ऊर्जा मंत्री के कदमों पर चलेंगे अब बिजली विभाग के इंजीनियर, 16 नवंबर से प्रारंभ हुई सख्त कार्रवाई ।

ऊर्जा मंत्री के कदमों पर चलेंगे अब बिजली विभाग के इंजीनियर

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  उपभोक्ता बिजली का इस्तेमाल अच्छी तादाद में कर रहे हैं परंतु बिजली का बिल देने से भागते हैं। यहां तक के घरों में भी जो बिजली इस्तेमाल हो रही है, वह उपभोक्ता भी बिजली का बिल जमा करने में दिलचस्पी नहीं लेते। इन बिजली की बकाया राशि को वसूलने के लिए उपकेंद्र से अभियंता घर-घर जाकर उपभोक्ताओं से बिजली की बकाया राशि को वसूलेगे

इस दौरान वह बिजली की राशि न जमा करने का कारण पूछने के पश्चात उनसे जितनी भी राशि निकलवा पाएंगे, वह निकलवा आएंगे। और इस रणनीति में यह तय किया गया है कि बिजली के कनेक्शन को काटने का कार्य सबसे आखिर में किया जाएगा।

इस बिजली की राशि को वसूलने के लिए ऐसा नहीं है कि इतनी ज्यादा सख्ती बरती जाएगी की राशि बकाया होने पर सीधा कनेक्शन काट दिया जाए। नहीं, ऐसा नहीं किया जाएगा बल्कि कनेक्शन काटने का ऑप्शन सबसे अंतिम में रखा गया है।

ऊर्जा मंत्री ने बकाया राशि को वसूलने के लिए अभियंताओं को सख्ती से निर्देश दिए। यह अभियंता बिजली की बकाया राशि को अपने क्षेत्रों में जाकर के वसूलेगे और जितनी भी सहूलियत,उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध कराई गई है। वह देंगे।

मध्यांचल के एमडी सूर्यपाल गंगवार ने बताया –

मध्यांचल के एमडी सूर्यपाल गंगवार ने बताया कि लेसा में कम से कम हजारों बकाएदार आज भी है। इन बकाएदारों के घर घर जाकर के बिजली का बिल वसूला जाएगा और कनेक्शन काटने का अंतिम निर्णय होगा। उपभोक्ता लाखों का बिजली बिल किस्तों में यदि जमा करना चाहते हैं तो उनसे बातचीत करके इस राशि को किस्तों में बांटा जाएगा। और इन किस्तो को नियम के अनुसार दो या तीन किस्तों में ही बांटा जाएगा।

इसके निर्देश सभी अधिशासी इंजीनियर और उपखंड अधिकारी को दे दिए गए हैं। आंकड़ों के मुताबिक कम से कम 27000 से अधिक लोग ऐसे हैं जिनके बिजली की बकाया राशि है और इनमें से ऐसे उपभोक्ता हैं जिन पर एक लाख तथा उससे भी अधिक राशि बकाया है। इस राशि के वसूलने का कार्य मानना है की 31 दिसंबर तक समाप्त कर दिया जाएगा।

Leave a Comment