लगाए बच्चों को रेगुलर टीका जाने इस रेगुलर वैक्सीनेशन से महामारी से क्या बच सकती है जान, जाने फायदे।

लगाए बच्चों को रेगुलर टीका जाने इस रेगुलर वैक्सीनेशन से महामारी से क्या बच सकती है जान, जाने फायदे।

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  वैसे तो बच्चों को रेगुलर वैक्सीनेशन करवाने से सुरक्षा  मिलती है उनको किसी भी तरह की बीमारी होने के कम चांसेस होते हैं। टीकाकरण शरीर में बाकी रोगों से लड़ने के पश्चात इम्यूनिटी सिस्टम को बढ़ावा देता है। इसलिए ऐसा परिवार जिनके घर में बच्चे हैं उनको बच्चों को टीका लगवाना बहुत ही आवश्यक है।इसलिए माता-पिता को इस बात का पूर्ण रूप से ध्यान रखना होगा के बच्चों को टीका लगवायें और साथ में यह ध्यान रखे के कोई टीका छूटने ना पाए नहीं तो बीमारी होने के चांसेस अधिक बढ़ जाते हैं।

वर्तमान समय में कोरोना महामारी के फैलने के पश्चात विशेषज्ञों का भी यह कहना है की बच्चों को रेगुलर वैक्सीनेशन कराएं जिससे के कोरोना संक्रमण से भी बच्चों को खतरा कम रहे। महामारी के हालात में अभिभावकों को और भी अब ध्यान रखना होगा की टीका बराबर लगवाये और कोई भी टीका ना छूटने पाए।

महामारी के कारण टीके पर लगा दी गई थी रोक।

 

कोरोना महामारी फैलने के पश्चात कुछ वक्त के लिए टीके पर भी रोक लगा दी गई थी परंतु अब बड़े हॉस्पिटल्स में हर रोज टीके लगाए जा रहे हैं। और शहरों के छोटे हॉस्पिटल्स में हफ्ते में दो या फिर 3 दिन यह टीके लगाए जाते हैं।

डॉक्टर बृजेश कुमार बाल रोग के विशेषज्ञ हैं। यह कहते हैं की रेगुलर वैक्सीनेशन से बच्चों का Immune system बीमारी से लड़ने के लिए शक्ति शाली हो जाता है। उन्होंने कहा की मैं यह नहीं कह सकता की टीका लगवाने के पश्चात कोरोना नहीं होगा। हां, मगर मैं यह जरूर कहूंगा की इसको लगवाने के पश्चात संक्रमण होने के चांसेस बहुत ही कम रहेंगे। उन्होंने बातचीत के दौरान यह भी बताया की रेगुलर वैक्सीनेशन से कोरोना के कम होने के चांसेस रहेंगे और अन्य बीमारियों से भी बच्चों को छुटकारा मिलेगा तो इसको कंटिन्यू जरूर करें।

 

मां का दूध बच्चों को बीमारियों से करता है दूर।

 

बलरामपुर के बाल रोग विशेषज्ञ ने बताया की सबसे
पहले बच्चे के पैदा होने पर उसकी मां का दूध पिलाएं क्योंकि किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए बच्चे के लिए मां का दूध अमृत होता है। यह दूध बीमारियों से लड़ने के लिए वैक्सीन का काम करता है।
कहा के बच्चे के पैदा होने के दिन से 6 माह तक के मां का दूध ही उसको पिलाना आवश्यक है। जिससे की बीमारी होने का कम अंदेशा हो।

Leave a Comment