उत्तर प्रदेश में 19 अक्टूबर से खुलने जा रहे हैं कक्षा 9 से 12 के विद्यार्थियों के लिए विद्यालय

जैसा कि हम सभी जान रहे हैं कि बीते 7 महीनों से देशभर के सभी शिक्षा संस्थान बंद रखे गए थे मौजूदा समय के बढ़ते कोरोना महामारी संक्रमण को रोकने हेतु। हालांकि अब जब कोरोना से संक्रमित होने वाले मरीजों की संख्या घटती जा रही है तो देशभर में अनलॉक 5.0 के तहत सभी बंद सेवाओं को धीरे धीरे खोला जा रहा है।

इसी दरमियान जितने भी शिक्षा संस्थान हैं उन्हें भी खोलने को लेकर अलग अलग राज्य में बैठकें की जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार आगामी 19 अक्टूबर से उत्तर प्रदेश के सभी विद्यालयों को कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए खोला जा रहा है। हालांकि इस दौरान विद्यालयों में मौजूद सभी शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को कुछ नियमों का पालन करना होगा।

यूपी अनएडेड स्कूलस असोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार मौजूदा परिस्थिति में जब स्कूलों को खोला जा रहा है तो ऐसे में छात्रों के बैठने की व्यवस्था ठीक उसी प्रकार की जाएगी जैसे परीक्षा के दौरान कक्षाओं में की जाती है। जिसका मतलब यह है कि जिस प्रकार परीक्षा के दौरान कक्षा में मौजूद सभी बेंचों पर छात्र एवं छात्राओं के नाम तथा उनके क्रमांक लिखे जाते थे ठीक उसी प्रकार अब भी सभी बेंचों पर छात्रों के नाम एवं क्रमांक लिखे जाएंगे जिसके अनुसार सभी छात्रों को कक्षा में बैठना होगा। 

 कैसे संचालित की जाएगी विद्यालय

  • मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें 19 अक्टूबर से खुलने जा रहे सभी स्कूलों को दो पालियों में बांटा जाएगा जिसकी समय सीमा  प्रातः 8:00 से 11:00 तथा दोपहर में 12:00 से 3:00 निर्धारित किया गया है।
  • सभी छात्रों को मास्क पहनकर विद्यालय में प्रवेश करने दिया जाएगा। बिना मास्क पहने छात्रों के प्रवेश पर वर्जित लगा दिया गया है।
  •  स्कूलों में प्रवेश हेतु दो द्वार खुले रखे जाएंगे।
  • प्रवेश करने के दौरान सभी छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।
  •  सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करवाने हेतु 50 मीटर के दायरे पर गोल सर्कल बनाए जाएंगे जिसमें छात्रों को खड़ा होना होगा। ऐसा करके स्कूल प्रबंधन की ओर से सभी छात्रों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाया जाएगा।
  •  दोनों पालियों में आने वाले  अलग-अलग विद्यार्थियों की रिकॉर्ड तैयार की जाएगी जिसके तहत यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कौन सा विद्यार्थी किस पाली में विद्यालय में उपस्थित रहा है।
  • इन सबके अलावा जो बात सबसे मुख्य रूप से सभी विद्यार्थियों को माननी होगी वह यह कि सभी छात्र एवं छात्राओं को अपनी-अपनी पुस्तक एवं अन्य सामग्री का इस्तेमाल करना होगा। किसी भी विद्यार्थी को किसी दूसरे विद्यार्थी के पुस्तक या पेंसिल या कलम इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

इन सबके अलावा सभी स्कूलों में सैनिटाइजेशन टनल भी बनाने का प्रावधान किया जा रहा है।

हालांकि एडेड स्कूलों की ओर से इन सारी व्यवस्थाओं को लेकर आपत्ति जताई जा रही है। उनका कहना है कि स्कूल प्रबंधन के पास इतना बजट नहीं हैं जिसकी मदद से  यह सारी व्यवस्था जिसमें सैनिटाइजेशन भी शामिल है सुनिश्चित की जा सके। 

मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि आगामी 19 अक्टूबर को सभी विद्यालयों के खुलने से पहले 17 एवं 18 अक्टूबर को सभी विद्यालयों की जांच की जाएगी यह सुनिश्चित करने के लिए कि  प्रशासन द्वारा सभी दिए गए दिशा-निर्देशों का सही तरीके से पालन किया जा रहा है या नहीं। जांच पूर्ण रूप से संपन्न होने के बाद ही विद्यालयों को खोलने दिया जाएगा।

Leave a Comment