लोहिया संस्थान में मरीजों की सुविधा के लिए और भी किए जाएंगे प्रयास ।

लोहिया संस्थान में मरीजों की सुविधा के लिए और भी किए जाएंगे प्रयास ।

 

लोहिया संस्थान में पिछले दिनों इस संस्थान के एक्स-रे टेक्नीशियन को डॉक्टरों ने एडमिट नहीं किया था।
मरीज इमरजेंसी में कई घंटों तक तड़पता रहा और उसके परिवार वाले मरीज को एडमिट करने के लिए हॉस्पिटल में फरियाद करते रहे परंतु उनकी सुनवाई नहीं हुई।

और सही वक्त पर मरीज को इलाज ना मिलने पर उस मरीज की हालत और भी गंभीर हो गई साथ ही प्राइवेट अस्पताल में इलाज सही तरीके से ना होने के कारण।
मरीज की मौत हो गई मरीज की मृत्यु के पश्चात इस मामले की जांच कराई गई और रेजीडेंट डॉक्टरों पर कार्रवाई
कर किसी तरह इस मामले को निपटाया गया।
जांच के पश्चात पता चला कि सीनियर डॉक्टर इमरजेंसी वार्ड में मरीजों का हालचाल पूछने तक नहीं आते। जिसके चलते मरीजों को इमरजेंसी सेवाएं प्राप्त नहीं हो पाती हैं।

डॉक्टर ए•के•सिंह ने इमरजेंसी व्यवस्थाओं को देखा और सभी मरीजों को एडमिट करने के निर्देश दिए।
लोहिया संस्थान इमरजेंसी वार्ड में 30 बेड बढ़ाए जाएंगे और इमरजेंसी की अस्त व्यस्त व्यवस्था को व्यवस्थित किया जाएगा।

निदेशक डॉ एके सिंह ने संस्थान की व्यवस्था को सुधारने के निर्देश देते हुए कहा कि मुख्य गेट से लेकर मरीजों के आने वाले को अलग व्यवस्था करी जाए। साथ ही कोविड-19 के संक्रमित मरीजों को अलग रखने के लिए होल्डिंग एरिया को भी देखा जाए। उन्होंने मुख्य गेट पर शाम के समय दो अतिरिक्त गार्ड लगाए जाने के निर्देश दिए।

Leave a Comment