ब्रिटेन में निकले कोरोना का खौफ – लखनऊ ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश में फैला , बच्ची में मिला यह नया वायरस, सरकार ने दी चेतावनी।

बच्ची  में मिला  नया वायरस, सरकार ने दी चेतावनी।

 

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )   अभी उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी से निजात मिल नहीं पाई थी की ब्रिटेन में एक और कोरोना वायरस निकल आया जिसका खोफ़ लखनऊ के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश में फैला है।   हमने अभी तक तो सुना था की ब्रिटेन में नए कोरोना वायरस ने जन्म लिया है परंतु उत्तर प्रदेश की 2 साल की बच्ची जब से संक्रमित मिली है प्रदेश में खोफ़ फैल चुका है। कोरोना के बदले स्ट्रेन का यूपी में यह प्रथम मामला सामने आया है जिससे लोग डर गए हैं।

 

इस कोरोना वायरस से बचने के लिए अधिकारियों तथा पैरामेडिकल स्टाफ के लिए खास करके एडवाइजरी भी अलर्ट जारी कर दी गई है। जिसमें यह कहा गया है की वह बदले स्ट्रेन को लेकर पूरी तरीके से सचेत रहें और अस्पतालों को भी हाई अलर्ट कर दिया जाए। मरीजों को अलग आइसोलेशन वार्ड में एडमिट कर दिया जाए और कहां गया जो विदेश से लोग लौट रहे हैं उनको तकरीबन 28 दिन तक के घर में ही रहने के लिए कहा जाए। Rt-pcr रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद भी उन्हें घर में ही रहना होगा, विदेश से लौटे यात्री घर पर ही मास्क लगाकर के कुछ दिन तक के वक्त बिताएंगे

 

इसके साथ ही घरवालों से कम से कम वह मिलगें साथ ही यदि उनको सर्दी और बुखार या फिर दूसरे लक्षण उनमें दिखते हैं तो संक्रमित व्यक्ति को फौरन कंट्रोल सेंटर को भेजें दिया जाए। विदेश से लौटे सभी यात्रियों पर पूर्ण रूप से निगरानी रखी जाए।   उन पर पूर्ण रूप से नजर रखी जाए। निर्देश दिए गए इसके साथ ही हर हाल में आरटी पीसीआर जांच अवश्य कराई जाए।

 

 

इस स्ट्रेन वाले मरीजों को अलग से आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा और उन पर सख्त नजर भी रखी जाएगी साथ ही निर्देश में कहा गया की जिनोम सीक्वेंसिंग भी अवश्य कराई जाए।  डिपार्टमेंट ने यह भी निर्देश दिए हैं की यदि किसी मे नये स्ट्रेन का पता चलता है तो फौरन पूरी तरीके से वार्ड में रखकर इसकी सूचना विभागीय मुख्यालय तथा नियंत्रण कक्ष को दे दी जाए।

 

 

जाने ब्रिटेन से आए हैं कितने लोग –

 

आपको बता दें की ब्रिटेन से उत्तर प्रदेश लोग अभी तक के 565 आ चुके हैं और वह लापता भी है। इनको ढूंढा नहीं जा सका है। हालाकि बुधवार को 5 लोगों की पहचान की गई तो उनके सैंपल लिये गये और जांच के लिए सीएसआईआर दिल्ली को भेज दिया गया है।

 

इस बीच में स्वस्थ स्वास्थ्य विभाग ने ब्रिटेन से लौटे हुए लोगों को पता लगाने के लिए मंगलवार को कई जगह पर पूछताछ भी की, लेकिन अभी तक उनका पता नहीं चल पाया है। दिसंबर की 9 तारीख के पश्चात प्रदेश में आए हुए इन लोगों ने अधिकतर मोबाइल स्विच ऑफ कर दिये हैं और मोबाइल नॉट रिचेबल बता रहे हैं। लोगों से स्वास्थ्य विभाग का संपर्क तक नहीं हो पा रहा है।

Leave a Comment