ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  अभी तक कि शहरी क्षेत्रों में लघु स्तरीय योजना को टीकाकरण के लिए तैयार किया जा रहा था, परंतु अब ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी इस योजना को तैयार किया जाएगा। जिससे कि वहां पर भी टीकाकरण की प्रक्रिया को प्रारंभ किया जा सके।

 

 

 

आपको बता दें कि प्रदेश के तकरीबन 75 डिस्ट्रिक्ट में केवल दो ही जिले ऐसे जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है बाकी जिलों में जैसे कि लखनऊ तथा अन्य ब्लॉक में कंट्रोल रूम बन गया है। यह 2 जिले जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है वह कानपुर देहात तथा लखनऊ है।

बाकी सारी ब्लॉकों में वर्तमान समय में कंट्रोल रूम बन चुके हैं। तकरीबन 59 जिले ऐसे हैं जहां पर ब्लॉक टास्क फोर्स का भी गठन किया जा चुका है। शामली डिस्ट्रिक्ट को यदि छोड़ दे तो तकरीबन 74 डिस्टिक के ब्लॉक में फ्रंट लाइन वर्क की ऑपरेशनल गाइडलाइन के जरिए ब्लॉक लेवल ट्रेनिंग भी पूर्ण की जा चुकी है।

 

 

इसके साथ ही वैक्सीन की हिफाजत के लिए ब्लॉक मुख्यालयों तक के पहुंचाने तथा वहां उसे पूरी तरीके से सेफ रखने के लिए व्यवस्था की जा चुकी है। और प्रैक्टिस भी अब तक के अधिक ब्लॉकों में पूर्ण की जा चुकी है।  विभागीय अधिकारियों ने बताया की कोरोना के टीकाकरण के लिए ग्रामीण इलाकों में ब्लाक मुख्यालयों पर व्यवस्था को अच्छी तरीके से किया गया है। जिस आसपास के ग्रामीण इलाकों को वैक्सीन लगाई जाएगी वहाँ शहरी एरिया की तरीके से ब्लॉक में भी पूर्व फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके लगाए जाएंगे।

 

 

 

इसके बाद वह लोग जो कि 50 साल से अधिक है और रोग से ग्रसित हैं। उनको तैयार की गई सूची के जरिए अलग-अलग डेट में टीकाकरण सेंटर पर बुलाकर के टीका लगवाया जाएगा। शहरी क्षेत्र के तरीके से ही ब्लॉकों के वैक्सीनेशन सेंटर भी बनए जएगे ये टीकाकरण सेन्टर ग्राम के शहर के तरह होंगे ये कमरे 3 होंगे , जिसमें टीका के सारे प्रोटोकॉल को पूरा करते हुए टीके लगाए जाएंगे।

Leave a Comment