जारी किया गया निर्देष, हाथरस के दोषियों को दी जाएगी सजा, गठित की गई एसआईटी टीम

हाथरस में पीड़िता को न्याय दिलाने हेतु बढ़ता जन आक्रोश देख योगी सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी की टीम गठित कर दी है। गौरतलब है कि मंगलवार सुबह जब पीड़िता ने सफदरगंज अस्पताल में अपनी आखिरी सांसें ली तब से लेकर अब तक लोगों के बीच काफी ज्यादा इस मामले को लेकर गुस्सा देखने को मिल रहा है।  लोगों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके इस्तीफे तक की मांग कर दी थी।

बिगड़ते हालातों को देखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस  पूरे घटने की जानकारी ली और साथ ही साथ दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के निर्देश भी दिए। मिली जानकारी के अनुसार गृह सचिव भगवान स्वरूप की अध्यक्षता में 3 सदस्य कमेटी गठित की गई है जिसमें पुलिस उपमहानिरीक्षक चंद्रप्रकाश और सेना नायक पीएसी आगरा पूनम सदस्य होंगे।

राज्य सरकार के सचिव द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात करने के दौरान योगी आदित्यनाथ ने उन्हें एसआईटी टीम गठित करने की जानकारी साझा की और साथ ही साथ यह आश्वासन भी दिलाया कि उनकी सरकार किसी भी अपराध के खिलाफ जिरो टॉलरेंस की नीति अपनाती है। साथ ही साथ उन्होंने यह जानकारी भी साझा की की इस घटना को राज्य सरकार फास्ट ट्रैक कोर्ट  में चलाते हुए इस घटना में शामिल सभी आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाएगी। उन्होंने प्रधानमंत्री को यह सूचना भी दी कि इस घटना से जुड़े सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और अब सरकार उन दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाने की पूरी कोशिश करेगी।

आपको बता दें तीन सदस्य एसआईटी की टीम गठित करने के साथ-साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन्हें 7 दिन के अंदर अंदर जांच की रिपोर्ट सौंपने के निर्देश भी जारी किए हैं।

Leave a Comment