उत्तरप्रदेश। लखनऊ। के एक होनहार ने बना डाला हवा से चलने वाला बाइक।

अबआ गई हवा से चलने वाली बाइक  देखे क्या है खासियत। 

  • उत्तरप्रदेश। लखनऊ। के एक होनहार ने बना डाला हवा से चलने वाला बाइक।

अब होंगे आम लोग टेंशन फ्री डीजल पेट्रोल का नहीं टेंसन। अब चलेगा हवा से दो पहिया वाहन ₹5 की हवा भर करे  45 किलोमीटर तक का सफर। बाइक स्पीड 80  किलोमीटर प्रति घंटा तक जाएगी। 

 

आज के दौर में आपने देखा होगा कई ऐसी टेक्नोलॉजी डेवलप की जा रही है जिससे देश के साथ-साथ आम लोगों का भी विकास हो रहा है। 

विकास के , इसी दौर में आम लोगों की रोजमर्रा की परेशानियां डीजल पेट्रोल से होती हैं।  आए दिन डीजल पेट्रोल का दाम बढ़ता है जिससे  लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

air bike
air bike

लेकिन बीते कुछ वर्षों से निरंतर हमारे वैज्ञानिक दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की कर रहे हैं।

 

आज उसी का एक मिसाल है आज के दौर में जब पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी का बजट बिगाड़ दिया हैपॉकेट ढीली कर दी है तो एक ऐसी बाइक चर्चा में आई है जो हवा से चलती है 45 किलोमीटर तक का सफर तय करने के लिए इस बाइक में ₹5 की हवा सिर्फ लगती है और इस ₹5 की बाइक के में हवा भरने से 45 किलोमीटर तक की सफर हो आती है।

 

 

बाइक टॉप स्पीड अभी तक प्रति घंटा है हालांकि यह भी बढ़कर 120 किलोमीटर तक जा सकती है। 

इस बाइक के लिए भारत सरकार ने पेटेंट भी जारी कर दिया है कमाल कि बात है यह बाइक लखनऊ के स्कूल ऑफ मैनेजमेंट साइंस के महानिदेशक तकनीकी प्रोफेसर  भरत-राज सिंह ने बनाया है। 

 

Samsung Galaxy S10 (Black, 8GB RAM, 128GB Storage)

 

 

भरत-राज सिंह उनका कहना है ,कि यह बाइक।

  • हवा के दबाव से चलती है।
  • नॉर्मल हवा इसके सिलेंडर में भरी जाती है। 
  • एक बार हां भरवाने का खर्चा ₹5 आता है।
  • जिससे यह आम आदमी के जीवन में और उनकी पॉकेट पर बिल्कुल फिट बैठता है।
  • एक बार पैसा ₹5 की हवा भरने से मात्र यह  बाइक 45 किलोमीटर तक चल जाती है। 
  • इसकी स्पीड 70 से 80 किलोमीटर प्रति  घंटा है। 

 

 

अभी फिलहाल भरत राज सिंह इसके पेटेंट के लिए बीते 10 सालों से कोशिश कर रहे थे। 

भरत-राज सिंह अब इसका पेटेंट इन्हें मिल गया है अभी सुरक्षा मानकों का होना है परीक्षण या बाइक वाकई में अजूबा है  सिर्फ ₹5 के खर्च में 45 किलोमीटर की दूरी तय करने का मतलब यह है कि इसमें पेट्रोल के मुकाबले काफी कम लागत में अपनी मंजिल तक पहुंचा जा सकता है।

 

अभी इस मोटरसाइकिल लिए खासा प्रोडक्शन के बारे में डिटेल सामने नहीं आ पाई है। लेकिन यदि यह बाइक अगर अपने सुरक्षा मानकों पर खरा उतरती है तो यह बाइक हमारे देश के लिए एक उम्मीद की नई किरण हो सकेगी। 

साथ ही भरत राज सिंह। के लिए एक बहुत बड़ा तोहफा होगा उनका क्योंकि भरत राज सिंह पिछले 10 साल से इस बाइक के पेटेंट के लिए तपस्या कर रहे हैं। 

और रात-दिन एक करके इस बाइक की हर फाल्ट को ठीक कर रहे हैं जिससे उनकी इस बाइक से उम्मीदें बढ़ जाती हैं अब  आने वाला समय ही इस बाइक का भविष्य तय करेगा। 

भरत राज सिंह।के मेहनत का रंग लाएगा। 

Leave a Comment