लखनऊ वासियों के लिए चौंकाने वाला खुलासा  लखनऊ की महिलाओं मैं  लगी यह लत।

लखनऊ वासियों के लिए चौंकाने वाला खुलासा  लखनऊ की महिलाओं मैं  लगी यह लत। 

लखनऊ को कौन नहीं जानता पूरे देश में सबसे ज्यादा अगर कुछ प्रचलित है तो लखनऊ के जायके तहजीब खानपान लखनऊ को नवाबों का शहर कहा जाता है। 

 

लेकिन आजकल इस नवाबों के शहर में एक बहुत ही दिलचस्प खुलासा हुआ है जिसमें देखा गया है कि महिलाओं में भी मेट्रो सिटीज की तरह शराब पीने का चलन बढ़ चुका है। 

शहर में कई वाइन शॉप्स लिकर शॉप्स है जहां लखनऊ की महिलाएं आए दिन शराब  खरीदते नजर आती है देखा जाए तो  पुरुषों की तुलना में भी महिलाएं अब शराब पीने के मामले में कमतर नहींआंकी जा सकती।

 

शहर के शॉपिंग मॉल और इंजीनियरिंग कॉलेज के आसपास दुकानों में महिला बिना   किसी संकोच के शराब खरीदती आए दिन नजर आ जाती है। 

देखा जाए तो पहले से ही हाई क्लास की और महिलाओं में यह एक प्रचलन है शराब पीने की आज कल हाई सोसाइटी में भी  महिलाएं बेहद खुशी से  और पीती हैं और पिलाती हैं।

देखा जाए तो कोरोना काल के बाद से लोगों में शराब पीने की चलन बढ़ चुकी है। और शराब की बिक्री में भी काफी इजाफा पाया गया है लोगों में कोरोना के बाद से एक मानसिक तनाव होने की वजह से भी देखा जा रहा है।

आए दिन लोग शराब का चस्का ज्यादा लगा रहे हैं आए दिन लोग नौकरियां जा रही है लोग डिप्रेशन में आ रहे हैं तथा बिजनेस बंद हो रहे हैं जिस वजह से शराब का चलन प्रचलन बढ़ता जा रहा है अगर यही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब दवा से ज्यादा लोग शराब खरीदते नजर आएंगे। 

लखनऊ वासियों के लिए खुशख़बरी लखनऊ डवलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा।

लखनऊ वासियों के लिए खुशख़बरी लखनऊ डवलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा। 

 

 लखनऊ वासियों के लिए एक अच्छी खबर है कि अब वह विकास प्राधिकरण ने फ्लैटों को बेचने के लिए पहले एक नियम बनाया है. जिसमें उन्होंने एक शर्त रखी है पहले आओ और पहले पाओ वाली इसमें कई ऐसी सारी खूबियां हैं।

जैसे कि अब सीजी सिटी पुरवा पंचशील व पर फ्लैट ऑनलाइन आप सीधे खरीद लेंगे आप लखनऊ से सीधे इसको अपने लोढ़ीपुरा में बुक करा सकते हैं।

ऑनलाइन वर्तमान में लवी प्राइस जनों के अपार्टमेंट बेच रहा था अब 12 जनवरी से सभी फ्लैट की सूची जारी कर दिया है। 

जिसमें कई ऐसे सारेफ्लैट का नाम दिया गया है जिसमें कि लखनऊ के वासीआराम से इस फ्लैट को ऑनलाइन खरीद सकेंगे। 

मौसम विभाग ने की चेतावनी जारी। लखनऊ में बढ़ा सर्द जाने कब तक रहेगी कप कपआने वाली पानी वाली ठंड।

लखनऊ में बढ़ा  सर्द जाने कब तक रहेगी कप कपआने वाली पानी वाली ठंड। 

लखनऊ में बढ़ रही है ठंड सर्द और गलन वाली ठंड लखनऊ वासियों के लिए  घर से निकलना मुश्किल कर दिया है। 

इस उत्तरी पश्चिमी सर्द हवा और गलन के साथ पूरा उत्तर प्रदेश मानिए कि थम सा गया है। 

मौसम विभाग ने प्रदेश के कुछ स्थानों पर अगले आने वाले 24 घंटों के दरमियान शीतलहर चलने की चेतावनी जारी की है इस अवधि में राज्य के कुछ स्थानों पर लगातार धूप नहीं निकल पाएगी जिस वजह से वहां पर ठंड बढ़ेगी और लोगों में ठंड का वातावरण रहेगा।

 

मौसम विभाग ने की चेतावनी जारी। कुछ स्थानों पर घना कोहरा छाया रहेगा तथा मंगलवार को दिन व रात के तापमान में प्रदेश के अधिकांश इलाकों में लगातार गिरावट पाई जाएगी।

बीते 24 घंटों के दौरान कानपुर प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान रहा।

जहां रात का तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया गोरखपुर ,प्रयागराज ,वाराणसी ,लखनऊ ,झांसी, में रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई कानपुर, आगरा में रात का तापमान और से भी निचले स्तर पर पाया गया जिससे उत्तर प्रदेश के इन इलाकों में ठंड का प्रकोप ज्यादा रहा। 

लखनऊ में फिर एक बहुत बड़ा घोटाला लगभग 450 सौ करोड़ लेकर हुए रफूचक्कर।

लखनऊ में फिर एक बहुत बड़ा घोटाला लगभग 450 सौ करोड़ लेकर हुए रफूचक्कर। 

लगभग 400 एफ आई आर दर्ज होने के बावजूद भी लखनऊ पुलिस नहीं कर पा रही है जांच करीब ४५० सौ करोड रुपए की ठगी को लेकर लगातार आदेश जारी हो रहे हैं।  लोगों  कि इनको जल्द से जल्द इनकी तलाश कर इनको पकड़ा जाए। 

इन  पर सही कार्रवाई किया जाए लखनऊ में राजधानी की पुलिस रोहतास बिल्डर को 4 वर्ष से तलाश नहीं कर पा रही है।

जिस वजह से हाई  कमांड ने इनके ऊपर नाराजगी जताई है।  तथा 2016 से ही कई एफ आई आर दर्ज हो गई थी लेकिन पुलिस की नाकामी से बिल्डर हमेशा बचता रहा है। जिस वजह से अभी तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

अब देखा जाए तो है हाईकमान से सख्ती के बाद पुलिस ने बिल्डर पर शिकंजा कसते हुए उसके एमडी एवं सीएमडी को भगोड़ा घोषित कर दिया है।

रोहतास बिल्डर ने राजधानी के 1950 से लगभग ४५०  की ठगी की है। नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल एनसीएलटी के जांच में इतनी बड़ी रकम ठगी का खुलासा हुआ है।

लोगों के पैसे लेकर भागने के बावजूद उन्होंने बैंकों को भी नहीं छोड़ा है।

उन्हें बैंकों से भी लगभग डेढ़ अरब रुपए लेकर रफूचक्कर हुए हैं रोहतास बिल्डर ने बैंकों को भी चूना लगाने से नहीं रह सके १ अरब ५ करोड़ लोन लिया था।

 सभी मिलकर इन बिल्डरों के खिलाफ जांच तथा गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। 

सावधान लखनऊ में बर्ड फ्लू का खतरा और गंभीर होता जा रहा है,

कानपुर के बाद बर्ड फ्लू का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है कानपुर के चिड़िया-घर के बाद अब उत्तर प्रदेश की राजधानी में तथा अन्य कई और स्थानों पर पक्षी मृत मिलने से प्रदेश में बर्ड फ्लू का खतरा काफी गंभीर होता दिख रहा है। 

कानपुर जू प्रशासन ने रविवार को प्रभावित बाड़े के कई दर्जन पक्षियों के शव को जला दिया क्योंकि यह सब पक्षियों के बर्ड फ्लू से संक्रमित हो चुके थे। 

संक्रमण मिलने से चिड़िया-घर के आसपास के इलाके को कंटेनमेंट जोन में तब्दील किया जाएगा। 

कानपुर में पक्षियों की मौत के बाद उनके नमूनों की भोपाल से जांच रिपोर्ट में पाया गया कि या पक्षी व ब्लू में ग्रसित थे लखनऊ जू का पक्षी बाड़ा भीमद्दे नज़र देखते हुवे अगले आदेशों तक दर्शकों के लिए बंद कर दिया गया है।

क्योंकि यहां पर भी बर्ड फ्लू का खतरा काफी गंभीरता से लिया जा रहा है।

और कानपुर के देख-रेख में चिड़िया-घर में पाए जाने वाले बर्ड फ्लू संक्रमित पक्षियों को हटाया गया जिस वजह से लखनऊ चिड़िया-घर में भी कई ऐसे पक्षी का नमूने भोपाल भेजा गया है।

जिसे जांच अधिकारियों को शक है कि यह भी बर्ड फ्लू संक्रमित हो सकते हैं.

राज्य सरकार तथा केंद्र सरकार ने बर्ड फ्लू फैलने की गंभीरता को देखते हुए चिड़िया-घर के सारे प्रबंधन तथा कर्मचारियों को निर्देश भेजा है। कि केंद्रीय चिड़िया-घर प्राधिकरण सीजेडए को दैनिक रिपोर्ट भेजें और बताएं कि वहां के स्टेशन तथा आने वाले सभी वाहनों को किस तरह से जांच प्रक्रिया किया जा रहा है। 

इन सभी क्षेत्रों में प्रबंधन का तथा कर्मचारियों का सख्त करवाई रहेगी

लखनऊ वासियों के लिए खुशखबरी 4 जनवरी से चलने वाली है नई ट्रेन।

लखनऊ वासियों के लिए खुशखबरी 4 जनवरी से चलने वाली है नई ट्रेन।

 

रेलवे द्वारा सूचित किया जाएगा सारे लखनऊ वासी यात्रियों के लिए एक नई सुविधा प्रधान होगी लखनऊ जंक्शन से आगरा फोर्ट जाने वाली स्पेशल ट्रेन चलाने के लिए रेलवे प्रशासन ने रेलवे मैनेजमेंट द्वारा एक ठोस कदम उठाया गया है। 

 

रेलवे द्वारा यह कदम काफी सराहनीय है और फायदेमंद है जिससे हमारे लखनऊ वासियों के लिए सुविधाजनक यात्रा हो सकेगी। 

 

लखनऊ जंक्शन से आगरा फोर्ट स्पेशल ट्रेन या ट्रेन दोनों दिशाओं से 4 जनवरी से 31 मार्च तक संचालित होंगी रेलवे मैनेजमेंट ने शनिवार और रविवार को छोड़कर बाकी सारे दिनों में इस ट्रेन को  संचालित लेने का फैसला लिया है। 

बताया जा रहा है रेलवे  प्रबंधक द्वारा इसमें सारे कोच पैसेंजर के लिए आरक्षित होंगी गौरतलब  यह है  की ट्रेन का नंबर 02179  है। 

ट्रेन चलने का समय लखनऊ से 3;55 से है  यह ट्रेन लखनऊ से चलकर उन्नाव कानपुर सेंट्रल पनकी भरथना इटावा शिकोहाबाद फिरोजाबाद टूंडला यमुना ब्रिज के रास्ते 9:49 पहुंचेगी। 

 

 इसी ट्रेन की वापसी का समय इस द्वारा प्रबंध किया गया है वापसी ट्रेन का नंबर 02180 रहेगा आगरा फोर्ट से सुबह 6:30 बजे चलकर इन्हीं चिन्हित रास्तों से होकर यमुना ब्रिज से 6:43 बजे टूंडला से 7:22 बजे लखनऊ जंक्शन दोपहर 12:25 तक पहुंच जाएगी। 

 

इस गाड़ी में यात्रियों की सुविधा अनुसार साधारण द्वितीय श्रेणी के 3 आदित्य श्रेणी चेयर कार के 9 वातानुकूलित चेयर कार के दो तथा एस एल आर एस एल आर डी के 2 कोच मिलाकर 16 कोच लगेंगे जो कि हमारे लखनऊ वासियों तथा आगरा वासियों के लिए उनके सुविधा अनुसार  संयोजित किया गया है। 

लखनऊ यूनिवर्सिटी ने इस सत्र स्नातकों के लिए लागू की नई व्यवस्था ,क्या इन स्नातकों को मिल सकेगी डिग्री ?

लखनऊ यूनिवर्सिटी ने इस सत्र स्नातकों के लिए लागू की नई व्यवस्था ,क्या इन स्नातकों को मिल सकेगी डिग्री ?

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  लखनऊ विश्वविद्यालय में पीएचडी के तरीके से स्नातक में भी व्यवस्था कर दी है इस व्यवस्था के कारण पूर्व की तरह स्नातकों को जल्दी और आसानी से डिग्री मिलना आसान नहीं होगी। क्योंकि यूनिवर्सिटी ने मास्टर के नियम स्नातक में भी लागू कर दिए हैं।  लखनऊ विश्वविद्यालय ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के द्वारा कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए मास्टर तथा पीएचडी की तरीके से अब स्नातक में भी व्यवस्था बना दी है।

 

 

 

इनको सर्वप्रथम कुछ समय के लिए संबंधित विषय में प्रैक्टिकल और ट्रेनिंग करनी पड़ेगी। उसके पश्चात छात्र यदि किसी भाषा के विषय पर पढ़ाई कर रहे हैं तो उनको किसी पब्लिकेशन हाउस में प्रशिक्षण करना होगा। इसी तरीके से जो भी विद्यार्थी स्नातक में पढ़ रहे होंगे, उनका प्रशिक्षण सही वक्त के लिए आवश्यक हो जाएगा। इस ट्रेनिंग को पूर्ण करने के पश्चात ही छात्रों को डिग्री मिल पाएगी।\

 

 

 

लखनऊ विश्वविद्यालय इस नई शिक्षा नीति के जरिए इस बदलाव के कार्य को तेजी से कर रहा है जिसके जरिए स्नातक में की गई पढ़ाई के जमीनी उपयोग को लेकर 1 से 3 महीने की ट्रेनिंग करवाई जाएगी जो की विद्यार्थियों को भिन्न-भिन्न संस्थान में करनी पड़ेगी और लाभ ये होगा कि उनको आवश्यक जानकारियों के साथ जल्दी रोजगार भी प्राप्त होगा।

ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

ग्रामीणों का भी होगा अब वैक्सीनेशन क्योंकि अब लघु स्तरीय योजना हो गई है तैयार।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  अभी तक कि शहरी क्षेत्रों में लघु स्तरीय योजना को टीकाकरण के लिए तैयार किया जा रहा था, परंतु अब ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी इस योजना को तैयार किया जाएगा। जिससे कि वहां पर भी टीकाकरण की प्रक्रिया को प्रारंभ किया जा सके।

 

 

 

आपको बता दें कि प्रदेश के तकरीबन 75 डिस्ट्रिक्ट में केवल दो ही जिले ऐसे जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है बाकी जिलों में जैसे कि लखनऊ तथा अन्य ब्लॉक में कंट्रोल रूम बन गया है। यह 2 जिले जहां पर कंट्रोल रूम नहीं बना है वह कानपुर देहात तथा लखनऊ है।

बाकी सारी ब्लॉकों में वर्तमान समय में कंट्रोल रूम बन चुके हैं। तकरीबन 59 जिले ऐसे हैं जहां पर ब्लॉक टास्क फोर्स का भी गठन किया जा चुका है। शामली डिस्ट्रिक्ट को यदि छोड़ दे तो तकरीबन 74 डिस्टिक के ब्लॉक में फ्रंट लाइन वर्क की ऑपरेशनल गाइडलाइन के जरिए ब्लॉक लेवल ट्रेनिंग भी पूर्ण की जा चुकी है।

 

 

इसके साथ ही वैक्सीन की हिफाजत के लिए ब्लॉक मुख्यालयों तक के पहुंचाने तथा वहां उसे पूरी तरीके से सेफ रखने के लिए व्यवस्था की जा चुकी है। और प्रैक्टिस भी अब तक के अधिक ब्लॉकों में पूर्ण की जा चुकी है।  विभागीय अधिकारियों ने बताया की कोरोना के टीकाकरण के लिए ग्रामीण इलाकों में ब्लाक मुख्यालयों पर व्यवस्था को अच्छी तरीके से किया गया है। जिस आसपास के ग्रामीण इलाकों को वैक्सीन लगाई जाएगी वहाँ शहरी एरिया की तरीके से ब्लॉक में भी पूर्व फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके लगाए जाएंगे।

 

 

 

इसके बाद वह लोग जो कि 50 साल से अधिक है और रोग से ग्रसित हैं। उनको तैयार की गई सूची के जरिए अलग-अलग डेट में टीकाकरण सेंटर पर बुलाकर के टीका लगवाया जाएगा। शहरी क्षेत्र के तरीके से ही ब्लॉकों के वैक्सीनेशन सेंटर भी बनए जएगे ये टीकाकरण सेन्टर ग्राम के शहर के तरह होंगे ये कमरे 3 होंगे , जिसमें टीका के सारे प्रोटोकॉल को पूरा करते हुए टीके लगाए जाएंगे।

लखनऊ एलडीए ने किया दुकानों को सील जानिए आखिर था क्या कारण?

लखनऊ एलडीए ने किया दुकानों को सील जानिए आखिर था क्या कारण  ?

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  राजधानी में बंगला बाजार में बिजनौर मार्ग पर सड़क पर कुछ दुकानें बने थे जिनको बुधवार के दिन एलडीए ने सील कर दिया । हालांकि इन दुकानों को सील करने के समय लोगों ने इसका खुलकर के विरोध किया, परंतु एलडीए के लोगों ने उनकी एक न सुनी।

 

 

बता दें की यह दुकाने सड़क के किनारे फुटपाथ पर जमीन पर बनाई गई थी। इन दुकानों की संख्या 6 थी जो की बुधवार के दिन बंगला बाजार में बिजनौर रोड पर इन बनी हुई दुकानों को एलडीए ने सील कर दिया। इसका निर्देश संयुक्त सचिव रितु सुहास ने दिया था। जिन के निर्देश के पश्चात अभियंताओं ने इन दुकानों को सील करा  इसका विरोध भी लोगों ने किया परंतु अभियंता नहीं माने कार्यवाही रुकवाने का प्रयास कफी किया गया कुछ नेता ने भी इसे बचाने के लिए अपनी एड़ी चोटी का जोर लगा दिया परंतु एलडीए के लोग नहीं माने।

 

 

जाने दुकान से संबंधित बातें –

 

 

मंगलवार के दिन सड़क पर बनी हुई दुकानें मे शाम के समय शटर नहीं लगे हुए थे। परंतु जब रात में शटर लगाया तो एलडीए के अभियंता बुधवार के दिन दोपहर के समय वहां पर पहुंच गए और दुकानों में लगे हुए शटर को सील कर दिया और नोटिस लगा कर के वहां से चलते बने अभियंताओं ने दुकानों में ना अपना किसी तरह का ताला डाला और ना उसे सील किया है बता दे केवल नोटिस वहां पर लगाई है और दुकानों के शटर अभी भी खुले हुए हैं। इसमें कोई भी संचालन प्रारंभ जिससे आज भी किया जा सकता है।

B.Ed कॉलेज में अब हुआ अवैध शराब बिकना प्रारंभ फैक्ट्री का हुआ बड़ा खुलासा।

B.Ed कॉलेज में अब हुआ अवैध शराब बिकना प्रारंभ फैक्ट्री का हुआ बड़ा खुलासा।

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   यूं तो आए दिन अवैध शराब से संबंधित मामले सामने आया करते हैं। परंतु इस बार B.Ed कॉलेज में चल रहे अवैध शराब की फैक्ट्री से संबंधित मामला सामने आया, जिसका खुलासा 6 दिन के पश्चात पुलिस ने किया।

 

 

बता दें की मेरठ के जानी खुर्द के B.Ed कॉलेज में अवैध शराब की फैक्ट्री चल रही थी। इस बात का खुलासा मेरठ के पुलिस ने 6 दिन के अंतर्गत किया जानी खुर्द तथा कंकरखेड़ा थाना पुलिस ने भोला रोड पर ब्रेजा कार को रुकवाया। उसके बाद चेकिंग की और तोहफा ब्रांड की देसी शराब को पकड़ा। जब पूछताछ की पुलिस ने तो बात पूछताछ के पश्चात गांव पीपला में स्थित तेजबीर मेमोरियल B.Ed कॉलेज तक के पहुंची।

 

 

 

और जब यहां पर चेकिंग की पुलिस ने तो यहां पर अवैध शराब का भारी भंण्डार मिला 6 दिन के पश्चात पुलिस ने इस गुड वर्क का खुलासा कर दिया। सोमवार के दिन मेरठ दौरे पर आए आबकारी आयुक्त पी गुरुप्रसाद ने इस बाबत पुलिस से रिपोर्ट मांगी है। पुलिस ने अभी तक के मंगलवार को चार अभियुक्तों को जेल भी भेज दिया है।