कोरोना महामारी के पश्चात भी भीमराव अंबेडकर में नहीं रूका शिक्षा प्रदान करने का कार्य।

भीमराव अंबेडकर में नहीं रूका शिक्षा प्रदान करने का कार्य।

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा ) लखनऊ के भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय में सामाजिक न्याय से संबंधित जानकारी प्रदान करने का कार्य नहीं रुका कोरोना महामारी के कारण यह कार्य ऑनलाइन प्रारंभ कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के छात्रों को यह जानकारियां ऑनलाइन प्रदान की जा रही है।
इन विद्यार्थियों को ऑनलाइन समाज से जोड़ा जा रहा है।

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में सामाजिक न्याय तथा कर्तव्य से संबंधित जानकारियां विद्यार्थियों को ऑनलाइन प्रदान की जा रही है। संयोजक सदस्य डॉ अनीस अहमद से वार्तालाप करने के पश्चात पता चला कि यह शिक्षा मानसिक विकास के साथ ही अधिकारों को समझने के लिए भी होती हैं।
इस तरह से विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को न्याय मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार प्रतियोगिताएं आयोजित करके जानकारियां दी जा रही हैं और उनको पर्यावरण अनुकूल बनाने के साथ-साथ विद्यार्थियों को सामाजिक कड़ी से भी जोड़ा जा रहा है।

जाने विश्वविद्यालय में पीएचडी की काउंसलिंग होगी कब से प्रारंभ है ।

अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में पीएचडी की काउंसलिंग जल्द ही प्रारंभ हो जाएगी। सोमवार को कई विभागों में काउंसलिंग प्रारंभ कर दी गई है
यह काउंसलिंग सुबह 11:00 बजे से प्रारंभ हो गई तथा काउंसलिंग के पूर्व ही विद्यार्थियों के आने का सिलसिला प्रारंभ हो गया था देखा गया कि विद्यार्थी पूरी तरीके से काउंसलिंग के लिए तैयार होकर आए हैं।
कोरोना महामारी के फैलने के पश्चात इन विद्यार्थियों की संख्या देखने के बाद आभास हुआ कि यह विद्यार्थी भी अब यह मान चुके हैं कि महामारी समाप्त नहीं होगी इसलिए अब शिक्षा प्राप्त करने का कार्य अब प्रारंभ कर दिया जाए। इन विद्यार्थियों की सुरक्षा कर्मचारियों ने जांच की उसके पश्चात ही इनको विद्यालय में जाने दिया।

Leave a Comment