त्योहारों के मद्देनजर लखनऊ सहित उन्नाव तथा आगरा में सस्ती हुई सीएनजी, बिक्री दर में 1.55 रूपये की कमी

लखनऊ: त्योहारों के मद्देनजर ग्राहकों को राहत देने हेतु सीएनजी सप्लाई से जुड़ी ग्रीन गैस कंपनियों ने सीएनजी की बिक्री दर में कटौती करने का फैसला किया है। आपको बता दें वर्तमान समय तक उपभोक्ताओं के लिए सीएनजी की कीमत 62.50 प्रति किलोग्राम थी। मगर त्योहारी मौसम को देखते हुए कंपनियों ने इस दर में 1.55 रुपए की कटौती करने का निश्चय लिया है। 

सीएनजी सप्लाई से जुड़ी ग्रीन गैस कंपनी के मुख्य मार्केटिंग अधिकारी एसपी गुप्ता ने यह जानकारी साझा करते हुए बताया कि सीएनजी के दामों में आई इस गिरावट का मुख्य कारण केंद्र सरकार के स्तर से नेचुरल गैस की खरीदारी कीमत में कमी को बताया गया। इसी वजह से सीएनजी के दामों में उपभोक्ताओं को राहत मिली है। 

मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार यानी 6 अक्टूबर के प्रातः 6:00 बजे से यह नई बिक्री दर लागू कर दी जाएगी। इस नए दर के लागू कर दिए जाने के बाद लखनऊ शहर के साथ साथ उन्नाव तथा आगरा के उपभोक्ताओं को या यूं कहें वहां के वाहन चालकों को सीएनजी 60.95 रुपये प्रति किलोग्राम के दर से मिलनी शुरू हो जाएगी।

हालांकि उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया कि पीएनजी की कीमत में फिलहाल कोई बदलाव देखे जाने की उम्मीद नहीं है। जिसका अर्थ यह है कि सीएनजी के दामों में गिरावट जरूर हुई है मगर पीएनजी के दाम ज्यों के त्यों रहेंगे।

लखनऊ समेत दो अन्य जिलों में बनाया जाएगा फ्लैटेड फैक्ट्री कॉन्प्लेक्स

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी  लखनऊ में  अब फ्लैटेड फैक्ट्री कॉम्प्लेक्स  बनने जा रहा है। आपको बता दें यह कॉम्प्लेक्स पहले आगरा में केवल बनने जा रहा था। मगर अब लखनऊ समेत दो अन्य जिलें गोरखपुर और गाजियाबाद मे भी बनने जा रहा है।  मिली जानकारी के अनुसार  नवनीत सहगल जो सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अपर मुख्य सचिव है, ने  बीते गुरुवार को लोक भवन में एमएसई सीडीपी की राज्यस्तरीय स्टीयरिंग कमिटी की बैठक की अध्यक्षता की। बैठक के दौरान उन्होंने बहुत ही महत्वपूर्ण बातों के विषय में चर्चाएं की एवं निर्देश जारी किए।

 जारी किए गए कई निर्देश

 बैठक के दौरान नवनीत सहगल ने जनपद संतकबीर नगर में ब्रासवेयर, गोरखपुर में टेराकोटा / पाटरी, सोनभद्र में कारपेट एवं दरी तथा अलीगढ़ में बाल बियरिंग स्लाइड चैनल एंड अदर माडुलर फिटिंग तथा फिक्चर क्लस्टर का कार्य जल्द से जल्द शुरू करने का निर्देश जारी किया। इसके अलावा राज्य के सात औद्योगिक आस्थानों जिनमें तालकटोरा, लखनऊ; सराय मलुही तथा खेराबाद, सीतापुर; सिद्धिकपुर, जौनपुर; नैनी, प्रयागराज; झीझंक, कानपुर देहात तथा ठंडी सड़क, फरूर्खाबाद में मूलभूत सुविधाओं को मजबूत किए जाने से संबंधित प्रस्तावों पर भी अपनी सहमति दी।

इसके साथ ही साथ उन्होंने ओडीओपी के तहत बनने वाले क्लस्टर के कामों में जितनी भी प्रोफेशनल कंपनियां है उनके द्वारा दी जा रही सेवाओं का इस्तेमाल करने का निर्देश जारी किया। ऐसा करने के पीछे का मकसद इन कार्यों में तेजी लाना है।

आपको बता दें जो कंपलेक्स आगरा में बनने वाली है उसकी रूपरेखा लगभग तैयार हो चुकी है। वही बात दूसरे जिलों में बनने वाली कॉम्प्लेक्स की करें तो नवनीत सहगल ने बाकी के जिलों में जिनमें लखनऊ, गोरखपुर तथा गाजियाबाद शामिल है, में प्रस्तावित की गई रूपरेखा को जल्द से जल्द तैयार करके भारत सरकार को भेजने का निर्देश जारी किया। ताकि इन जिलों में भी बनने जा रहे कॉम्प्लेक्स का कार्य जल्द से जल्द शुरू हो सके।