लखनऊ।कोरोना हुवा बेलगाम कंट्रोल सेंटर भी नहीं आ रहे काम।

 

Location Confirmed Recovered Deaths
Uttar Pradesh
127K
76,724
2,120
Lucknow
3,235
1,221
43
Maharashtra
525K
358K
18,050
Tamil Nadu
303K
245K
5,041
Andhra Pradesh
236K
146K
2,116

 

कोरोना का कोहराम कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के लिए स्थापित इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सेंटर जिन क्षेत्रों में सही सुचारु ठीक ढंग से नहीं चल रहे हैं।

उनमें से 10 शहरों में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की हालत लगातार बिगड़ती जा रही है यूं कहें कि हालात बद से बदतर होती जा रही है। 

देखा जाए तो जहां कोरोना मरीज संक्रमित मरीजों  की संख्या बढ़ रही है उस क्षेत्र में मरने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है अगर संख्या संक्रमित मरीजों की बढ़ती है तो स्वाभाविक है की मरने वालों की संख्या भी बढ़ेगी।

राज्य सरकार निरंतर इस पर नजर बनाए रखी है और सारे मूलभूत सुविधाओं को अस्पतालों तक पहुंचाया जा रहा है इसके विपरीत स्थिति फिर भी भयावह दिखती जा रही है। 

देखा जाए तो वही राज्य के कुछ जिलों में कोरोना मरीजों की मौत के आंकड़े भी आश्चर्यजनक रूप से बड़े हैं।

शनिवार को ही मुख्यमंत्री के निर्देश पर कंट्रोल सेंटर में अव्यवस्था वाले 21 जिलों के डीएम से स्पष्टीकरण मांगा है कोविड संक्रमित मरीजों की रफ्तार को थामने और मृत्यु दर पर नियंत्रण में असफल साबित हो रहे।

राजधानी लखनऊ में अस्पतालों के प्रमुख और सीएमओ तक को बदल दिया गया फिर भी ऐसे ही सीधे सीएम हाउस की नजर में आ गई मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशानुसार इंटीग्रेटेड मरीजों के लिए कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में बैठक करेंगे।

वहां की सारी आवश्यक व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करके इनका देखभाल किया जाएगा और मुख्यमंत्री कार्यालय में किसकी रोज रिपोर्ट भी दी जाएगी।

कोरोना संक्रमितों की संख्या कम करने के लिए लोगों की भी जिम्मेदारी बनती है।

राज्य सरकार कंट्रोल सेंटर एक नोडल प्रभारी बनाएंगे ताकि 24 घंटे चल सके और वहां एक अलग ऑनलाइन  की व्यवस्था हो और सरकारी कर्मचारियों एवं उनकी अपने निजी कोविड-19 फोन नंबर तक भी दिए जाएंगे।

लखनऊ में देखा जाए तो इन सेंटरों से ही प्रतिदिन  मरीजों के हाल लिया जाएगा जो कि डायरेक्ट सीएमओ ऑफिस से ऑपरेट होगा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर कड़ी  निगरानी बनाते हुए इन सब छेत्रो के डीएम को आदेश दिया है। 

लखनऊ कि इन सब कार्यों के देखभाल और निर्देश डीएम ऑफिस से प्रसारित किया जाएगा अगर इन किसी भी क्षेत्रों में डीएम या डीएम ऑफिस से ढिलाई बरती जाएगी तो इसको संज्ञान में लिया जाएगा।

हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन जिलों में जिलाधिकारी  के ढिलाई  कामों को देखते हुए उसे आज्ञा का पालन न करने के आरोप लगाते हुए इन सभी से कारण पूछा है। 

Leave a Comment