के व्यक्ति 
  2. गंभीर रोगों से जूझ रहे लोग 
  3. गर्भवती महिलाएं 
  4. 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों  को घर पर रहने की सलाह दी गई है 
  5. साथ ही आयोजक और प्रबंधक के कर्मीकों के लिए भी यह गाइडलाइन पूर्ण रूप से लागू होगी।
  6. आइसोलेट करने के लिए प्रत्येक आयोजन स्थल पर एक आइसोलेशन कक्ष की भी व्यवस्था की जाएगी 
  7. 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए थर्मल स्कैनिंग तथा सैनिटाइजेशन में  सुविधा हो, इसलिए कार्यक्रम स्थल पर अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर थर्मल स्कैनिंग उपकरणों की पर्याप्त आपूर्ति होगी तथा शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए फर्श पर गोले भी बनाए जाएंगे ताकि प्रवेश द्वार पर ही हैंडसैनिटाइज और स्कैनिंग की जा सके।
  8. कार्यक्रम स्थल पर प्रवेश के लिए तथा विकास के लिए अलग-अलग जितने हो सकेंगे रास्ते होंगे जिससे कि शारीरिक दूरी बनी रहे।
  9. सार्वजनिक स्थानों पर थूकने की सख़्ती होगी
  10. धार्मिक आयोजन के लिए नोएडा व लखनऊ में पुलिस कमिश्नर और, अन्य जिलों में डीएम की पहले अनुमति लेना अनिवार्य होगी।

गाइडलाइन में इनका भी रखना होगा ख्याल

  • सभी को आरोग्य सेतु एप का प्रयोग करने की सलाह दी गई है।
  • स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था के साथ-साथ गिलास डिस्पोजल कप को सही तथा उचित स्थान पर फेंका जाए जिससे की सफाई बनी रहे।
  • दरवाजों के हैंडल बटन, लिफ्ट के बैरिकेङ्क्षडग, सीट, बेंच, वॉशरूम के हैंडल तथा टोटी आदि की सफाई  विसंक्रमित की जाएगी। 
  • सामूहिक खानपान और लंगर में शारीरिक दूरी को बनाए रखना होगा।
  • गाइड लाइन में सबसे आवश्यक महत्वपूर्ण बात यह होगी कि एयर कंडीशनर का टेंपरेचर 24 से 30 डिग्री सेल्सियस और यूनिटी रेंज 40 से 70% के बीच रखनी होगी।
  • स्थलों पर शारीरिक दूरी तथा मास्क पहनने के नियमों की निगरानी के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएंगे।
  • यदि हम आयोजकों की बात करें तो उनको पर्याप्त मैनपावर तैनात करना होगा तथा स्टाफ के लिए फेस कवर, मास्क, हैंड, सैनिटाइजर, साबुन, सोडियम, हाइपोक्लोराइट आदि की भी व्यवस्था पूर्ण रूप से करनी पड़ेगी।
  • लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए कार्यक्रम स्थल पर कोरोना महामारी से बचाव के लिए उपाय से संबंधित पोस्टर तथा बैनर लगाए जाएंगे जिससे कि लोग जागरूक हो सके और यथासंभव जितना हो सके स्पर्श रहित रहे और कार्यक्रम स्थलों पर क्या किया जाए और क्या नहीं उस बैनर के अंतर्गत सारे दिशा निर्देश होंगे। जिले में हर आयोजन स्थल पर सार्वजनिक रूप से प्रचार प्रसार के लिए पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम का इस्तेमाल भी अधिक से अधिक किया जाएगा।
  • मूर्तियों की स्थापना पारंपरिक तो की जाएगी परंतु खाली स्थान पर होगी जिसका आकार छोटा होगा और चौराहों तथा सड़क पर कोई मूर्ति या ताजिया नहीं रखा जाएगा। मूर्तियों के विसर्जन में यथासंभव छोटे वाहन इस्तेमाल किए जाएंगे और इसमें कम से कम लोग ही शामिल होंगे 
  • जो व्यक्ति उपर्युक्त गाइडलाइन को फॉलो नहीं करेंगे उनके लिए भुगतान करने की भी व्यवस्था की जाएगी।

जाने त्योहारों के संबंध में

  1. 17 अक्टूबर, शारदीय नवरात्र 
  2. 23 अक्टूबर, महाअष्टमी 
  3. 24 अक्टूबर ,महानवमी 
  4. 25 अक्टूबर ,विजय दशमी अर्थात दशहरा
  5. 30 अक्टूबर, 12 वफात 
  6. 31 अक्टूबर वाल्मीकि जयंती 
  7. 12 नवंबर, धनतेरस 
  8. 13 नवंबर, छोटी दीपावली
  9. 14 नवंबर, दीपावली 
  10. 15 नवंबर , गोवधर्न पूजा 
  11. 16 नवंबर ,भैया दूज 
  12. 20 नवंबर छठ पूजा।

Leave a Comment