लखनऊ वासियों के लिए खुशखबरी -राजधानी में जल्द ही मिलेगी एक बार फिर से सस्ती दवाएं , मरीजो को मिलेगी राहत।

लखनऊ वासियों के लिए खुशखबरी -राजधानी में जल्द ही मिलेगी एक बार फिर से सस्ती दवाएं , मरीजो को मिलेगी राहत।

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )    जी हां, राजधानी में काफी दिनों से सरकारी अस्पतालों में जन औषधि केंद्र बंद हो गए थे। ऐसे में मरीजों को सस्ती दर पर दवाएं मिलना बंद हो गई थी। मगर एक बार फिर इस नए साल पर इस व्यवस्था को सुधार करके इस जन औषधि केंद्र को पुनः प्रारंभ किया जाएगा।

 

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अब सरकारी अस्पतालों के जन औषधि केंद्र एक बार फिर खुलेंगे और इस निजी वेंडर अबकी बार इसका संचालन निजी वेन्डर की जगह पर केंद्र सरकार करने वाली है।  राजधानी में यह जन औषधि तकरीबन 72 खुलेगी। मतलब के केंद्र यह 72 होंगे। इसमें से 12 सरकारी अस्पतालों में खोले जाएंगे और सरकारी अस्पतालों में केंद्रों को चलाने के लिए सरकार ने वेंडर से कॉन्ट्रैक्ट भी किया था। मगर दवा उपलब्ध नहीं हो पाई और ये दिक्कत के वजह से वेन्डर से कॉन्ट्रैक्ट कैंसिल हो गया था।

 

 

 

ऐसे में सरकारी अस्पतालों के जन औषधि केंद्रों में दवा की बिक्री पर निजी वेन्डर पर रोक लगा दी गई थी। जिससे मरीजों को सस्ती दवा उपलब्ध नहीं हो पा रही थी। केंद्रों पर ताले को लटका दिया गया था। सरकारी अस्पतालों के केंद्रों पर दवा को पुर्ति करने के लिए केंद्र सरकार के कारोबार की बीपीपीआई ने स्वयं से संचालन का निर्णय ले लिया

 

बता दें कि सर्वप्रथम लखनऊ के चार हॉस्पिटल में यह जन औषधि केंद्र प्रारंभ करने की योजना बनाई जा रही है। इसमें जिसमें से केजीएमयू और लोहिया अस्पताल और बलरामपुर अस्पताल तथा सिविल अस्पताल सम्मिलित किए गए हैं। बाद में अन्य अस्पतालों में भी इस सेवा को उपलब्ध कराया जाएगा।

Leave a Comment