योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश के शिक्षकों के लिए लिया अहम फैसला।

योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश के शिक्षकों के लिए लिया अहम फैसला।

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   उत्तर प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश के सरकारी कॉलेजों में शिक्षकों की भर्ती के लिए मुहर लगा दी है। अब इन शिक्षकों की रिक्रूटमेंट स्टेट एजुकेशन सर्विस सिलेक्शन कमिशन करेगा।

 

 

जी हां अब यूपी के गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज तथा गवर्नमेंट इंटरमीडिएट कॉलेज के शिक्षकों की रिक्रूटमेंट अब स्टेट एजुकेशन सर्विस सिलेक्शन कमिशन को जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार के दिन उच्च स्तरीय मीटिंग में इस बाबत अपनी सहमति दे दी है। अब उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग तथा उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड की जगह पर प्रस्तावित राज्य शिक्षा सेवा चयन आयोग स्थान लेगा।

 

बता दें की अभी तक के यथा प्रस्तावित आयोग के जरिए से सिर्फ मदद पाकर के डिग्री कॉलेजों तथा मदद पाकर के इंटरमीडिएट कॉलेजों के शिक्षकों की रिक्रूटमेंट्स की जानी थी। और अभी तक के यूपी लोक सेवा आयोग गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज तथा गवर्नमेंट इंटरमीडिएट कॉलेज के शिक्षकों का रिक्रूटमेंट्स कर रहा है। प्रस्तावित आयोग को बेसिक एजुकेशन काउंसिल के स्कूलों में शिक्षकों के रिक्रूटमेंट करने की रिस्पांसिबिलिटी देने पर भी विचार-विमर्श हो रहा है।

 

बता दें की इस तरीके से यह एजुकेशन डिपार्टमेंट शिक्षकों के रिक्रूटमेंट के लिए अकेले ही आयोग के तरीके से कार्य करने वाला है। वर्तमान समय तक के तीनों स्तरों पर रिक्रूटमेंट के लिए भिन्न-भिन्न व्यवस्था चलाई जा रही है।

इसके साथ ही प्रस्तावित शिक्षा सेवा चयन आयोग के पूरी तरीके से जब तक के सक्रिय स्थिति में नहीं आ जाएगा तब तक के पुराना आयोग बोर्ड काम वैसे ही करता रहेगा जिससे की चल रही रिक्रूटमेंट पर किसी भी तरीके का नकारात्मक इफेक्ट ना पड़े और मीटिंग में और भी सेवा और शर्तों तथा व्यवस्थाओं को और भी अच्छा बनाया जाए। इस पर विचार विमर्श किया गया है।

Leave a Comment