बेरोजगारी से टूटे हुए आवेदक M.A. की योग्यता लेकर चपरासी पद को हासिल करने की लालसा में पहुंचे कैंपस।

बेरोजगारी से टूटे हुए आवेदक M.A. की योग्यता लेकर चपरासी पद को हासिल करने की लालसा में पहुंचे कैंपस।

कोरोना काल में बेरोजगारी और नौकरी को पाने की लालसा में कैंपस में लगी हुई कतार में जब लोगों की योग्यता देखी गई तो उसमें उम्मीदवार दसवीं तथा M.Aपास योग्यता रखने वाले आवेदक निकले।

 

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय कैंपस में चपरासी के 6 पदों पर भर्ती के लिए 192 आवेदक जब पहुंचे तो उनकी योग्यता पर ध्यान दिया गया, तो उनकी योग्यता M.A पास तथा दसवीं पास रखने वाले आवेदको में से 1 थी 192 आवेदक यानी चपरासी के एक-एक पद पर यदि देखा जाए तो 32 आवेदक नौकरी पाने की उम्मीदवार हैं।

जबकि आठवीं पास योग्यता रखने वाले आवेदकों को इस पद की भर्ती के लिए मांगा गया था वह भी पूरी तरह से संविदा पर ,सैलरी भी कुछ खास नहीं, कुछ ही हजार रुपए बताई गई। चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय कैंपस में कॉमर्स संस्कृत ब्वॉयज हॉस्टल ,और अर्थशास्त्र में चपरासी के लिए केवल 6 पदों पर आवेदन मांगे गए थे परंतु कैंपस में चौंकाने वाली बात तो यह है कि आवेदकों की लाइन लग गई वह भी M.Aतथा दसवीं पास योग्यता रखने वाले।

 

कुल पदों में से
• 2 पद SC के थे।
• एक अनारक्षित
• और एक ओबीसी के लिए इस तरह से।
6 पदों पर कुल 192 उम्मीदवार पहुंचे।
गुरुवार को यह इंटरव्यू हुए इसमें से जो आवेदक SC-100
OBC-48
सामान्य वर्ग- 44 के निकले
यानी एससी में हर एक पद पर 33 ओबीसी में 48 और अनारक्षित में 44 आवेदक रहे।
प्रत्येक पद पर औसत दावेदारी 32 अभ्यर्थियों की रही।
विश्वविद्यालय प्रशासन के आंकड़ों के अनुसार पता चला की आवेदकों में पुरुष ही नहीं 22 महिलाएं भी शामिल रही।