लखनऊ वासियों को मिलेगी राहत – एक बार फिर केजीएमयू की इमरजेंसी सेवाओं को दुरुस्त करने की दी गई जिम्मेदारी क्या विभाग निभा सकेगा पूरी तरीके से जिम्मेदारी  ?

एक बार फिर केजीएमयू की इमरजेंसी सेवाओं को दुरुस्त करने की दी गई जिम्मेदारी क्या विभाग निभा सकेगा पूरी तरीके से जिम्मेदारी  ?

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   लखनऊ के केजीएमयू के आपातकालीन सेवा बिल्कुल भी दुरुस्त नहीं है बता दे की जब भी किसी को आपातकालीन सेवाओं की आवश्यकता पड़ती है तो यह समय पर सेवाएं नहीं मिल पाती हैं और लोगों को निराशा ही हाथ लगती है।

राजधानी लखनऊ के केजीएमयू हॉस्पिटल का एक बार फिर इमरजेंसी सेवाओं को दुरुस्त करने का प्रयत्न किया जा रहा है।

और यह जिम्मेदारी तकरीबन 16 डॉक्टरों को दी गई है। खास बात यह है की ट्रामा सेंटर के सीएमएसए तथा एमएसएस के अलावा भी हर इकाई के इंचार्ज को जिम्मेदारी दी गई है। आपातकालीन सेवा दुरुस्त की जाए। इसका आदेश कुलपित लेफ्टिनेंट जनरल डॉ विपिन पुरी ने दे दिया है।

 

डॉ विपिन ने इस बार पूरी तरीके से आपातकालीन सेवाओं को सुधारने का निर्णय लिया है और प्रशासनिक ढांचे को पूरी तरीके से मजबूत करने का भी निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि हर एक डिपार्टमेंट में आपातकालीन इकाई के भिन्न भिन्न इंचार्ज होंगें।  यह आदेश दिसंबर की 15 तारीख को दिया गया सीएमएस डॉ संदीप तिवारी। इसके साथ ही एमएस डॉक्टर सिद्धार्थ कुमार को होल्डिंग क्षेत्र वन का इंचार्ज बनाया गया

 

इसके साथ ही डॉक्टर प्रेमराज तथा डॉ तन्मय तिवारी को भी इंचार्ज की जिम्मेदारी दी गई और होल्डिंग क्षेत्रों के इंचार्ज डॉ नरेंद्र कुमार तथा डॉ अमित अग्रवाल को जिम्मेदारी दी गई। वहीं इमरजेंसी मेडिसिन डिपार्टमेंट के प्रभारी डॉ हैदर अब्बास को आपातकालीन सेवाओं को सुधारने की जिम्मेदारी दी गई।

उपर्युक्त डॉक्टर के साथ-साथ अन्य डॉक्टर को भी यह रिस्पांसिबिलिटी सौंपी गई जिससे की आपातकालीन सेवाओं में सुधार आ सके ,बता दें की यह जिम्मेदारी कुल मिलाकर के 18 डॉक्टर को सौंपी गई है जिससे की समय पर लोगों को आपातकालीन सेवा उपलब्ध कराई जा सके और हमेशा के तरह निराशा हाथ ना लगे।

Leave a Comment