सड़कों पर गाड़ियां नहीं मगर बादलों के वजह से सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में लखनऊ पहुंचा दूसरे स्थान पर

प्रदूषित शहरों की सूची

शहर             एक्यूआई

भिवाड़ी         264

लखनऊ       250

बागपत         233

बुलंदशहर     230

मुरादाबाद     225

लखनऊ:  कोरोना महामारी के मद्देनजर लगाए गए लॉक डाउन की वजह से सड़कों पर वाहनों की आवाजाही कम देखने को मिल रही थी। ऐसी परिस्थिति में यह अनुमान लगाया जा रहा था कि शायद वायु में प्रदूषण के मात्रा कम देखने को मिलेंगे हालांकि ऐसा हो ना सका। भले ही सड़कों पर वाहनों की संख्या इतनी ज्यादा नहीं रही मगर फिर भी आसमान में छाए बादलों ने इसकी कमी पूरी कर दी।

केन्द्रीय प्रदूषण बोर्ड द्वारा साझा कि गई जानकारी के अनुसार लखनऊ में बीते शुक्रवार यानी 2 अक्टूबर को मानिटरिंग के दौरान एयर क्वालिटी इंडेक्स 218 माइक्रोग्राम प्रतिघन रिकार्ड किया गया था। 

ऐसे कयास लगाए जा रहे थे की शुक्रवार को अवकाश के मद्देनजर सड़कों पर गाड़ियों की कमी के वजह से एयर क्वालिटी इंडेक्स की मात्रा में गिरावट देखने को मिलेगी। हालांकि बादलों की उपस्थिति की वजह से यह पॉइंट घटने की जगह और भी ज्यादा बढ़ गया। 3 अक्टूबर यानी बीते शनिवार को मॉनिटरिंग के दौरान जो आंकड़ा 218 का था उसमें 32 पॉइंट की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। जिससे यहाँ की एक्यूआई 218 से बढकर 250 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर पहुंच गया।

वायु प्रदूषण में  देखने को मिली इस बढ़ोतरी की वजह बादलों की मौजूदगी को बताया जा रहा था। इस विषय में वैज्ञानिकों द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार बादलों के वातावरण में रहने की वजह से पूरे दिन हल्की नमी मौजूद रही। इसके अलावा हवा के वेग में भी कमी दर्ज की गई। इन कारणों की वजह से वातावरण में मौजूद धूल के कण ना तो ज्यादा ऊंचाई तक जा सके ना ही वातावरण में उनका सही तरह से भ्रमन हो सका और इसी वजह से बीते शनिवार को मॉनिटरिंग के दौरान वातावरण में प्रदूषण की मात्रा ज्यादा दर्ज की गई।

Leave a Comment