लखनऊ के छात्र श्रेयांश ने जेईई एडवांस प्रवेश परीक्षा में मारी बाजी, ऑल इंडिया रैंक 424 के साथ गौरवान्वित किया अपने परिवार व शहर को

लखनऊ: बीते दिनों आयोजित की गई जेईई एडवांस की परीक्षा का परिणाम आज सुबह घोषित कर दिया गया। आपको बता दें जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम एडवांस यानी जेईई एडवांस देशभर के आईआईटी संस्थानों में प्रवेश हेतु आयोजित करवाया जाता है। जारी किए गए प्रवेश परीक्षा के परिणाम के अनुसार जहाँ एक ओर आईआईटी बॉम्बे जोन के चिराग फलोर ने ऑल इंडिया रैंक-1 हासिल की है। वहीं लड़कियों में कनिष्का मित्तल ने ऑल इंडिया रैंक-17 हासिल कर टॉप किया है।

मिली जानकारी के अनुसार हर बार की तरह इस बार भी जेईई एडवांस में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के छात्रों का दबदबा बना रहा। आपको बता दें लखनऊ शहर के कृष्णा नगर के रहने वाले श्रेयांश सिंह ने ऑल इंडिया रैंक 424 हासिल कर अपने शहर के साथ-साथ प्रदेश को गौरवान्वित किया है। अभी तक की जानकारी के अनुसार श्रेयांश सिंह टिकट टॉपर है।

अपने विषय में बताते हुए श्रेयांश ने कई रोचक बात लोगों के सामने रखी। आपको बता दें जेईई एडवांस में ऑल इंडिया रैंक 424 लाने वाले श्रेयांश सिंह की इच्छा है कि वे आइआइटी दिल्ली से कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करे। आपको बता दें श्रेयांश को इंटरमीडिएट की परीक्षा में 94.5 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए थे। इसके अलावा उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देते हुए कहा कि उनके माता-पिता से उन्हें काफी प्रेरणा मिलती है। गौरतलब है कि उनके पिता सुधीर कुमार केन डेवलपमेंट अथॉरिटी लखीमपुर के सचिव और मां शिखा एक ग्रहणी हैं।

इसके अलावा उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया कि दिन में अगर आप 8 घंटे ही पढ़ रहे हैं तो उतने ही सही कभी भी तनाव लेकर पढ़ा नहीं जा सकता है। ऐसा करने से आपके सफल होने की गुंजाइश कम हो जाती है  क्योंकि अगर मन ना हो पढ़ने का और फिर भी आप पढ़ रहे हैं तो यह एक तरह से आपके ऊपर तनाव बढ़ाने का काम करता है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि पढ़ाई में बेहतर एकाग्रता के लिए शारीरिक व्यायाम अथवा खेलकूद भी बेहद जरूरी है।

हालांकि इनके अलावा भी कई ऐसे छात्र एवं छात्राएं हैं जिन्होंने जेईई एडवांस की प्रवेश परीक्षा में बाजी मारी है। बात अगर दूसरे छात्रों की करें तो लखनऊ शहर से ही शाश्वत गुप्ता ने ऑल इंडिया रैंक 603 हासिल किया तो वहीं दूसरी ओर अमृतेश शर्मा ने 738 तो वही सुहानी बाजपेई और नंदिनी दारू के द्वारा 1713 व 1990 रैंक हासिल किया गया।

Leave a Comment