लखनऊ यूनिवर्सिटी ने इस सत्र स्नातकों के लिए लागू की नई व्यवस्था ,क्या इन स्नातकों को मिल सकेगी डिग्री ?

लखनऊ यूनिवर्सिटी ने इस सत्र स्नातकों के लिए लागू की नई व्यवस्था ,क्या इन स्नातकों को मिल सकेगी डिग्री ?

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  लखनऊ विश्वविद्यालय में पीएचडी के तरीके से स्नातक में भी व्यवस्था कर दी है इस व्यवस्था के कारण पूर्व की तरह स्नातकों को जल्दी और आसानी से डिग्री मिलना आसान नहीं होगी। क्योंकि यूनिवर्सिटी ने मास्टर के नियम स्नातक में भी लागू कर दिए हैं।  लखनऊ विश्वविद्यालय ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के द्वारा कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए मास्टर तथा पीएचडी की तरीके से अब स्नातक में भी व्यवस्था बना दी है।

 

 

 

इनको सर्वप्रथम कुछ समय के लिए संबंधित विषय में प्रैक्टिकल और ट्रेनिंग करनी पड़ेगी। उसके पश्चात छात्र यदि किसी भाषा के विषय पर पढ़ाई कर रहे हैं तो उनको किसी पब्लिकेशन हाउस में प्रशिक्षण करना होगा। इसी तरीके से जो भी विद्यार्थी स्नातक में पढ़ रहे होंगे, उनका प्रशिक्षण सही वक्त के लिए आवश्यक हो जाएगा। इस ट्रेनिंग को पूर्ण करने के पश्चात ही छात्रों को डिग्री मिल पाएगी।\

 

 

 

लखनऊ विश्वविद्यालय इस नई शिक्षा नीति के जरिए इस बदलाव के कार्य को तेजी से कर रहा है जिसके जरिए स्नातक में की गई पढ़ाई के जमीनी उपयोग को लेकर 1 से 3 महीने की ट्रेनिंग करवाई जाएगी जो की विद्यार्थियों को भिन्न-भिन्न संस्थान में करनी पड़ेगी और लाभ ये होगा कि उनको आवश्यक जानकारियों के साथ जल्दी रोजगार भी प्राप्त होगा।

ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  अभी तक कि शहरी क्षेत्रों में लघु स्तरीय योजना को टीकाकरण के लिए तैयार किया जा रहा था, परंतु अब ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी इस योजना को तैयार किया जाएगा। जिससे कि वहां पर भी टीकाकरण की प्रक्रिया को प्रारंभ किया जा सके।

 

 

 

आपको बता दें कि प्रदेश के तकरीबन 75 डिस्ट्रिक्ट में केवल दो ही जिले ऐसे जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है बाकी जिलों में जैसे कि लखनऊ तथा अन्य ब्लॉक में कंट्रोल रूम बन गया है। यह 2 जिले जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है वह कानपुर देहात तथा लखनऊ है।

बाकी सारी ब्लॉकों में वर्तमान समय में कंट्रोल रूम बन चुके हैं। तकरीबन 59 जिले ऐसे हैं जहां पर ब्लॉक टास्क फोर्स का भी गठन किया जा चुका है। शामली डिस्ट्रिक्ट को यदि छोड़ दे तो तकरीबन 74 डिस्टिक के ब्लॉक में फ्रंट लाइन वर्क की ऑपरेशनल गाइडलाइन के जरिए ब्लॉक लेवल ट्रेनिंग भी पूर्ण की जा चुकी है।

 

 

इसके साथ ही वैक्सीन की हिफाजत के लिए ब्लॉक मुख्यालयों तक के पहुंचाने तथा वहां उसे पूरी तरीके से सेफ रखने के लिए व्यवस्था की जा चुकी है। और प्रैक्टिस भी अब तक के अधिक ब्लॉकों में पूर्ण की जा चुकी है।  विभागीय अधिकारियों ने बताया की कोरोना के टीकाकरण के लिए ग्रामीण इलाकों में ब्लाक मुख्यालयों पर व्यवस्था को अच्छी तरीके से किया गया है। जिस आसपास के ग्रामीण इलाकों को वैक्सीन लगाई जाएगी वहाँ शहरी एरिया की तरीके से ब्लॉक में भी पूर्व फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके लगाए जाएंगे।

 

 

 

इसके बाद वह लोग जो कि 50 साल से अधिक है और रोग से ग्रसित हैं। उनको तैयार की गई सूची के जरिए अलग-अलग डेट में टीकाकरण सेंटर पर बुलाकर के टीका लगवाया जाएगा। शहरी क्षेत्र के तरीके से ही ब्लॉकों के वैक्सीनेशन सेंटर भी बनए जएगे ये टीकाकरण सेन्टर ग्राम के शहर के तरह होंगे ये कमरे 3 होंगे , जिसमें टीका के सारे प्रोटोकॉल को पूरा करते हुए टीके लगाए जाएंगे।

लखनऊ एलडीए ने किया दुकानों को सील जानिए आखिर था क्या कारण?

लखनऊ एलडीए ने किया दुकानों को सील जानिए आखिर था क्या कारण  ?

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  राजधानी में बंगला बाजार में बिजनौर मार्ग पर सड़क पर कुछ दुकानें बने थे जिनको बुधवार के दिन एलडीए ने सील कर दिया । हालांकि इन दुकानों को सील करने के समय लोगों ने इसका खुलकर के विरोध किया, परंतु एलडीए के लोगों ने उनकी एक न सुनी।

 

 

बता दें की यह दुकाने सड़क के किनारे फुटपाथ पर जमीन पर बनाई गई थी। इन दुकानों की संख्या 6 थी जो की बुधवार के दिन बंगला बाजार में बिजनौर रोड पर इन बनी हुई दुकानों को एलडीए ने सील कर दिया। इसका निर्देश संयुक्त सचिव रितु सुहास ने दिया था। जिन के निर्देश के पश्चात अभियंताओं ने इन दुकानों को सील करा  इसका विरोध भी लोगों ने किया परंतु अभियंता नहीं माने कार्यवाही रुकवाने का प्रयास कफी किया गया कुछ नेता ने भी इसे बचाने के लिए अपनी एड़ी चोटी का जोर लगा दिया परंतु एलडीए के लोग नहीं माने।

 

 

जाने दुकान से संबंधित बातें –

 

 

मंगलवार के दिन सड़क पर बनी हुई दुकानें मे शाम के समय शटर नहीं लगे हुए थे। परंतु जब रात में शटर लगाया तो एलडीए के अभियंता बुधवार के दिन दोपहर के समय वहां पर पहुंच गए और दुकानों में लगे हुए शटर को सील कर दिया और नोटिस लगा कर के वहां से चलते बने अभियंताओं ने दुकानों में ना अपना किसी तरह का ताला डाला और ना उसे सील किया है बता दे केवल नोटिस वहां पर लगाई है और दुकानों के शटर अभी भी खुले हुए हैं। इसमें कोई भी संचालन प्रारंभ जिससे आज भी किया जा सकता है।

B.Ed कॉलेज में अब हुआ अवैध शराब बिकना प्रारंभ फैक्ट्री का हुआ बड़ा खुलासा।

B.Ed कॉलेज में अब हुआ अवैध शराब बिकना प्रारंभ फैक्ट्री का हुआ बड़ा खुलासा।

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   यूं तो आए दिन अवैध शराब से संबंधित मामले सामने आया करते हैं। परंतु इस बार B.Ed कॉलेज में चल रहे अवैध शराब की फैक्ट्री से संबंधित मामला सामने आया, जिसका खुलासा 6 दिन के पश्चात पुलिस ने किया।

 

 

बता दें की मेरठ के जानी खुर्द के B.Ed कॉलेज में अवैध शराब की फैक्ट्री चल रही थी। इस बात का खुलासा मेरठ के पुलिस ने 6 दिन के अंतर्गत किया जानी खुर्द तथा कंकरखेड़ा थाना पुलिस ने भोला रोड पर ब्रेजा कार को रुकवाया। उसके बाद चेकिंग की और तोहफा ब्रांड की देसी शराब को पकड़ा। जब पूछताछ की पुलिस ने तो बात पूछताछ के पश्चात गांव पीपला में स्थित तेजबीर मेमोरियल B.Ed कॉलेज तक के पहुंची।

 

 

 

और जब यहां पर चेकिंग की पुलिस ने तो यहां पर अवैध शराब का भारी भंण्डार मिला 6 दिन के पश्चात पुलिस ने इस गुड वर्क का खुलासा कर दिया। सोमवार के दिन मेरठ दौरे पर आए आबकारी आयुक्त पी गुरुप्रसाद ने इस बाबत पुलिस से रिपोर्ट मांगी है। पुलिस ने अभी तक के मंगलवार को चार अभियुक्तों को जेल भी भेज दिया है।

सरकार बनाएगी नया कानून , अब धार्मिक स्थलों का किया जाएगा रजिस्ट्रेशन , क्या यह अध्यादेश नए वर्ष होगा लागू ?

सरकार बनाएगी नया कानून , अब धार्मिक स्थलों का किया जाएगा रजिस्ट्रेशन , क्या यह अध्यादेश नए वर्ष होगा लागू ?

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  सरकार धार्मिक स्थलों के अच्छी तरीके से संचालन करने के लिए अध्यादेश तैयार कर रही है। इसका कारण यह है कि सरकार चाहती है कि धार्मिक स्थलों पर हक्कीयत को लेकर के विवाद समाप्त हो और बेहतर तरीके से इन स्थलों को चलाने के लिए पॉलिसी बनाई जाए जिसके अनुसार यह स्थल संचालित किए जाए।

 

उत्तर प्रदेश सरकार ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। अब धार्मिक स्थलों को चलाने के लिए अध्यादेश जारी लाने जा रही है। इसके अनुसार नियमावली बनाई जाएगी, जिसके अंतर्गत धार्मिक स्थलों का रजिस्ट्रेशन कराया जाएगा। बता दें कि इन संस्थाओं के संचालन के लिए सुरक्षा की भी व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा इन स्थलों पर आने वाला आने वाले चढ़ावे तथा चंदा का सही तरीके से प्रयोग किया जाएगा

 

मंगलवार के दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्मार्थ कार्य विभाग ने धार्मिक स्थल से संबंधित रजिस्ट्रेशन एंड रेगुलेशन अध्यादेश के ड्राफ को प्रस्तुत किया तो मुख्यमंत्री ने इसमें कुछ आवश्यक सुधार किए

उत्तर प्रदेश सरकार ने मस्जिदों तथा मंदिरों और अन्य धार्मिक स्थलों के रजिस्ट्रेशन तथा संचालन के लिए नियम बनाए जाएं विचार किया। अध्यादेश लाने से पूर्व सरकार ने दूसरे स्टेट के कानून और प्रस्तावों का भी अध्ययन किया जाए निर्देश दिए। इसके साथ विधि विशेषज्ञों की भी राय ली जाए। उन्होंने कहा, इससे संबंधित एक सर्वसम्मति बनाने का प्रयत्न हो रहा है। इसके अंतर्गत बड़े तथा धार्मिक स्थल भी आएंगे। बड़े और धार्मिक स्थलों को अध्यादेश आने के पश्चात रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी हो जाएगा।

 

और इस अध्यादेश में जो नियम बनाए जाएंगे, उनका पालन किया जाएगा। धार्मिक स्थलों को इन्हीं नियमों के अनुसार चलाया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने श्रद्धालुओं की सुविधा तथा धार्मिक स्थलों के रखने उठाने अन्य की भी व्यवस्था के लिए निर्देश दे दिए हैं। प्रदेश की सरकार सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के अनुपालन में ये नियम बना रही है

जानिए, हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के एग्जाम होंगे कब से ,और दूसरी परीक्षा होगी कब से प्रारंभ ?

जानिए, हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के एग्जाम होंगे कब से ,और दूसरी परीक्षा होगी कब से प्रारंभ ?

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )     उत्तर प्रदेश बोर्ड में हाईस्कूल तथा इंटरमीडिएट की कक्षाओं की पहली प्री बोर्ड परीक्षाएं जल्द से जल्द होने वाली है। छात्र तथा छात्राएं पढ़ाई करना प्रारंभ कर दें क्योंकि एग्जाम करीब आ गए हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ मुकेश कुमार सिंह ने मंगलवार के दिन निर्देश जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा है की यह परीक्षा 15 जनवरी से प्रारंभ हो जाएगी और यह पहली प्री बोर्ड परीक्षा होगी।

 

 

डीआईओएस से जब वार्तालाप हुई तो उन्होंने बताया की जनवरी की 25 तारीख तक के यह परीक्षा करानी जरूरी होगी। साथ ही उन्होंने कहा कार्यक्रम विद्यालय अपने लेवल पर तय किए जाएंगे। स्कूलों को जनवरी की 30 तारीख तक के उत्तर पुस्तिकाओं को चेक करके फरवरी के प्रथम सप्ताह में ही स्कूल के टॉपर छात्र तथा छात्राओं के नाम जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में पेश कराने होंगे। डीआईओएस कार्यालय लेवल पर उनके लिए खास काउंसलिंग सत्र को प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है।

यही नहीं इसके साथ बता दें की राजधानी में उत्तर प्रदेश बोर्ड के स्कूलों की जो संख्या है तकरीबन 78 है और इस वर्ष में तकरीबन 1.05 छात्र तथा छात्राएं, यूपी बोर्ड, हाईस्कूल तथा इंटरमीडिएट के एग्जाम में सम्मिलित होने जा रहे हैं। कोरोना महामारी के कारण अभी तक के परीक्षाओं की तिथि से संबंधित सब खामोश हैं।

 

परंतु डीआईओएस डॉ मुकेश कुमार सिंह से बातचीत जब हुई तो उन्होंने बताया की स्कूलों में बोर्ड परीक्षाओं से पूर्व ही प्री बोर्ड एग्जाम कराने होंगे। पहली परीक्षा जो होगी वह 15 से 25 जनवरी तथा दूसरी परीक्षा 1 मार्च तक के करा दी जाएगी।

यूपी सरकार का बड़ा निर्णय – आईपीएस अफसरों को किया दंग देखिए सूची।

यूपी सरकार का बड़ा निर्णय – आईपीएस अफसरों को किया दंग देखिए सूची।

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  उत्तर प्रदेश सरकार ने आईपीएस अधिकारियों का प्रमोशन कर दिया वहीं जिनमें से 10 अधिकारियों को सिलेक्शन ग्रेड भी दिया , बता दें की इन आईपीएस अधिकारियों का प्रमोशन जो हुआ उनमें से 1996 की बैच के 4 और 2007 बैच के 10 आईपीएस तथा 2003 बैच के 7 आईपीएस अधिकारियों का प्रमोशन करा।

 

राज सरकार ने 1996 बैच तथा 2003 की बैच और 2007 की बैच के साथ-साथ 2008 की बैच के आईपीएस अधिकारियों जिनकी संख्या 10 को सिलेक्शन ग्रेड दिया  मंगलवार के दिन गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव जिनका नाम अवनीश कुमार अवस्थी है उनकी अध्यक्षता में विभागीय प्रमोशन समिति की मीटिंग हुई जिसमें यह निर्णय लिया गया ।

 

 

जाने विस्तार से –

 

 

1996 बैच के आईपीएस ऑफिसर सतीश गणेश जो आईजी रेंज आगरा

तथा नवनीत सिकेरा, आईजी बजट
तथा विजय प्रकाश ,फायर सर्विसेज
तथा ज्योति नारायण ,आईजी कानून-व्यवस्था
और आईजी से एडीजी 2003 बैच के आईपीएस ऑफिसर
मोदक राजेश डी राव डीआईजी जो की गोरखपुर
तथा हीरालाल डीआईजी ईओडब्ल्यू
तथा विनय कुमार यादव, डीआईजी अभियोजन
संजय कुमार डीआईजी पीटीएस
और शिव शंकर सिंह डीआईजी पीटीसी
तथा राकेश सिंह डीआईजी देवीपाटन
तथा राजेश पांडे डीआईजी बरेली को डीआईजी से आईजी बना करके इनका प्रमोशन किया गया है।

वहीं दूसरी तरफ यदि हम 2007 बैच की बात करें तो अमित पाठक एसएसपी वाराणसी
तथा योगेंद्र कुमार एसएसपी गोरखपुर
तथा रविशंकर छवि एसएसपी विमेन पावर
तथा विनोद कुमार, एसपी कुशीनगर
तथा प्रतिभा अंबेडकर एसपी तकनीकी सेवा
तथा नितिन तिवारी, डीसीपी नोएडा
और अनिल कुमार सिंह, एसपी एससीआरबी
और डीजीपी मुख्यालय में तैनात हुए पंकज कुमार गोपेश खन्ना। इसके साथ ही अशोक कुमार तृतीय को एसपी से डीआईजी की पोस्ट पर प्रमोट किया गया। इसके अलावा 2008 की यदि बैच की बात करें तो 10 आईपीएस ऑफिसर को सिलेक्शन ग्रेड दिया गया। डीआईजी से आईजी की लिस्ट में दो अफसर अरविंद सेन तथा दिनेश चंद्र दुबे को लिफाफा बंद करके रखा गया है।

हालांकि इन पर भ्रष्टाचार के आरोप भी हैं और जिसकी जांच वर्तमान समय में चल रही है। अरविंद सेन के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई भी वर्तमान समय में चल रही है। इस तरीके से कुल मिलाकर के एडीजी के साथ-साथ 21 आईपीएस अफसरों का प्रमोशन लिस्ट में नाम आया।

खुशख़बरी – यात्रियों को मिलेगी राहत, बुंदेलखंड एक्सप्रेस मार्ग हो गया है तैयार ।

खुशख़बरी – यात्रियों को मिलेगी राहत, बुंदेलखंड एक्सप्रेस मार्ग हो गया है तैयार ।

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )   आपने सुना होगा कुछ समय पूर्व के बुंदेलखंड एक्सप्रेस मार्ग का कार्य निर्माण प्रारंभ किया गया है वह कार्य वर्तमान समय में तय किए गए समय से भी तेजी के साथ किया जा रहा है। माना जा रहा है की यह कार्य निर्माण जल्द ही पूर्ण हो जाएगा क्योंकि यह तय किए गए समय से पूर्व लगभग 32% अभी पूरा हो चुका है।

 

मंगलवार के दिन मुख्य कार्यालय अधिकारी जिनका नाम अवनीश कुमार अवस्थी है। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए इस निर्माण के बारे में बताया की – इस निर्माण कार्य में उन्होंने बताया की यह इतनी तेजी से चल रहा है के लगभग इसमें 32% कार्य पूरा हो चुका है और यह समय से पहले तेजी के साथ पूरा हुआ है।

 

 

 

इसके साथ ही उन्होंने निर्देश दिए की निर्माण में गुणवत्ता के साथ निर्माण कार्य का पूर्ण रुप से ध्यान दिया जाए। इस एक्सप्रेस मार्ग का तकरीबन 35% काम जुलाई की 2021 तक की पूरा हो जाएगा तय किया गया था , परंतु इसके कार्य की गति को देख करके लग रहा है की एक्सप्रेस मार्ग का एक्सप्रेस मार्ग निर्माण कार्य 2 महीने में पूर्ण हो जाएगा।   मुख्य कार्यालय अधिकारी ने निर्माण से संबंधित कहां के इस में तेजी लाने के लिए मशीनरी के साथ-साथ टेक्निकल स्टाफ की तादाद और बढ़ाई जाए और डीबीएम कार्य में भी तेजी करी जाए।

 

जाने आखिर कितना पूर्ण हो चुका है कार्य –

 

 

बता दें की इस एक्सप्रेस मार्ग में अभी तक के क्लीयरिंग तथा ग्रबिंग का काम तकरीबन 92% पूर्ण हो चुका है और मिट्टी का कार्य 73% से अधिक पूरा किया जा चुका है। दूसरी तरफ 819 में से 363 स्ट्रक्चर का कार्य भी पूरा हो चुका है।

अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया की यह निर्माण कार्य जुलाई 2021 में 35% दूसरा माइलस्टोन पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था। परंतु यह कार्य लग रहा है की 5 महीने पूर्व ही मतलब के 15 फरवरी तक के। पूरा हो जाएगा।

ब्रिटेन में निकले कोरोना का खौफ – लखनऊ ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश में फैला , बच्ची में मिला यह नया वायरस, सरकार ने दी चेतावनी।

बच्ची  में मिला  नया वायरस, सरकार ने दी चेतावनी।

 

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )   अभी उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी से निजात मिल नहीं पाई थी की ब्रिटेन में एक और कोरोना वायरस निकल आया जिसका खोफ़ लखनऊ के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश में फैला है।   हमने अभी तक तो सुना था की ब्रिटेन में नए कोरोना वायरस ने जन्म लिया है परंतु उत्तर प्रदेश की 2 साल की बच्ची जब से संक्रमित मिली है प्रदेश में खोफ़ फैल चुका है। कोरोना के बदले स्ट्रेन का यूपी में यह प्रथम मामला सामने आया है जिससे लोग डर गए हैं।

 

इस कोरोना वायरस से बचने के लिए अधिकारियों तथा पैरामेडिकल स्टाफ के लिए खास करके एडवाइजरी भी अलर्ट जारी कर दी गई है। जिसमें यह कहा गया है की वह बदले स्ट्रेन को लेकर पूरी तरीके से सचेत रहें और अस्पतालों को भी हाई अलर्ट कर दिया जाए। मरीजों को अलग आइसोलेशन वार्ड में एडमिट कर दिया जाए और कहां गया जो विदेश से लोग लौट रहे हैं उनको तकरीबन 28 दिन तक के घर में ही रहने के लिए कहा जाए। Rt-pcr रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद भी उन्हें घर में ही रहना होगा, विदेश से लौटे यात्री घर पर ही मास्क लगाकर के कुछ दिन तक के वक्त बिताएंगे

 

इसके साथ ही घरवालों से कम से कम वह मिलगें साथ ही यदि उनको सर्दी और बुखार या फिर दूसरे लक्षण उनमें दिखते हैं तो संक्रमित व्यक्ति को फौरन कंट्रोल सेंटर को भेजें दिया जाए। विदेश से लौटे सभी यात्रियों पर पूर्ण रूप से निगरानी रखी जाए।   उन पर पूर्ण रूप से नजर रखी जाए। निर्देश दिए गए इसके साथ ही हर हाल में आरटी पीसीआर जांच अवश्य कराई जाए।

 

 

इस स्ट्रेन वाले मरीजों को अलग से आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा और उन पर सख्त नजर भी रखी जाएगी साथ ही निर्देश में कहा गया की जिनोम सीक्वेंसिंग भी अवश्य कराई जाए।  डिपार्टमेंट ने यह भी निर्देश दिए हैं की यदि किसी मे नये स्ट्रेन का पता चलता है तो फौरन पूरी तरीके से वार्ड में रखकर इसकी सूचना विभागीय मुख्यालय तथा नियंत्रण कक्ष को दे दी जाए।

 

 

जाने ब्रिटेन से आए हैं कितने लोग –

 

आपको बता दें की ब्रिटेन से उत्तर प्रदेश लोग अभी तक के 565 आ चुके हैं और वह लापता भी है। इनको ढूंढा नहीं जा सका है। हालाकि बुधवार को 5 लोगों की पहचान की गई तो उनके सैंपल लिये गये और जांच के लिए सीएसआईआर दिल्ली को भेज दिया गया है।

 

इस बीच में स्वस्थ स्वास्थ्य विभाग ने ब्रिटेन से लौटे हुए लोगों को पता लगाने के लिए मंगलवार को कई जगह पर पूछताछ भी की, लेकिन अभी तक उनका पता नहीं चल पाया है। दिसंबर की 9 तारीख के पश्चात प्रदेश में आए हुए इन लोगों ने अधिकतर मोबाइल स्विच ऑफ कर दिये हैं और मोबाइल नॉट रिचेबल बता रहे हैं। लोगों से स्वास्थ्य विभाग का संपर्क तक नहीं हो पा रहा है।

लखनऊ में हुआ हादसा – इंजीनियरिंग छात्रा ने सड़क के किनारे करी ऐसी चौका देने वाली हरकत के लोग सहम गए हैं।

लखनऊ में हुआ हादसा – इंजीनियरिंग छात्रा ने सड़क के किनारे करी ऐसी चौका देने वाली हरकत के लोग सहम गए हैं।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   मंगलवार को लखनऊ शहर में एक छात्रा ने ऐसे दिल दहलाने वाली हरकत की के लोग सहम से गए लोगों ने पुलिस को फौरन सूचना दी और पुलिस से उस छात्रा को अस्पताल ले कर तुरंत पहुंचे परंतु डॉक्टरों ने कहा उसकी मृत हो गई है।

 

 

जी हां, उत्तर प्रदेश की राजधानी में एक चौका देने वाला हादसा सामने आया है। पीजीआई थाने से कुछ ही कदम की दूरी पर सड़क के किनारे स्कूटी से एक युवती पहुंची और उस युवती ने खुद पर पेट्रोल डाल के खुद को ही आग लगा ली। जब तक के लोग वहां पर पहुंचते की वह गोली सी बनी इधर-उधर बेचैनी से दौड़ने लगी। देर शाम के समय इस घटना की सूचना पुलिस अधिकारियों को मिली तो वह हैरत ज़दा हो गए। सूचना पाते ही मौके पर पुलिस वहां पर पहुंची और उस युवती को हॉस्पिटल पहुंचाया तो डॉक्टरों ने कहा की उसकी मृत्यु हो गई है।

 

 

 

बता दें की यह घटना रायबरेली रोड के समीप पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क के समीप की है। यह मंगलवार की शाम तकरीबन 6:30 बजे की है सौम्या कश्यप जिसकी उम्र तकरीबन 28 वर्ष की थी। इसके पिता का नाम मुन्ना लाल कश्यप रहने वाले यह सीतापुर सदर के हैं और इनकी स्कूटी लाल रंग की जिससे सौम्या कश्यप आई और वह स्कूटी से उतरी। सड़क के किनारे झोपड़पट्टी के पास पहुंचने पर उसने खुद पर पेट्रोल डाला और आग लगा ली। इस सीन को देखते ही। लोग सोच में पड़ गये और सौम्या को जैसे ही आग लगी। सौम्या गोला बन कर के पूरे में दौड़ने लगी। लोगों ने घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दी। इंस्पेक्टर आशीष द्विवेदी तथा बीनू सिंह तथा और भी अधिकारी वहां पर पहुंचे। पुलिस फौरन वहां पर सेे लेकर के हॉस्पिटल गई परंतु डॉक्टरों ने उसे मृत बता दिया।

 

 

पूछताछ के दौरान पता चला के सौम्या ने 2015 में राजस्थान से इंजीनियरिंग कॉलेज से बीटेक किया था। मंगलवार को वह काफी परेशान थी। उससे जब पूछा गया घर में तो उसने कुछ नहीं बताया और उसके बाद वह शाम 4:00 बजे घूमने जा रही है। यह कह कर के घर से बाहर निकली। बेटी जब काफी देर तक के घर वापस नहीं लौटी और उसका मोबाइल फोन भी घर पर ही था तथा पर्स जब देखा गया तो वह भी घर पर ही छोड़ कर के गई है तो इस पर परिवार जन थोड़ा सा घबराए कुछ उनको शक हुआ तो उन्होंने खोजबीन प्रारंभ की काफी तलाश किया और वह नहीं मिली। जब बहुत ज्यादा तलाश किया तो पता चला और इसकी सूचना घरवालों को पुलिस ने ही दी के और कहा के पीजीआई थाने परिवार के लोग तुरंत पहुंच जाएं शव को पोस्टमार्टम हाउस पहुंचाया गया ,अभी तक यह नहीं पता चल पाया है कि सौम्या ने आखिर इस बुरी तरीके से आग क्यों लगाई और क्या कारण था पुलिस अभी शिनाख्त कर रही है।