लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रबंधन की ओर से जारी किया गया निर्देश, बीते सत्र में जमा मेस की फिस नए सत्र की फीस के साथ किया जाएगा एडजस्ट

लखनऊ: गौरतलब है कि लॉकडाउन शुरू हो जाने की वजह से सभी शिक्षा संस्थान बंद कर दिए गए थे। जिस वजह से ऐसे कई जगह थे जहां हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थियों के द्वारा पहले ही फीस जमा कर दी गई थी।  आपको बता दें कि मौजूदा समय में ऐसे कई विद्यार्थी थे जिनके द्वारा यह प्रश्न उठाया जा रहा था कि जो इतने महीनों तक हाॅस्टल बंद रहा और क्योंकि वह वहां के किसी भी साधन का उपयोग नहीं कर सके तो फिर उन पैसों का क्या होगा।

इन सब मुद्दों को देखते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रबंधन द्वारा एक निर्णय लिया गया जिसके तहत  मिली जानकारी के अनुसार बीते सत्र में जमा की गई मेस फीस को नए सत्र में हॉस्टल आवंटन की फीस के रूप में समायोजित करने का निर्णय लिया गया है।

लखनऊ विश्वविद्यालय के चीफ प्रोवोस्ट ने जानकारी साझा करते हुए कहा कि लगभग पिछले 8 महीने से विश्वविद्यालय के हॉस्टल बंद है, ऐसी परिस्थिति में इन हॉस्टलों में रहने वाले विद्यार्थियों द्वारा जमा कि गई मेस फीस प्रबंधन के पास जमा है। इन परिस्थितियों में जो छात्र नए सत्र में भी हॉस्टल में रहना चाहते हैं उन्हें कोई मेस फीस नहीं देना होगा क्योंकि पिछले 8 महीनों की फीस को नए सत्र में एडजस्ट कर दिया जाएगा।

आगे की प्रक्रिया के बारे में बताते हुए प्रोवोस्ट ने कहा कि वैसे विद्यार्थी जो आगे भी विश्वविद्यालय के हॉस्टल में रहना चाहते हैं उन्हें लिखित रूप में प्रबंधन के पास यह देना होगा कि पिछले महीनों का बकाया फीस वे नए सत्र के फीस के साथ एडजस्ट करना चाहते हैं।  ऐसा करने के बाद प्रबंधन की ओर से पिछले 8 महीनों में उन विद्यार्थियों द्वारा जमा की गई मेस फीस को नए सत्र में लगने वाले फीस के साथ एडजस्ट कर दिया जाएगा।

आपको बता दें मिली जानकारी के अनुसार हॉस्टल प्रबंधन की ओर से भी इस फैसले का समर्थन किया गया है। उनकी ओर से इस विषय पर यह टिप्पणी की गई कि ऐसा करके ना तो हॉस्टल प्रबंधन को पैसा किसी भी विद्यार्थी को वापस करना पड़ेगा और ना ही किसी विद्यार्थी को नए सत्र के लिए दोबारा हाॅस्टल आवंटन हेतु पैसे जमा करने पड़ेंगे।

Leave a Comment