15 अक्टूबर से नए रूप एवं नए नियमों के साथ खुलने जा रहे हैं लखनऊ शहर के स्कूल

लखनऊ: गत मार्च के महीने से लगाए गए लॉकडाउन की वजह से सभी शिक्षा संस्थानों को बंद कर दिया गया था। मगर अब जब देश अनलॉक 5.0 की ओर बढ़ चुका है तो धीरे-धीरे करके सभी सेवाओं के साथ-साथ शिक्षा संस्थानों को भी खोलने की तैयारी की जा रही है। इसी संदर्भ में मिली जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के स्कूल 15 अक्टूबर से खुलने की तैयारी में है। 

गौरतलब है कि कक्षा 10 एवं 12 के छात्रों की बोर्ड की परीक्षा है। ऐसे में उन विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलना अति आवश्यक है। क्योंकि कई बच्चों को कई तरह के  दुविधा हो सकती है जिसका निवारण हेतु  स्कूल खोला जाना जरूरी हो चुका है। 

नए नियमों के तहत खुलेंगे शिक्षा संस्थान

अनिल अग्रवाल जो कि एनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के प्रेसिडेंट है, ने बयान जारी कर कहा है कि स्कूलों में साइंस जोन स्थापित किया गया है। आपको बता दें स्थापित की गई इस साइंस जोन में कोरोना संक्रमण से बचने हेतु पीपीई किट के अलावा  मास्क, सैनिटाइजर टनल जैसे कई जरूरी चीजें बनाकर रखने की  पूरी व्यवस्था की गई है। यह सारी तैयारियां सावधानी बरतने हेतु है ताकि स्कूल में रहने के दौरान कोई भी बच्चा इस बीमारी से संक्रमित ना हो सके। सबसे दिलचस्प बात तो यह कि इस जोन की सभी चीजें स्कूल के बच्चों द्वारा ही बनाई जा रही है।

वहीं लोकेश सिंह जो कि लखनऊ पब्लिक स्कूल के प्रबंधक है, ने बयान जारी कर कहा है कि अभिभावकों से स्वीकृति लेने के बाद ही विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने की व्यवस्था की जाएगी। अभिभावकों से सहमति प्राप्त करने हेतु स्कूल प्रबंधन की ओर से गूगल फॉर्म तैयार किया गया है। इस फाॅर्म की मदद से  प्रबंधन कुछ प्रश्न अभिभावक से पूछेंगे। अगर उनमें अभिभावकों की सहमति होगी तो ही प्रबंधन की ओर से विद्यार्थियों  के लिए स्कूल खोलने की बात पर आगे विचार किया जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार अगर 15 अक्टूबर से सभी स्कूल खोले भी जाते हैं तो उन्हें कुछ नियमों के तहत ही काम करना होगा। ऐसे में कुछ नियम जारी किए गए हैं जिनमें इस बात का उल्लेख है की विद्यार्थियों को स्कूलों में प्रवेश करने से पहले थर्मल स्कैनिंग से गुजरना होगा। इतना ही नहीं स्कूलों की जितनी भी शाखाएं होंगी वहां पर कोरोना हेल्पडेस्क के साथ-साथ सैनिटाइजेशन टनल की व्यवस्था करना अनिवार्य होगा। इसके अलावा सभी स्कूलों को दो पालियों में चलाने का निर्देश जारी किया गया है।

इस दरमियान जो सबसे जरूरी बात है वह यह कि  स्कूलों के खुलने के बाद बच्चों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट से स्कूल आने की मनाही होगी। गौरतलब है पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करने से कोरोना संक्रमण का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है इसी वजह से यह नियम लागू किया गया है। 

गठित की जाएगी इमरजेंसी रिस्पांस और हाइजेनिक इंस्पेक्शन टीम

लखनऊ शहर के सभी स्कूलों को खोलने हेतु जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अलावा कई टीम भी इस दौरान गठित की जाएगी। उनमें से एक होंगी इमरजेंसी रिस्पांस टीम और दूसरी होगी हाइजेनिक इंस्पेक्शन टीम। मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें इन दोनों टीम का काम स्कूल में मौजूद बच्चों पर हर वक्त निगरानी रखना होगा ताकि यह निश्चय किया जा सके कि जारी किए गए दिशा-निर्देशों का सही तरीके से पालन किया जा रहा है या नहीं। 

Leave a Comment