लखनऊ में कोरोना से तड़पती रही महिला वायरस संक्रमित मरीजों की की हालत बहुत खराब है।

लखनऊ में कोरोना से तड़पती रही महिला वायरस संक्रमित मरीजों की की हालत बहुत खराब है। 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोविड-19 अस्पतालों में आईसीयू फुल चल रहे हैं कहीं भी कोरोना संक्रमित मरीजों की देख-रेख और भर्ती करने की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही है।

 

जिस वजह से कोरोना से संक्रमित एक महिला 6 घंटे तक तड़पती रही लखनऊ में कोरोना के गंभीर हालत होते जा रहे हैं मरीज को नहीं मिला अस्पताल घंटों परेशान रहे परिवार के लोग देर रात बाद मिली बेड।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ यू कहे कोरोना का घर बन चुका है लखनऊ में कोरोना संक्रिमतो की संख्या तो लगातार बढ़ती ही जा रही है लेकिन कोई ठोस उपाय नहीं निकल पा रहा है।

जबकि राज्य सरकार ने यहां के कई बड़े अधिकारियों को अपने सीएमओ ऑफिस के निगरानी में रखा है तथा कई लोगों को तबादला भी दिया है फिर भी कोरोना संक्रमितओं की संख्या में कोई खासा गिरावट नहीं देखा जा सकता लखनऊ में कोरोना  का प्रकोप अपने चरम पर है।

हर रोज यहां कोरोना संक्रमित कि सैकड़ों की तादाद में अस्पतालों में भर्ती हो रहे हैं तथा रोज सैकड़ों मरीज संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं वही कोविड-19 से गंभीर मरीजों की समस्या बढ़ती जा रही है उनको ना समय पर बेड मिल पा रहा है और ना ही समय पर इलाज हो पा रहा है।

कोरोना से एक महिला की हालत नाजुक हो गई थी एंबुलेंस में 6 घंटे तक तड़पती रही और महिला  काफी देर बाद में 2:00 बजे रात को उनको बेड मिल पाया अगर देखा जाए राजधानी लखनऊ में जुलाई से करना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होते हुए कई गुना संक्रमित मरीजों की रफ्तार बढ़ गई है इस माह 1 दिन में न्यूनतम रहे वहीं अधिकतम 831 रिकॉर्ड किए गए।

 

लखनऊ में हर रोज सैकड़ों की तादाद में मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

राज्य सरकार की स्वास्थ्य विभाग की समस्याएं भी बढ़ रही हैं तथा इनके इनके होम आइसोलेसन नीति लागू होने के बावजूद भी मरीजों की समस्याओं में कमी नहीं  देखी जा सकती है।

लखनऊ में समय पर  बैड नहीं उपलब्ध हो पा रही है और नहीं समय पर ही कोविड-19 महिलाओं की इलाज हो पा रही है कंट्रोल रूम द्वारा जानकीपुरम निवासी 55 वर्षीय फूलमती को निजी मेडिकल कॉलेज भेजा गया पुत्र अवनीश   मुताबिक मां फूलमती को गैंग्रीन हो गया था.

जिस वजह से उनको कोरोना होने से हालात बिगड़ गई शाम रात 2:00 बजे अस्पताल  में भर्ती किया जा सका है ऐसे ही गुरुवार को भी कोरोना से कई ऐसे मरीजों को भर्ती में काफी मसक्कत हुई थी।

जिसे राज्य सरकार काफी गंभीरता से ले रही है और लगातार अस्पतालों की कैपेसिटी को बढ़ाया जा रहा है यूं कहें अस्पतालों की भी समस्याएं बढ़ गई हैं.

 

अस्पतालों की इस्थिति भी बहोत अनिवार्य है जिससे आप नजरअंदाज नहीं कर सकते लखनऊ में पिछले कुछ महीनों से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा देखा जा रहा है।

लखनऊ में यह एक भयावह स्थिति लेता जा रहा है जिससे पूरे लखनऊ वासियों में एक भय का माहौल बना हुआ है।

 

Leave a Comment