सुसाइड नोट मिलने पर रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब बुक गोस्वामी को दी कानून ने सजा।

सुसाइड नोट मिलने पर रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब बुक गोस्वामी को दी कानून ने सजा।

 

 

मई 2018 में अलीबाग तालुका के कबीर गांव में अपने फार्म हाउस पर अन्वय नायक तथा उनकी मां कुमुद नायक मृत पाई गई अनुभव नाइक फर्स्ट फ्लोर पर मृत पाए गए जबकि उनकी मां की लाश ग्राउंड फ्लोर पर मिली। इस मामले की एफआईआर अन्वय नाइक की पत्नी अक्षता नाइक ने की जिनकी उम्र 48 वर्ष है इस घटना के पश्चात सुसाइड नोट जो मिला उसमें मृतक ने आरोप लगाया था कि उसे और उसकी मां को अपनी जिंदगी मजबूरन खत्म करनी पड़ रही है क्योंकि उन्हें अर्नब गोस्वामी और अन्य 2 लोग फिरोज शेख तथा नितेश श्रद्धा के जरिए 4 करोड़ की बकाया राशि नहीं दी गई है।

 

उपर्युक्त मामले के संबंध में कोर्ट ने 14 दिनों के लिए अर्नब गोस्वामी को बुधवार की रात अलीबाग कोर्ट में न्यायिक हिरासत में भेजा है। खुदकुशी केस में अब वह 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में ही रहेंगे। मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी को सुबह बुधवार उनके घर से गिरफ्तार किया था और उसके पश्चात उनके परिवार वालों के सामने ही पुलिस पर बदसलूकी और पिटाई का आरोप अर्नब गोस्वामी ने लगाया, हालांकि इस आरोप को पुलिस मानने से इंकार कर रही है की अर्नब गोस्वामी की पिटाई तथा बदसलूकी की है।

गौरव पारकर से वार्तालाप करने के पश्चात पता चला की पुलिस हिरासत में ना देकर न्यायिक हिरासत में भेजना अर्नब गोस्वामी के लिए अच्छा है।
उन्होंने बहुत ही खुशी के साथ यह कहा कि यह हमारे लिए अत्यधिक बड़ी जीत है। पहले दिन ही न्यायिक हिरासत मिल जाना और पुलिस हिरासत से इनकार हो जाना, मजिस्ट्रेट कस्टडी दिया जाना, यह बहुत ही बड़ी जीत है।
साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जमानत की उन्होंने अर्जी भी दे दी है और बहस के लिए उसे रख भी लिया गया है। इस पर कल तक निर्णय लिया जाएगा।

अर्नब गोस्वामी ने दिखाई पुलिस द्वारा दी गई चोट।

अर्नब गोस्वामी के वकील ने बताया कि इस गिरफ्तारी की जानकारी उनकी पत्नी को नहीं थी और दो पुलिस अधिकारियों ने जो मारपीट की है, उनके परिवार के सदस्यों को यह भी नही पता था इसके बारे  में  , और जब उन्हें पता चला तो इस बात ने उनको बेहद धक्का पहुचाया है यही नहीं और उनके घर को 3 घंटे के लिए भी बंद कर दिया गया। इसके पश्चात बाएं हाथ पर खरोच है। अर्नब गोस्वामी के और उनके हाथ पर मौजूदा चोट के वजह से लगी पट्टी को हटाने की कोशिश भी की गई।

Leave a Comment