Lucknow-Metro

लखनऊ में मेट्रो 7 सितंबर से यात्रियों के लिए ला रहा है एक नया स्मार्ट तरीका। जाने यहाँ।

लखनऊ में मेट्रो ने निकाला नया स्मार्ट तरीका इससे यात्री बच पाएंगे पैसे के लेनदेन से और कोरोना से। 

लखनऊ देखा जाए तो हमारे लखनऊ वासियों के लिए  वैसे तो मेट्रो से सफर करने के लिए  दो विकल्प उपलब्ध हैं फिलहाल पहला काउंटर से टोकन लेकर यात्री खुद यात्रा कर सकते हैं और दूसरा विकल्प यह होगा उनके लिए कि वह मेट्रो द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे हैं गो कार्ड को स्मार्ट कार्ड का उपयोग कर बिना लाइन में लगे अपने वाउचर को चेकिंग गेट पर टच करके इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

जिससे यात्रियों को असुविधा हो जाएगी कि वह बिना पैसे के लेनदेन के झंझट के यात्रा काफी आसानी से कर पाएंगे गो स्मार्ट कार्ड से। 

स्मार्ट कार्ड के कई फायदे हैं लखनऊ मेट्रो ने इन्हीं फायदे में से कुछ फायदे यात्रियों देने जा रहे हैं जो इस प्रकार होंगे  कोरोना जैसी  एक भैयावाह   खतरनाक महामारी ने,पूरे  जहां पूरे प्रदेश का कायाकल्प ही बदल दिया वही मेट्रो भी अछूती ना रह पाई इससे देखा जाए तो मेट्रो प्रशासन द्वारा यह फैसला भी एक अहम फैसला है क्योंकि जितना कैश से नगदी से लेनदेन से दूर रहेंगे उतना लोग एक दूसरे के करीब नहीं नहीं आ पाएंगे जिस वजह से  कोरोना  का फैलना  बहुत हद तक कम हो जाएगा।

 

जिससे हमारे यात्रियों को भी सुविधा होगी और करना जैसे बड़े महामारी के  संक्रमण पहले से भी रोका जा सकेगा इस वजह से लखनऊ मेट्रो एसोसिएशन ने यह कदम उठाया है। 

और एक अच्छा ऑप्शन ग्राहकों को दिया है यात्री कार्ड धारक का को कोई  मित्र या जाने वाला नगरी के लेने से बचना चाहते हैं तो वह स्मार्ट कार्ड से स्टेशनों पर लगी वहां की मशीनों में व काउंटर से टोकन लेकर यात्रा बिल्कुल सुविधाजनक आराम से कर सकते हैं यह सुविधा 7 सितंबर से यात्रियों को मेट्रो देगा यही नहीं यात्री अपने बैलेंस राशि के हिसाब से अपने परिचित को सफर करा सकता है मेट्रो का अधिकतम टिकट ₹60 का है राजधानी में 70000  से अधिक गो स्मार्ट कार्ड धारक हैं।

 

लखनऊ में प्रतिदिन 35000 से अधिक यात्री को स्मार्ट कार्ड से सफर करते हैं।

 

  • लगभग सभी स्टेशनों पर हेल्थ देश का निर्माण कराएगा जरूरत पड़ने पर यह यात्रियों के प्रारंभिक सलाह दी जाएगी। 
Lucknow-Metro
Lucknow-Metro
  • उत्तर प्रदेश में मेट्रो रेल कारपोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक कुमार के सामने बताया कि मेट्रो स्टेशन  निकलने से पहले ही सैनिटाइज कर दिया जाएगा। 

  • गो स्मार्ट कार्ड से सफर करने पर पहले की तरह छूट मिलेगी जो यात्रियों को पहले ही मिलती थी। 
  • खास बात यह रहेगी कि स्मार्ट कार्ड को यूज करने के लिए ऑटोमेटिक पर गेट में टच नहीं करना पड़ेगा। 
  • छह से आठ सेंटीमीटर की दूरी पर रिड कर लेगा। 

 

और आप आराम से मेट्रो स्टेशन में इन करके अपने राह पर आराम से जा सकेंगे वही मेट्रो स्टेशन द्वारा लिया गया कदम है कि अगर आपको सर्दी जुकाम बुखार कुछ भी अगर है तो आप को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। 

 

आप मेट्रो से कहीं भी सफर नहीं कर पाएंगे क्योंकि यह एक खतरा हो सकता है आम यात्रियों को कि उनको भी वायरस फैलने की संभावना बढ़ जाएगी और हो सकता है कि वह यात्री भी कोरोना संक्रमित हो जाए जिस वजह से मेट्रो स्टेशन ने यह कड़ा कदम लेते हुए आदेश जारी किया है कि जो भी यात्री सर्दी का जुखाम इस तरह के चीजों से ग्रसित हैं उन्हें मेट्रो स्टेशन में प्रवेश वर्जित किया जाएगा। 

 

वही जो यात्री सफर कर टोकन अपने टच बॉक्स में डालते हैं उनको भी सैनिटाइज करने का मन बना रही है लखनऊ मेट्रो एक बार में 2000 टोकन कार्ड को सेनेटाइज़ किया जाएगा।

और उसे फिर से  प्रयोग में लाने के लिए उसी टो टोकन सेंटर पर रखा जाएगा जिस से यात्री बेफिक्र टोकन ले सकेंगे और उस टोकन से यात्रा कर पाएंगे।

बता दें कि इस टोकन से लखनऊ मेट्रो ने अपने सभी स्टेशनों पर टोकन रखने की अल्ट्रावायलेट बॉक्स भी बना कर रखे हैं जिससे आप अपने टोकनअल्ट्रा वॉलेट बॉक्स में रख पाएंगे यूएनआरसी के डीजीएम हितेश चंदानी का दावा है कि यात्रियों द्वारा इस्तेमाल किए गए टोकन उस में डालने के बाद जो भी टोकन विषाणु होंगे अल्ट्रावायलेट से नष्ट हो जाएंगे।

प्रत्येक बॉक्स में 2000 टोकन रखने की अभी फिलहाल तय की गई है और बताया जाता है मेट्रो एसोसिएशन द्वारा 2000 टोकन रखने की अल्ट्रावायलेट बॉक्स भी टेक्नोलॉजी होगा जिससे इसमें कुछ करना नहीं होगा यात्री अपने टोकन को आराम से वहां पर रखेंगे और उसमें जो विषाणु यात्री द्वारा आया होगा या उसमें कोई भी वायरस है तो उस वाले से नष्ट कर दिए जाएंगे और वहटोकन फिर से प्रयोग में आने के लिए तैयार हो जाएगा जिससे कोरोनावायरस या और भी कई बीमारियों के फैलने की  संभावना  बहुत कम हो जाएंगे। 

 

Leave a Comment