कोरोना वैक्सीन का हो गया है प्रबंध, परंतु मास्क से नहीं मिलेगा फिर भी छुटकारा।

कोरोना वैक्सीन का हो गया है प्रबंध, परंतु मास्क से नहीं मिलेगा फिर भी छुटकारा।

 

बता दे अब मार्केट में वैक्सीन जल्द ही उपलब्ध होगी, लेकिन बता दे की वैक्सीन लगाने के पश्चात भी मास्क से छुटकारा नहीं मिलेगा,  वैक्सीन लगाने के बाद भी लोगों को मास्क का प्रयोग करते रहना होगा।

मास्क को लंबे समय तक के लगाना पड़ सकता है। प्रोटोकॉल से लोगों को सबसे अंत में निजात मिल सकती है। यह बातें इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव से बातचीत करने के पश्चात पता चली।

डॉ बलराम ने बताया की वैक्सीन के निर्माण में अभी तक भारत तेजी से आगे बढ़ता नज़र आ रहा है और अगले वर्ष तक जुलाई में 30 करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके पश्चात आगे की रूपरेखा भी तय की जाएगी।

उन्होंने कहा कि भारत केवल अपने ही नहीं बल्कि 60% विकासशील देशों के लिए भी वैक्सीन विकसित कर सकेगा। यहां पर 24 मैन्युफैक्चरिंग तथा 19 कंपनियों में कार्य होगा। कोरोना के हराने के लिए भारत में आईसीएमआर ने प्लाज्मा ट्रायल और बीसीजी टीके का ट्रायल कराया है। बीसीजी टीके में प्रारंभिक जो परिणाम आया वह सकारात्मक रूप से देखा गया और मरीजों में एंटीबॉडी भी पाई गई। इससे संबंधित पूरी रिपोर्ट आने के पश्चात आगे कुछ कहा जा सकेगा।

मास्क से आखिर क्यों नहीं मिलेगी निजात जाने विस्तार से?

देशवासियों को जल्द से जल्द कोरोना से बचाव की वैक्सीन मिल जाएगी। वैक्सीन लगने के पश्चात भी मास्क को किसी भी तरीके से नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। अगर वर्तमान समय की बात की जाए तो अभी भारत में पांच वैक्सीन पर ट्रायल चल रहे हैं और दो वैक्सीन इन में भारतीय तथा तीन विदेशी हैं। कोरोना को हराने के लिए हम जो जुस्तजू कर रहें हैं , इसको खत्म करने के लिए केवल वैक्सीन ही काफी नहीं होगी। बता दें की वायरस की इस चेन को तोड़ने के लिए क्विट प्रोटोकॉल का पालन पूर्ण रूप से किया जाना आवश्यक होगा। नहीं तो दोबारा लॉकडाउन की जरूरत पड़ जाएगी।

 

संक्रमित मरीजों से जंग करने के पश्चात इन लोगों को एंटीबॉडी मास्क लगाना आवश्यक होगा। इससे वायरस की चेन तोड़ने में सहायता मिलेगी। महानिदेशक ने बताया की देश में कोरोना के वर्तमान में मामले बढ़ते जा रहे हैं और लॉकडाउन जैसी स्थिति आती जा रही है। इसलिए मास्क लगाना ना भूलें और सोशल डिस्टेंसिंग का पूर्ण रुप से पालन करें।

Leave a Comment