Good news for the people of Lucknow – बजट प्रबंध करके, लखनऊ नगर निगम बदलेगा अब शहर की सूरत।

बजट प्रबंध करके लखनऊ नगर निगम बदलेगा अब शहर की सूरत।

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  लखनऊ नगर निगम में लखनऊ वासियों को राहत प्रदान करने की ठान ही ली है। नगर निगम अपने कार्य को व्यवस्थित ढंग से करने के लिए कभी ऐप लॉन्च करने का प्रयत्न करने में लगा है तो कभी बजट प्रबंध कर शहर की सूरत को बदलने का दिन पर दिन प्रयत्न करने कर रहा
बजट का प्रबंध कर नगर निगम सड़कों तथा नालियों का निर्माण कार्य जल्दी करेगा।

लखनऊ नगर निगम अब शहर में 180 करोड़ रुपए के बजट से सड़कों और नालियों का निर्माण जल्द से जल्द करेगा और शहर के लोगों को गंदगी से छुटकारा प्रदान करेगा और वार्ड विकास निधि की रकम से 5 लाख की रकम पार्षद कोविड-19 की रोकथाम से संबंधित मामलों पर खर्च करेगा और पेयजल आपूर्ति को सुधारने का प्रयत्न करेगा। नगर निगम हाउस टैक्स में लगातार हो रहे घपले की भी जांच करेगा रविवार को नगर निगम सदन में इस बजट को पास कर दिया गया है।

लखनऊ में नालियों का सबसे बुरा हाल-

सभी समस्याओं में सबसे अधिक गंदगी भी एक समस्या बन चुकी है इसका श्रेय नालियों को भी जाता है कुछ क्षेत्रों की नालियां तो ऐसी है जो अधिक पुरानी हो गई है जिसके चलते वह कूड़ा करकट से पट गई हैं और जब पानी बरसता है तो उन नालियों का पानी रोड तक आ जाता है। यही नहीं वह पानी लोगों के घर तक के, आ कर नाली का कूड़ा कचरा लोगों के घर में तैरता मिलता है।

उन क्षेत्रों की नालियों में अकबरी गेट की नालियों का बहुत बुरा हाल है। साथ ही आगे बढ़ने पर कश्मीरी मोहल्ले की नालियों का भी बुरा हाल है। और इसके अंदर यदि और जाया जाए तो अंगूरी बाग की नालियां तो पूरी तरह से पट गई हैं जो घर उचाई पर नहीं बने हैं। बारिश होने पर उनके घरों में कूड़ा कचरा नालियों का,  बारिश के दिनों में तैरता मिलता है।

 

जानिए बजट के बारे में।

नए इलाकों में पानी के पाइप डाले जाएंगे जिसमें लागत 30 लाख आएगी

और हैंडपंपों की मरम्मत पर 25 लाख लागत आएगी।

नगर निगम के जोन आठ तथा जानकीपुरम को सीवर लाइन से जोड़ने पर लागत 50 लाख आएगी।

हाई हैंड के पंपसेट पर 40 लाख रुपए की लागत आएगी।

नलकूपों की बोरिंग पर छह करोड़ की तकरीबन लागत आएगी।

जोन 8 में सीवरेज स्टेशन पर नए पंप लगाए जाएंगे और जिसकी लागत ₹30 लाख आएगी

सुरक्षा उपकरण पर तकरीबन यह लागत 51 लाख आएगी

सड़कों की मरम्मत तथा नालियों के लिए 180 करोड़

नालों के निर्माण के लिए 50 लाख लागत आएगी।

पार्को के लिए एक करोड़

और भवन निर्माण के लिए तकरीबन डेढ़ करोड़ रुपए खर्च होंगे।

स्ट्रीट लाइट पर 12.70 करोड़

कल्याण मंडप पर डेढ़ करोड़ खर्च होंगे।

श्मशान घाटों पर भी अच्छी व्यवस्था की जाएगी और कब्रिस्तान की मरम्मत के लिए 30लाख लगेंगे।

संविदा सफाई ठेका पर 70 करोड़ और

नालों की सफाई पर 80.60 लागत आएगी।

इसके साथ ही नए कूड़ा घर के निर्माण पर दो करोड़

नागरिक सुविधाओं पर 30 लाख खर्च होंगे।

अटल उपवन के लिए 5 करोड़

अमीनाबाद स्मार्ट कॉलेज पर 40 लाख रुपए खर्च होंगे।

Leave a Comment