वार्ड बॉय

लखनऊ। बाराबंकी :हस्पताल की खराब इस्थिति की पोल-खोली है  कोरोना संक्रमित वार्ड ब्वाय ने “कोविड-19” 

सीएमओ बोले उसे है कुछ ज्यादा ही उम्मीद है। हम उस उम्मीद को पूरा नहीं कर सकते। 

प्रदेश में बाराबंकी जिले के एक कोरोना वायरस वार्ड बॉय ने एक  वीडियो जारी कर level-1 अस्पताल की कुछ मूलभूत सुविधाओं की राज खोल दिया है। 

वार्ड बॉय बका आरोप है कि वह 2 दिनों से इस हॉस्पिटल में था लेकिन अभी तक कोई डॉक्टर यह पूछने तक नहीं आया कि कैसे हो और देखने के लिए भी कोई उसके पास फटका तक नहीं।

इसी बीच सारे घटनाओं का जायजा लेते हुए कुछ पत्रकार जब पहुंचे सीएमओ के पास तो उनसे पूछा गया कि यह स्थिति क्यों बनी हुई है।  अस्पताल की तो उन्होंने कहा इस मामले में सीएमओ रमेश चंद्रा ने कहा कि उस लड़के की उम्मीद से ज्यादा उम्मीदें हैं। 

 वार्ड बॉय का कहना है मैंने बिना स्वार्थ के देशवासियों के लिए कोरोना वायरस से मरीजों की देखभाल की है बदले में मुझे भी करोना मिला

बाराबंकी जिले में चंद्र अस्पताल को लेवल 1 का अस्पताल बनाया गया है सीएससी में कार्यरत वार्ड बॉय मनोज कुमार रविवार को कोरोना संक्रमित निकला था।

वार्ड बॉय
वार्ड बॉय

मंगलवार को उसे चंद्रा अस्पताल में जिला प्रशासन ने भर्ती करवा दिया मनोज कुमार का कहना है कि 16 घंटे तक उन्हें कोई देखने के लिए नहीं आया नहीं कोई डॉक्टर उनसे सुध तक नहीं लिया इसी वजह से वह परेशान होकर वीडियो बनाया और वीडियो वायरल हो गई। 

वार्ड बॉय का कहना है कि मैंने भी लोगों की मदद की  और मरीजों की सहायता की है उनका देखभाल किया है लेकिन मुझे देखने के लिए कोई डॉक्टर अभी तक नहीं पहुंचा है.

उन्होंने बताया पिछले 6 दिनों से कोई साफ सफाई नहीं हुई है अगर देश की सेवा करते हुए कोरोना पॉजिटिव पाया गया तो सिर्फ मेरी जिम्मेदारी नहीं है मैंने यह सभी की जिम्मेदारी है। 

वार्ड बॉय ने कहा मैं पिछले 10 साल से स्वास्थ विभाग में कार्यरत हूं पिछले 4 महीने से मैंने एक छुट्टी तक नहीं ली और मैंने अपनी ड्यूटी कि मुझे इसके बदले में कोरोना वायरस मिला है अच्छी बात है।

वार्ड  बॉय ने काफी मेहनत की है देश का सेवा किया है उन्होंने इसमें कोई संदेह नहीं वाकई में उसने 4 महीने लगातार काम किया बिना किसी छुट्टी के बिना किसी डर और भय के करोना मरीज को नियमानुसार काफी सही ढंग से इलाज करवाया और देखभाल की है। 

बदले में उसे भी करना हुआ है यह बात सही है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि उसे हर चीज का सुविधा उपलब्ध कराया जाए यहां अगर करना होता है तो उसमें कॉरंटीने  होने की जरूरत होती है ना कि उसमें मूलभूत की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं सरकार के पास भी  समित संसाधन है जो भरपूर उपयोग किया जा रहा है।

जितने भी रिसोर्सेज सरकार के पास है उसका भरपूर उपयोग किया जा रहा है इससे ज्यादा ना तो कोई सरकार कर सकती है ना ही कोई और ना ही मैं उसे दे सकता हूं उनका कहना है इसमें सबसे अच्छी बात है कि खुद ही देखभाल करें और संयम बरते।  सारे नियमों का पालन करें। 

Leave a Comment