दीपावली में आतिशबाजी रोक पर उठे सवाल लखनऊ के व्यापारियों की दुकानें बंद।

दीपावली में आतिशबाजी रोक पर उठे सवाल लखनऊ के व्यापारियों की दुकानें बंद।

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा ) उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के प्रसिद्ध लोहिया व्यापार सभा के प्रदेश अध्यक्ष के साथ नगर के पदाधिकारियों ने उत्तर प्रदेश की राज्यपाल से पटाखा बेचने की अनुमति दी जाए, यह अनुरोध किया और ये पटाखा बेचने की अनुमति एक ज्ञापन द्वारा मांगी गई।

और कहा गया कि व्यापारियों को अधिक लाभ त्योहारों पर ही होता है जिसमें दीपावली के मौके पर व्यापारी पटाखे बेचकर लाभ प्राप्त करते हैं, परंतु सरकार ने इस बार पटाखों की बिक्री पर ही रोक लगा दी जिससे व्यापारियों को नुकसान पहुंच रहा है।

राजधानी लखनऊ शहर के व्यापारियों ने व्यापारियों के मुद्दे को लेकर के उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को ज्ञापन सौंपा और व्यापारियों से संबंधित मुद्दों पर सवाल उठाए। प्रदेश अध्यक्ष रामबाबू रस्तोगी के साथ पदाधिकारियों ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को ज्ञापन में कहा कि आतिशबाजी बेचने का कारोबार करने वाले छोटे तथा बड़े व्यापारियों की साल भर की आमदनी का जरिया दीपावली ही होती है और भी जो त्यौहार आते हैं, उनमें व्यापारियों को अधिक लाभ प्राप्त हो पाता है।

और यह छोटे बड़े व्यापारी दीपावली के मौके पर घरों के जेवर गिरवी कर बाजार में पटाखे के व्यापार पर लगाते हैं।और वहीं दूसरी तरफ व्यापारियों से संबंधित घटनाएं भी काफी ज्यादा घटित हो रही हैं। व्यापारियों से लूट की घटनाएं सामने आ रही हैं। उनको अभिलंब शस्त्र लाइसेंस दिलाया जाए जिससे कि उनको व्यापार में सहायता मिले।

और वह व्यापारी जिनका केवल पांच से ₹10000 ही दुकानों का टैक्स बाकी है। उन दुकानों को भी नगर निगम सील कर चुका
पिछले दिनों लखनऊ के नगर निगम अधिकारियों ने दुबग्गा के व्यापारियों की दुकानें जबरदस्ती बंद कर दी। वह आए और उन्होंने शटर गिरा कर के उन को सील कर दिया। जबकि पुरनिया के दुकानदारों से उनकी दुकानों को अवैध बताकर 1 सप्ताह में ही सिर्फ दुकानें खाली करने को कहा गया,और यह दुकाने जबकि 35 साल पुरानी हो चुकी हैं।

 

अब यह व्यापारी सर पकड़ कर बैठ गए हैं। दुबग्गा पावर हाउस में लाइनमैन तथा इस्टीमेट के नाम पर हजारों की अवैध वसूली करी जा रही है एक तरफ उनको उनको व्यापार से लाभ प्राप्त नहीं हो रहा है। दूसरी तरफ जुर्माने पर जुर्माना भरना पड़ रहा है। स्मार्ट मीटर में खेल कई गुना किया जा रहा है जितने की बिजली जलती नहीं उससे अधिक बिल व्यापारियों को देना पड़ रहा है।और गलत बिल की शिकायत पर बिजली कनेक्शन काटकर व्यापारियों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई जा रही है।

Leave a Comment