लखनऊ। प्रदेश में 98.2% लाकर किया कमाल मेधावी छात्रा सारा सिंह।

लखनऊ में।  98.2% लाकर किया कमाल मेधावी छात्रा सारा सिंह।  

 

 सीबीएसई 10th बोर्ड का आ गया है रिजल्ट इसमें सारा सिंह ने प्रदेश का  का गौरव बढ़ाते हुए 98.2% लाकर किया कमाल। 

 

सीबीएसई केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की तरफ आज बुधवार को दस वीं का  परिणाम को  जारी कर दिया गया है।

जिसमें लखनऊ के कई छात्र ने काफी परचम फराया  है उसमें से एक का नाम है सारा सिंह।  सारा सिंह ने 98.2% लाकर कर दिया कमाल लखनऊ की जनता काफी हर्षोल्लास के साथ खुशियां मना रही है। 

 हर बार की तरह इस बार भी राजधानी के मेधावी छात्र हर तरफ छाए रहे हर तरफ उनका परचम लहरा रहा है इस बार भी बेटों की तुलना में बेटियां बहुत आगे रहीं शहर लखनऊ के पब्लिक स्कूल एंड कॉलेज की छात्रा सारा सिंह ने 98.2% अंक हासिल कर।

लखनऊ का  मान बढ़ाया है और साथ ही साथ अपने माता-पिता का भी नाम रोशन किया है  . सारा सिंह का कहना है कि यह जो भी हासिल उन्होंने किया है।  अपने शिक्षा और शिक्षक तथा माता-पिता के सहयोग से उन्होंने हासिल किया है। 

उन्हें काफी कड़ी मशक्कत करके और काफी मेहनत भी किया था इस परिणाम के लिए सारा  सिंह के शिक्षक बताते हैं कि वह शुरू से काफी मेघा वी  थी और पढ़ाई में काफी दिलचस्पी लेती थी। 

जिस वजह से उनका जो परिणाम आया है वह काफी हर्षोल्लास वाला परिणाम है।  देखा जाए तो यह काफी बड़ा परिणाम है जो काफी मेहनत के बाद ही हासिल कर सकते हैं। 

सारा  सिंह का कहना है कि वह इसके बारे में अभी फिलाल  सोची नहीं है कि भविष्य में उन्हें क्या करना है और आगे की पढ़ाई कैसे करनी है।  किस विषय को आगे लेकर  चलना है।  

दसवीं की नतीजों ने भी काफी चौका दिया है इस बार का जो भी परिणाम आया है।   अचानक सारे परिणाम को घोषित कर दिया गया है।

हालांकि सूत्रों के अनुसार 15 जुलाई तक परिणाम जारी करने की बात कही गई थी लेकिन देखा जाए तो यह भी एक चौंकाने वाला तथ्य है।  

 गौरतलब है कि राजधानी लखनऊ में 100-150 स्कूल संचालित हैं करीब 11000  छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल हुए थे अलीगंज स्कूल इंचार्ज यादव ने बताया है 90% से अधिक संख्या में बढ़ोतरी हुई है। 

पिछले साल की तुलना में  छात्र छात्रा का परिणाम जो आया है बहुत ही अच्छी संख्या में इजाफा करते हुए बढ़िया परिणाम दिया गया है।  

संगीता यादव का कहना यह भी था कि इसमें कोई संदेह नहीं कि जितने भी परिणाम आए हैं  . जैसे सारा सिंह हो गए  दिव्या जैन हो गए इन्होंने एक काफी मशक्कत और काफी मेहनत करी है। 

 इस रिजल्ट को पाने के लिए इसमें कोई संदेह नहीं कर सकता कि इनका योगदान सबसे ज्यादा रहा।  अच्छे शिक्षक के मार्गदर्शन में  उनके भविष्य की कामना करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि भविष्य में और अच्छा करें और हमारे शहर का नाम देश का नाम और माता पिता शिक्षकों का नाम काफी ऊंचा करें।  

Leave a Comment