Lucknow के केडी सिंह बाबू स्टेडियम की जल्द ही सुधरेगी दशा, जाने क्या होगी व्यवस्था ?

केडी सिंह बाबू स्टेडियम की जल्द ही सुधरेगी दशा, जाने क्या होगी व्यवस्था ?

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )  लखनऊ शहर में स्थित केडी सिंह बाबू स्टेडियम की जल्द ही दशा सुधरने वाली है यहां के खिलाड़ियों को अब नई व्यवस्था जल्द ही उपलब्ध कराई जाएगी। नगर निगम इन डारमेट्रियों को स्मार्ट सिटी योजना के द्वारा तैयार कर रहा है। इसके तैयार होने के पश्चात खिलाड़ियों को रुकने के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा।

 

 केडी सिंह बाबू स्टेडियम की दशा –

इस केडी सिंह बाबू स्टेडियम की दशा सुधारने के साथ-साथ चमकती दीवारें बनवाई जाएंगी और बढ़िया दरवाजे तथा अलमारी और सोने के लिए आराम के बिस्तर और साफ-सुथरे शौचालयों का प्रबंध किया जाएगा। इस स्टेडियम में तकरीबन 300 खिलाड़ियों के रुकने की व्यवस्था भी की जाएगी और दो डारमेट्रियों का निर्माण भी कराया जाएगा।

बता दें की इस स्टेडियम की हालत खस्ता हो चुकी है और यहां का सीवर चोक होता है हालत यह है की दरवाजे जल गए हैं और हर तरफ गंदगी है , टीमों को ठहराने के पूर्व आयोजकों को डारमेट्री को साफ कराना पड़ता है हालाके  डारमेट्रियों की यह दशा देखकर के आयोजकों ने खिलाड़ियों को अलग स्थानों पर ठहराना प्रारंभ कर दिया है ।

इस स्टेडियम की डारमेट्रियों की दशा सुधारने के लिए स्मार्ट सिटी योजना के द्वारा नगर निगम को यह काम मंडलायुक्त मुकेश ने सौंपने की पहल की ,और वर्तमान समय में नगर निगम ने इस काम का प्रारंभ कर दिया है।

अभियंता विकास कुमार के अनुसार काम दिसंबर के अंत तक पूर्ण हो जाएगा। डारमेट्री के सभी दरवाजे और खिड़कियां नई लग जाएंगी। और शौचालयों में भी सुधार किया जा रहा है। यहां गंदे पानी के निकालने की बहुत ज्यादा दिक्कत होती है पानी भरा न रहे इसकी भी व्यवस्था की जा रही है , नई सीवर लाइन डाली जा रही है। उन्होंने बताया कि नए सिरे से रंगाई पुताई भी यहां पर होगी। फर्श पर नए पत्थर तथा टाइल्स लगवाए जाएंगे।

उपर्युक्त कार्य में फिलहाल तकरीबन खर्च डेढ़ करोड़ रुपए का होगा । और कहा की यह आने वाले वक्त में काम के अनुसार बढ़ भी सकता है। क्रीड़ा अधिकारी जितेंद्र कुमार यादव से वार्तालाप करने के पश्चात पता चला कि केडी सिंह बाबू स्टेडियम अगले वर्ष के प्रारंभ तक के नए रूप में अपना रंग बिखेरेगा और स्टेडियम के अंदर सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर सिस्टम भी लगवाए जाएंगे। मैदान के किनारे किनारे पर बैरिकेडिंग जाली लगेगी यही नहीं डारमेट्री ओर की सड़क भी बन जाएगी।

Leave a Comment