बिजली उपभोक्ताओं को ज्यादा बिल देने से अब मिलेगी निजात, सीबीआई स्मार्ट मीटर की जल्द ही करेगा जांच

बिजली उपभोक्ताओं को ज्यादा बिल देने से अब मिलेगी निजात, सीबीआई स्मार्ट मीटर की जल्द ही करेगा जांच

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )  स्मार्ट मीटर द्वारा आए हुए बिजली के बिल का पैसा देते देते उपभोक्ता परेशान हो चुके हैं। जांच में यह साबित भी हो चुका है कि स्मार्ट मीटर जितनी बिजली जलती नहीं उससे ज्यादा रीडिंग दिखाता है। इसके पश्चात भी कोई कदम नहीं उठाया गया। फिजूल बिजली का बिल देने से उपभोक्ताओं को निजात दिलाई जाए।

उत्तर प्रदेश के व्यापार मंडल ने स्मार्ट मीटर खरीदने के संबंध में सीबीआई जांच की मांग की है। जिससे कि उपभोक्ताओं को राहत प्रदान की जाए। संगठन के प्रदेश प्रवक्ता अजय यादव से वार्तालाप करी तो पता चला कि विद्युत विभाग को बताना चाहिए कि अब तक के किन अभियंताओं पर कार्यवाही हुई है और किन अभियंताओं पर कार्रवाई होनी बाकी है ?

उन्होंने कहा कि जब इस बात का खुलासा हो चुका है कि स्मार्ट मीटर सामान्य मीटर की तरह नहीं है। और यह भी पता चल चुका है की वह तेज चल रहे हैं। तो विभाग की कमी यह है कि विभाग ने अब तक की मीटर निर्माता कंपनी के विरुद्ध कार्यवाही सख्ती के साथ क्यों नहीं की
उपभोक्ता आखिर कब तक अधिक रीडिंग के कारण अपना पैसा पानी में बहाता रहेगा ।
कोरोना महामारी के कारण आर्थिक व्यवस्था पस्त पड़ गई है। ऐसे में उपभोक्ता कब तक जितना बिजली का बिल नहीं आता है, उससे ज्यादा बिजली का बिल देते रहेंगे।
उन्होंने कहा कि स्मार्ट मीटर अभियंता पर सीबीआई जल्द से जल्द जांच करें और कंपनी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई कर उन जिम्मेदार कंपनियों को ब्लैक लिस्ट में डालकर ब्लैक लिस्ट घोषित करने की मांग की जिससे की आम उपभोक्ताओं और व्यापारियों की जेब से चोरी करने का कार्य उपर्युक्त कंपनियां बंद कर दें।

माना है कि व्यापार मंडल ने स्मार्ट मीटर खरीद के मामले में सीबीआई से जांच की मांग की है। वह जल्द से जल्द होगी। और जांच में वह कंपनियां जो पकड़ी जाएंगी, उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।

और अधिक बिल आ रहे उपभोक्ताओं के लिए कुछ सुविधा प्रदान की जाएगी जिससे कि बिजली खपत से अधिक पैसा उनको ना देना पड़े। और
विभिन्न व्यापारियों तथा घर में जलाने वाले बिजली उपभोक्ताओं को ज्यादा बिजली का बिल देने से राहत प्राप्त हो।

Leave a Comment