मध्यवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले सत्येंद्र ने इंडियन आइडल के टॉप 30 में बनाई अपनी जगह

लखनऊ: किसी ने बिल्कुल सही कहा है अगर आपके अंदर वह हुनर या काबिलियत हो और अपनी जिंदगी में कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो कोई भी मुसीबत या परेशानी आप के रास्ते का रोड़ा नहीं बन पाती है।

इस बात को सच कर दिखाया है लखनऊ शहर के एक मिडिल क्लास फैमिली से ताल्लुक रखने वाले सत्येंद्र आर्य ने जिन्होंने इस साल ऑनलाइन आयोजित हुई इंडियन आईडल सीजन 12 के ऑडिशन में ना केवल हिस्सा लिया बल्कि अपनी जगह टॉप 30 में सुनिश्चित भी कर ली।  

एक समाचार पत्रिका से बातचीत के दौरान उन्होंने अपनी जिंदगी के सफर को साझा करते हुए कई दिलचस्प और रोचक बातें सामने रखी। आइए नजर डालते हैं कुछ उन्ही बातों पर-

 

संगीत से रहा था बचपन से ही लगाओ

सत्येंद्र आर्य – मेरे मां और पिता जी दोनों की गाते थे। पिता जी जागरण और कीर्तन में भी गाते थे। मुझे उनको सुनना बड़ा अच्छा लगता था। इस वजह से मेरा भी बचपन से संगीत जुडाव रहा। फिर जैसे- जैसे बड़ा हुआ शौक भी बढ़ता चला गया। बाद में मैंने भी जागरण और कीर्तन में गाना शुरू कर दिया था।

 

पहले भी कई मंचों में दे चुके हैं प्रस्तुति

सत्येंद्र आर्य – मैंने भातखंडे में दाखिला लिया। यहां मेरे गुरु जयकिशन श्रीवास्तव जी थे। उनसे मैंने संगीत की तालीम ली। फिर मैं कई प्रोग्राम करने लगा। शहर के एक प्रतिष्ठित स्कूल में मुझे बतौर म्यूजिक टीचर नौकरी मिल गई थी। उसके बाद मैंने लखनऊ में भी कई मंचों पर प्रस्तुति दी।

 

मिला है मौका कार्यक्रम के प्रमुख जजों के सामने प्रस्तुति देने का

सत्येंद्र आर्य – इस बार इंडियन आइडल का ऑडिशन ऑनलाइन हुआ। तीन राउंड पास करके मैं अब मुंबई पहुंच चुका हूं। यहां मुझे गुरुवार को मुख्य जज के सामने प्रस्तुति देनी है।

आपको बता दें सत्येंद्र ने ऑनलाइन आयोजित हुई ऑडिशन के तीनों राउंड को पार कर ना केवल अपनी जगह बनाकर मुंबई पहुंचे हैं बल्कि अब आने वाले गुरुवार में उन्हें इस शो के मुख्य जजों के सामने अपनी कला को पेश करने का मौका भी मिलेगा।

Leave a Comment