एलडीए से बिजली आपूर्ति के लिए मांगी गई जमीने, जमीने ना मिली तो क्या होगा जाने ?

एलडीए से बिजली आपूर्ति के लिए मांगी गई जमीने, जमीने ना मिली तो क्या होगा जाने ?

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा ) उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गोमती नगर क्षेत्र  को एलडीए ने कुछ समय पहले बसाया था और जब बसाया था तो यहां की आबादी उस समय कुछ खास नहीं थी परंतु वक्त के ही यह आबादी बड़ी और इतनी बड़ी कि यहां पर बिजली की आपूर्ति पूर्ण रूप से संभव नहीं हो पा रही है। इस आबादी की तादाद के कारण विश्वास खंड विभूति तथा विशेष खंड की बिजली घर में इतना पावर नहीं है कि अगर कोई बड़ा कनेक्शन ले तो उसे दिया जा सके और अगर विकासनगर की बात की जाए तो बिल्कुल यही हाल वहां का भी है।

लखनऊ के गोमती नगर क्षेत्र में इतनी अधिक आबादी हो गई है कि वहां पर बिजली की आपूर्ति सभी घरों में नहीं पहुंच पा रही है और दिन पर दिन यह डिमांड बढ़ती ही जा रही है। अंदाजा यह लगाया जा रहा है कि यदि 2021 की गर्मी से पूर्व यदि बिजलीघर नए नहीं बनते हैं तो इन चार बिजली घरों से तकरीबन 5 लाख से अधिक उपभोक्ता परेशान होकर के बिजली से वंचित हो जाएंगे।

अभियंताओं से जब बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि पहले तो लोगों के यहां पंखे हुआ करते थे। पंखोे के बाद अब कुलर ने स्थान ले लिया। लेकिन अब हर एक घर में ऐसी होना भी जरूरी है जिसके कारण बिजली आपूर्ति होने में दिक्कतें आती है।

उन्होंने बताया कि गोमतीनगर के तीनों बिजली घरों में वर्तमान समय में पावर ट्रांसफार्मर लगा दिया गया है जिससे कि उसकी क्षमता बढ़ाई जाए परंतु अब जरूरत नए बिजलीघर की है जिससे उपभोक्ताओं के बिजली कनेक्शन को दूसरे बिजली घर में जोड़ा जा सके।

यही हाल यदि विकासनगर की बात की जाए तो वहां का भी यही हाल है। अब बिजली विभाग आवास विकास से जमीन मांग रहा है, जो मिल नहीं रही है जमीन मिल जाए तो विभाग प्लान करेगा कि सभी घरों में बिजली आपूर्ति उपलब्ध कराई जा सके यदि बिजली घर बनवाने के लिए जमीने ना मिली तो लखनऊ की पांच लाख आबादी इसी तरीके से बिजली से संबंधित समस्याओं का सामना आने वाले समय में भी करती रहेगी।

Leave a Comment