खुशख़बरी लखनऊ वासियों के लिए शुरू हो गई नई सेवा।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में  आज से शुरू हो गई पिंक सेवा ये  पिंक सेवा लखनऊ से जयपुर के बीच शुरू हो रही है। 

पिंक सेवा में बसे आप सीधा लखनऊ से जयपुर के लिए पकड़ सकेंगे हालांकि मिली जानकारी के अनुसार  पिंक बस सेवा कल से यानी मंगलवार से प्रारंभ कर दी जाएगी।

जिसमें कोई भी यात्री अपनी सुविधा अनुसार इसमें समय रहते टिकट बुक करा कर जा सकेंगे 16 फरवरी से पिंक सिटी के लिए पिंक बस चलेगी आलमबाग टर्मिनल से जयपुर के लिए। 

मिली जानकारी के अनुसार काफी दिनों से जयपुर जाने के लिए यात्रियों में काफी परेशानियों का माहौल था। 

तथा काफी दिनों से इस बस की मांग हो रही थी जिससे यातायात परिवहन निगम ने इसे मध्य नजर रखते हुए लोगों की सुविधानुसार पिंक बस सेवा शुरू कर दी है।

 पिंक बस सेवा इसका नाम रखा गया है क्योंकि पिंक सिटी के नाम से मशहूर जयपुर सिटी का नाम कहलाती है।

जिसे दुनिया में  छवि प्राप्त है  हालांकि मिली जानकारी के अनुसार आलमबाग से यात्री बस का इसका रोज लाभ उठा पाएंगे।

इसमें कुछ खास बात यह है।

कि दोनों ओर से एक ही समय यानी रात 7:00 बजे पिंक बस अपनी लक्ष्य कि और रवाना होगी इसका सफर करीब 12 घंटे का होगा।

इस दौरान ये रोडवेज सेवाएं 599 किलोमीटर की दूरी तय करेगी राजधानी लखनऊ से जयपुर की ओर जाने वाली है पिंक बस सेवा आलमबाग टर्मिनल से रोज शाम चलकर तकरीबन सुबह  5:00 बजे जयपुर पहुंचेगी।

वापसी में जयपुर के सिंधी कैंप स्थित बस स्टेशन से प्रतिदिन शाम 7:00 बजे लखनऊ की और चलेगी।

हालांकि जानकारी के अनुसार इसमें ऑनलाइन बुकिंग की भी सुविधा जारी रख दी गई है और यात्री काफी ऑनलाइन बुकिंग भी कर चुके हैं।

और इसकी बुकिंग कल से ही शुरु हो चुकी है हालांकि अभी निर्धारित किराया इसका 1171 रुपए आकलन किया गया है जो यात्रियों को सुविधा अनुसार प्रदान किया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने किया आदेश – नए वर्ष के कार्यक्रम पर लेनी होगी अनुमति।

उत्तर प्रदेश सरकार ने किया आदेश – नए वर्ष के कार्यक्रम पर लेनी होगी अनुमति।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना महामारी संक्रमण के कारण इस नए वर्ष पर कार्यक्रम के लिए अनुमति लेने के लिए अनिवार्य कर दिया है। मतलब के जो भी व्यक्ति इस नए वर्ष पर कार्यक्रम को आयोजित करेगा उसके लिए पहले सरकार के द्वारा दिए गए निर्देश का पालन करने के साथ अनुमत लेनी अनिवार्य होगी और नियम का उल्लंघन करने पर कार्यवाही की जाएगी।

 

 

जी हां, सभी त्योहारों की तरीके से यह नया वर्ष भी हम को आजादी से मनाने को नहीं मिलेगा। इस नए वर्ष पर आयोजित कार्यक्रम के लिए सरकार ने अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया है और कोविड-19 की गाइडलाइन को का पूर्ण रुप से पालन करना होगा। और इस गाइडलाइन का उल्लंघन जो व्यक्त करेगा ऐसे व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 

 

मुख्य सचिव राजेंद्र कुमारी तिवारी ने नए साल के कार्यक्रमों में कोरोना महामारी के नियंत्रण तथा रोकथाम के लिए जागरूकता फैलाने के लिए कहां है और प्रोटोकॉल तथा गाइडलाइन को पूरी तरीके से पालन कराने से संबंधित दिशा-निर्देश भी दिए। कहा की सारे मंडलायुक्त और अपर पुलिस महानिदेशक तथा पुलिस महानिरीक्षक तथा पुलिस उपमहानिरीक्षक रेंज पुलिस आयुक्त लखनऊ तथा गौतम बुध नगर सभी जिला अधिकारी इसके साथ ही वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इन दिशा निर्देशों का सख्ती के साथ पालन करेंगे और जनता पर कड़ी नजर रखेंगे।

 

 

 

प्रदेश में कोरोना महामारी के कारण महामारी के रोकथाम के लिए गृह मंत्रालय , भारत सरकार की गाइडलाइन को यूपी सरकार ने नए वर्ष के कार्यक्रमों में कोरोना महामारी के नियंत्रण तथा रोकथाम के लिए खास सावधानी बरतने के लिए प्रोटोकॉल और को गाइडलाइन को का पालन करने से संबंधित निर्देश जारी कर दिए हैं।

 

 

 

निर्देश में सरकार ने कार्यक्रम के स्थान के पास पूरी तरीके से पुलिस पेट्रोलिंग की व्यवस्था के साथ-साथ सार्वजनिक स्थानों तथा कार्यक्रम के स्थलों पर आवश्यक ड्रोन कैमरे के जरिए से सख्त निगरानी करने के निर्देश दिए। उत्तर प्रदेश 112 के वाहनों को खास कार्यक्रम स्थलों पर जरूरत के हिसाब से व्यवस्था करने के लिए निर्देश दिए   इस नए वर्ष पर भड़काऊ तथा विद्वेष फैलाने वाली अफवाहों की रोकथाम के लिए डिस्ट्रिक्ट लेवल पर सोशल मीडिया पर भी सख्ती से निगरानी की जाए निर्देश दिए

 

 

मुख्य सचिव ने बताया की शराब की दुकानों और बार अन्य के आसपास पुलिस प्रबंध करने का निर्देश सरकार ने दिया है। इसके साथ ही आपराधिक तत्वों और सतर्कता को बनाए रखने और कड़ी निगरानी रखने के लिए कहा । होटल रेस्टोरेंट शॉपिंग मॉल तथा रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन मेट्रो स्टेशन, मुख्य मार्ग और बाजारों चौराहों पर भी पूरी तरीके से पुलिस व्यवस्था को बनाए रखने का निर्देश दिया गया है। इस नए साल पर रात के समय दो पहिया तथा चार पहिया वाहन चालकों को चेकिंग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। उन्हें यातायात नियमों और अनुपालन तथा स्वयं की हिफाजत के लिए सभ्या तरीके से जागरूक भी किया जाएगा।

weather update – लखनऊ में होगी बारिश, जिससे पूरे उत्तर प्रदेश में छाया रहेगा अधाधुन कोहरा।

weather update – लखनऊ में होगी बारिश, जिससे पूरे उत्तर प्रदेश में छाया रहेगा अधाधुन कोहरा।

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )   जी हां मौसम विभाग के मुताबिक इस साल नया वर्ष हम बारिश के साथ मनाएंगे क्योंकि आने वाले वक्त में बारिश होने वाली है। तीन से 5 जनवरी के मध्य यूपी में कहीं हल्की तो कहीं भारी बारिश होगी।

 

 

मौसम विभाग ने बताया की जम्मू कश्मीर तथा हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश के साथ-साथ बर्फबारी होने के भी चांसेस नजर आ रहे हैं। इसलिए लोग अलर्ट हो जाएं। मौसम में होने वाले तब्दीली के कारण इस नए वर्ष के पहले हफ्ते में टेंपरेचर में गिरावट होगी। जिसके कारण ठिठुरन और साथ में ठण्डी हवा भी चलेगी जिससे लोगों के हाथ पर ठंड के कारण कटेंगे। मौसम विभाग ने बताया की
यह तब्दीली पश्चिमी विक्षोभ के कारण होगी

 

 

 

और अगले आने वाले 24 घंटे के अंतर्गत पूरे प्रदेश के कुछ हिस्सों में शीतलहर का भारी प्रकोप भी होगा। सुबह तथा रात्रि के समय अधा धुन कोहरा छाया रहने के आसार अधिक है। सोमवार के दिन पश्चिमी यूपी के कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश हुई भी है क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ केब्पास के क्षेत्रों में भी यह बादल छाए रहे परंतु पूर्वी यूपी के मौसम में सूखा ही नजर आया।

 

 

पिछले 24 घंटे के अंदर पूरे प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान जो रहा वह चुर्क रहा जहां पर रात्रि का टेंपरेचर तकरीबन 4.1 और प्रयागराज लखनऊ और बरेली तथा मुरादाबाद मंडलों में रात्रि के टेंपरेचर में बढ़ोतरी मिली वहीं दूसरी ओर गोरखपुर, वाराणसी तथा कानपुर में रात्रि का टेंपरेचर सामान्य रिकॉर्ड किया गया।

लखनऊ स्पेशल ट्रेन की समय अवधि में बदलाव के पश्चात दो ट्रेनों को ओर किया गया रद्द आखिर है वह कौन सी ट्रेन जाने।

लखनऊ स्पेशल ट्रेन की समय अवधि में बदलाव के पश्चात दो ट्रेनों को ओर किया गया रद्द आखिर है वह कौन सी ट्रेन जाने।

 

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )     पूर्व मध्य रेल ने दिसंबर की 26 से अगले आदेश तक के इंटरसिटी एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन को और मेमो डेमो पैसेंजर स्पेशल ट्रेन की समय अवधि में बदलाव किया है। दिसंबर की 26 तारीख तक के ट्रेनें चलाई जाने वाली पैसेंजर स्पेशल में से सोनपुर तथा छपरा के बीच प्रस्तावित पैसेंजर स्पेशल का संचालन तकनीकी वजह से रद्द कर दिया गया है।

 

 

 

वहीं पूर्व से सूचित की गई पैसेंजर ट्रेन गाड़ी संख्या 03221 तथा 03222 आरा पटना तथा आरा मेमो पैसेंजर का संचालन दिसंबर की 26 से अगले आदेश तक के किया जाएगा।  दूसरी तरफ गाड़ी नंबर 03315 तथा गाड़ी संख्या 03316 समस्तीपुर कटिहार तथा समस्तीपुर और गाड़ी संख्या 05217 , गाड़ी संख्या 15218 रक्सौल दरभंगा रक्सौल पैसेंजर पहले से ही सूचित स्पेशल का संचालन करा जएगा

 

 

 

 

वहीं पर धनबाद रांची धनबाद इंटरसिटी एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन का संचालन प्रारंभ करने की तिथि की घोषणा बाद में की जाएगी। कोशिश की जा रही है की इसकी घोषणा बाद में परन्तु जल्द से जल्द की जाए  /औरअब पाटलिपुत्र से लखनऊ जंक्शन के बीच चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन को अब मार्च की 31 तक के हफ्ते में 5 दिन ही लखनऊ के लिए चलाया जाएगा। यह ट्रेन शाम के समय तकरीबन 4:30 पर चलना और रात के समय 2:45 पर जंक्शन पहुंच जाएगी। पाटलिपुत्र से यह ट्रेन लखनऊ के मध्य 522 किलोमीटर की दूरी करते हुए। तकरीबन सवा 10 घंटे का वक्त लेगी।

वहीं दूसरी ओर लखनऊ से उसी दिन यह ट्रेन सुबह के समय 5:00 बजे निकलेगी तथा पाटलिपुत्र जंक्शन दोपहर 2:50 पर पहुंचेगी राजधानी से यह ट्रेन पाटलिपुत्र के मध्य की दूरी तकरीबन 9 घंटे 50 मिनट तक के तय करेगी। इस ट्रेन के संचालन का समय को विस्तारित करने से पाटलिपुत्र जंक्शन के अलावा दिघवारा तथा छपरा तथा सिवान के आसपास के लोगों को सहूलियत प्राप्त होगी। इसके पश्चात यह ट्रेन देवरिया गोरखपुर होते हुए राजधानी। के बीच चलाई जा रही है। से यह ट्रेन हफ्ते में सोमवार तथा मंगलवार बुधवार और शुक्रवार तथा शनिवार को चलाई जाएगी।

 

 

 

उत्तर प्रदेश सरकार ने लिया बड़ा निर्णय खसरे का बदला प्रारूप 22 की जगह खसरे में बढ़ा दिए गए कॉलम।

उत्तर प्रदेश सरकार ने लिया बड़ा निर्णय खसरे का बदला प्रारूप 22 की जगह खसरे में बढ़ा दिए गए कॉलम।

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  जी हां, अब उत्तर प्रदेश सरकार ने खसरे का प्रारूप बदलने का निर्णय लिया है। यह खसरा अब कंप्यूटर पर ऑनलाइन दिखेगा। अभी तक के यह खसरा मैनुअली तैयार कर दिया जाता था परंतु अब लेखपाल खसरे को ऑनलाइन एंट्री कराएंगे।

योगी सरकार ने खतरे के प्रारूप के साथ 22 कॉलम की जगह पर 46 कॉलम कर दिए हैं। इसके साथ ही शासन ने यूपी राजस्व संहिता की नियमावली 2020 का अनुमोदन दे दिया है। इसने खसरे के प्रारूप को 1428 फसली वर्ष से लागू कर दिया जाएगा।

 

 

 

जाने क्या हुआ है कॉलम में बदलाव ।

 

 

बता दें की इसके पहले भाग में पांच तक के कॉलम लेखपाल को अब नहीं भरने होंगे। यह खतौनी से जनरेट हो जाएगा।

भाग 2 में सिंचाई के साधनों को फसल के हिसाब से अंकित कर दिया जाएगा और इसके

कॉलम नंबर 3 में दैवी आपदा से होने वाली प्रभावित फसल के एरिया को लिखा जाएगा।

कॉलम नंबर 4 में पेड़ों की हालत के बारे में बताया जाएगा और

कॉलम नंबर 5 में गैर कृषक घोषित भूमि साथ ही उसका कैसे इस्तेमाल हो रहा है। इससे से संबंधित जानकारी दी जाएगी।

कॉलम नंबर छह में पट्टे पर दी गई भूमि की डिटेल दर्शाई जाएगी जो अभी तक के खसरे में नोट नहीं होती थी। कॉलम नंबर 7 में दो फसली भूमि के सम्बन्ध में बताया जाएगा।

कॉलम नंबर 8 में ऐतिहासिक महत्ता के मुक़ाम के साथ  अन्य डिटेल भी लिखी जाएंगी।

 

 

खतौनी में बदला है यह प्रारूप।

 

सरकार ने नियमावली के नियम 27 में संशोधन कर दिया है और खतौनी के प्रारूप को चेंज कर दिया है। इसको कंप्यूटर friendly बना दिया गया है। इस खतौनी में 14 के स्थान पर 19 कॉलम अब कर दिए गए हैं। इसके संशोधन से खतौनी के दाहिने तरफ नोट हुआ आदेश कंप्यूटर के एक क्लिक करने से बाएं हिस्से में फौरन आ जाएगा। इससे खातेदार को अपनी संख्या बड़ी आसानी से पता चल सकेगी। साथ ही राजस्व न्यायालय के जरिए पारित आदेशों को आसानी से दर्ज भी कर दिया जाएगा। साह खातेदार के अंश भी विरासत तथा नामांतरण के साथ दर्ज हो जाएगी।

लखनऊ परिवहन निगम ने पटना तक चलाई एक और बस ,जानिए कहां पर मिलेगी यह बस, तथा क्या होगा किराया ?

लखनऊ परिवहन निगम ने पटना तक चलाई एक और बस ,जानिए कहां पर मिलेगी यह बस, तथा क्या होगा किराया ?

 

 

 

 

लखनऊ,( कुलसूम फात्मा )  बिहार के लिए संचालित बसों का सिलसिला जारी है परिवहन निगम यात्रियों की सुविधा के लिए एक के बाद एक बस सुविधा उपलब्ध करा रहा है। जिससे कि यात्रियों को अपने स्थान पर पहुंचने में वाहनों की सहूलियत प्राप्त हो सके।

 

बता दें की यूपी राज्य के सड़क परिवहन निगम और बिहार राज्य के मध्य समझौता हो गया। इस समझौते के पश्चात रोडवेज बसों को परिवहन निगम एक के बाद एक संचालित कर रहा है। परिवहन निगम ने अब गाजियाबाद से पटना तक के बस उपलब्ध करा रहा है।

शुक्रवार को 5:00 बजे गाजियाबाद से पटना वाया लखनऊ बस की सेवा का प्रारंभ होगा ,यह बस रात के 2:00 बजे उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के आलमबाग बस टर्मिनल पर पहुंच जाएगी और लगभग 2:15 बजे पटना के लिए निकल जाएगी। बस का प्रारंभ गाजियाबाद में स्थित कौशांबी बस स्टेशन से किया जाएगा।

 

और यह बस 5:40 पर नोएडा से निकलेगी। उसके बाद 9:05 पर कुबेरपुर उसके बाद 2:15 पर लखनऊ आलमबाग के बस अड्डे पर पहुंचेगी और 5:30 पर अयोध्या तथा 9:00 बजे गोरखपुर और 12:15 पर गोपालगंज से निकलेगी और 4:15 पर पटना पहुंच जाएगी।

यदि हम इस बस की दूरी के संबंध में बात करें तो इसकी दूरी 23 68 किलोमीटर है। और पटना से यह बस 8:00 बजे निकलेगी जो की 12:00 बजे गोपालगंज और 3:30 पर गोरखपुर और 7:00 बजे अयोध्या और 10:15 पर आलमबाग से प्रस्थान कर जाएगी। 3:15 पर कुबेरपुर उसके बाद 4:40 पर नोएडा उसके बाद गाजियाबाद कौशांबी 7:15 पर पहुंचेगी।

 

जाने किराया क्या होगा ?

2056 गाजियाबाद कौशांबी से पटना

2030 नोएडा से पटना

1124 आलमबाग से पटना

859 अयोध्या से पटना

583 गोरखपुर से पटना।

 

 

जाने क्या होगा वापसी का किराया ?

 

 

2056 पटना से गाजियाबाद कौशांबी तथा

1734 गोपालगंज से गाजियाबाद कौशांबी

1504, गोरखपुर से गाजियाबाद कौशांबी

1226, अयोध्या से गाजियाबाद कौशांबी

962 आलमबाग से गाजियाबाद कौशांबी।

गाजियाबाद कौशांबी से पटना जाने वाली बस एसी जनरल कैटेगरी की 2 बाई 2 सीट वाली बस की सेवा प्राप्त करने के लिए यात्री इस नंबर पर संपर्क कर सकते हैं 9711120699 तथा प्रभारी ऑनलाइन बुकिंग के संबंध में 7017987229 पर संपर्क कर सकते हैं।

अयोध्या नगर निगम का बड़ा निर्णय – निर्णय द्वारा होगी घपले बाजी की अब समाप्ति।

अयोध्या नगर निगम का बड़ा निर्णय – निर्णय द्वारा होगी घपले बाजी की अब समाप्ति।

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )  अयोध्या के नगर निगम ने एक बड़ा फैसला लिया शहर के नगर निकायों में हो रही घपले बाजी के साथ फ्रॉड पर अब अयोध्या का नगर निगम पूरी तरीके से शिकंजा कसने वाला है। इस फ्रॉड और घपले को रोकने के लिए अयोध्या नगर निगम ने बड़ा कदम उठाया है।

 

जी हां, अयोध्या का यह पहला नगर निगम होगा जोकि फ्रॉड और घपले को रोकने के लिए डबल लेखा एंट्री लागू करेगा। वर्तमान समय में अकाउंट और ऑडिट के क्षेत्रों को पूरी तरीके से क्योंकि मजबूत बनाया जाए इसलिए वहां पर अभी कार्य को विस्तारित किया जा रहा है।  इसके पश्चात एबीडीएस को भी लागू किया जाएगा। इसमें सभी नगर और निकायों के लिए खातों का एक चार्ट बनवाकर लेखा विवरण की डिटेल को ऑनलाइन कर दिया जाएगा।

 

बता दे की अयोध्या का यह पहला नगर निगम होगा जो कि डबल लेखा एंट्री लागू करेगा इसके साथ ही।  निदेशालय के जब अधिकारी से बातचीत की तो उन्होंने बातचीत के दौरान बताया की प्रदेश के 17 नगर निगमों में सबसे पहला अयोध्या का नगर निगम इसे लागू करेगा।

 

अयोध्या का नगर निगम इसके लिए पूरी तरीके की तैयारियां कर चुका है। और इसके बाबत निदेशालय को भी जानकारी दे दी है। डबल एंट्री की व्यवस्था लागू होने के पश्चात उन्होंने बताया अयोध्या में होने वाले किसी भी कार्य पर कितना पैसा खर्च हो रहा है। इसकी डिटेल और जानकारी ऑनलाइन कर दी गई यह व्यवस्था डबल एंट्री लागू होने के पश्चात सीएजी संस्थाओं को ऑडिट करने में भी सहायता मिलेगी।  लेखा परीक्षा के दौरान लेखा संबंधित जो जानकारियां होंगी वह सीएजी को इसके द्वारा आसानी से प्राप्त हो सकेंगी।

स्मार्ट मीटर के द्वारा कंज्यूमर से वसूला जा रहा था अधिक बिल , अब जाकर मिलेगी उपभोक्ताओं को अधिक बिजली के बिल से राहत।

स्मार्ट मीटर के द्वारा कंज्यूमर से वसूला जा रहा था अधिक बिल , अब जाकर मिलेगी उपभोक्ताओं को अधिक बिजली के बिल से राहत।

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )   दिन पर दिन बिजली उपभोक्ताओं के द्वारा स्मार्ट मीटर से आने वाले अधिक बिल के शिकायत के बाद भी स्मार्ट मीटर को बदला नहीं गया बल्कि आदेश भी हुआ के इन स्मार्ट मीटर की जांच की जाए। फिर भी अधिकारियों ने आदेश पर तवज्जो नहीं देते हैं और हाल यह है की कंज्यूमर  बिजली का बिल भर भर के बेहद परेशान हो गए हैं।

 

अपने द्वारा की गई कमी पर अधिकारी ध्यान नहीं देते। एक निम्न वर्गीय और सामान्य वर्ग का परिवार बिजली का बिल कब तक के भरेगा ? आखिरकार जब यह परेशान होकर बिजली चोरी करने लगते हैं तो दरवाजे पहुंचकर अधिकारी इन परिवारों से बिजली का जुर्माना वसूलते हैं। आखिर उपभोक्ता क्या करें? अधिक बिजली का बिल कब तक भरे?

 

ना ही स्मार्ट मीटर को बदला जा रहा है और यदि अपना बजट कंट्रोल करने के लिए कोई परिवार बिजली चोरी भी करता है तो उसे जुर्माना वसूला जाता है। बिजली चोरी ना हो, इसको यदि कंट्रोल करना है तो पहले अपने मीटर की रीडिंग को कंट्रोल करें जिससे की यह चोरी का सिलसिला बंद हो। जुर्माना वसूलने से चोरी का सिलसिला नहीं बंद हो सकता क्योंकि कमियां अधिकारियों में है।

 

 

ऊपर से आदेश होते हैं की मीटर की चेकिंग की जाए मीटर बदले जाएं। फिर भी अधिकारी ध्यान नहीं देते हैं और दरवाजे पहुंचकर लोगों को परेशान करते हैं। इन्हें अपनी तरफ से किसी भी तरह की कमी नहीं छोड़नी चाहिए। यदि इसके बाद भी उपभोगक्ता चोरी करते हैं तो फिर इनसे जरूर जुर्माना वसूलना चाहिए।

 

बता दें की यूपी पावर कॉर्पोरेशन आईटी विंग की लापरवाही के चलते आयोग के आदेश के पश्चात भी स्मार्ट मीटर कंज्यूमर से रिकनेक्शन तथा डिस्कनेक्शन की फीस फीस ली जाती रही। यह फीस ₹600 वसूली अब तक के वसूली पिछले दिनों 11 नवंबर को ही आयोग ने अपने आदेश में 5 किलोमीटर तक के 100 तथा इससे अधिक पावर पर ₹200 वसूलने के लिए फीस आदेश दिया था।

 

 

जब यूपी राज्य विद्युत कंज्यूमर परिषद ने उपर्युक्त मामले का खुलासा किया तो अधिकारियों के पैर कप कपा गए और वह आदेश के पश्चात भी स्मार्ट मीटर कंज्यूमर से अभी तक के आरसीडीसी के ₹600 फीस लगभग 40 दिनों तक के वसूलते रहे।  वर्तमान समय में पावर कॉर्पोरेशन के अधिकारी को जब अलर्ट किया गया तो उस सॉफ्टवेयर में चेंजेज़ किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। कंज्यूमर परिषद ने निदेशक व  Commercial से मांग की है की नवंबर की 11 के पश्चात उपभोक्ताओं से ज्यादा जो फीस ली गई है, इसका एडजस्टमेंट जल्द ही किया जाए।

खुशखबरी – चलेंगी आलमबाग से बसे जानिए कितना होगा किराया ? कहां तक जाएंगी यह बस ?

खुशखबरी – चलेंगी आलमबाग से बसे जानिए कितना होगा किराया ? कहां तक जाएंगी यह बस ?

 

 

 

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा ) बस यात्रियों के लिए खुशखबरी है उनका अब बिहार जाना होगा आसान मुजफ्फरपुर की भी अब कर सकेंगे यात्रा। बसों का चल रहा है बराबर 2 दिन से परीक्षण और परीक्षण समाप्त होते ही इन बसों का होगा संचालन प्रारंभ

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से बिहार जाना होगा अब आसान यही नहीं मुजफ्फरपुर के लिए भी बस यात्रा लोग अब असानी से कर सकेंगे। एनओसी परमिट के साथ सभी दिक्कतें अब दूर हो गई हैं और उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम ने बिहार के लिए और मुजफ्फरपुर के लिए लखनऊ से बस की सुविधा प्रदान कर दी है।

 

 

सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक अमरनाथ सहाय ने इस बात की सूचना दी के जैसे ही टेस्टिंग पूर्ण हो जाएगी। बुधवार से यह बसें संचालित कर दी जाएंगी। इसके साथ ही यह बसे आलमबाग टर्मिनल से चलाई जाएंगी। उन्होंने बताया की साधारण बस सुविधा बेहतर लोड फैक्टर के साथ रोडवेज ने बिहार तथा मुजफ्फरपुर के लिए नई बसों का संचालन किया है।  यह बस लगभग 575 किलोमीटर की दूरी तय करेंगी जिसमें इनको 14 घंटे का समय लगेगा।

 

जाने क्या होंगे रूट  ?

यह बस आलमबाग टर्मिनल से प्रारंभ होगी और

बाराबंकी होते हुए

भिटेरिया तथा

अयोध्या

बस्ती

खलीलाबाद,

गोरखपुर,

कसया

फाजिलनगर

तमकुही

होते हुए बिहार यात्रियों को पहुंचाएगी।

यहां से बस वाया गोपालगंज पिपराकोठी होते हुए मुजफ्फरपुर तक के यात्रियों को उनके स्थान पर सुरक्षित पहुंच जाएगी।

 

कितना होगा किराया ?

 

प्रबंधक पल्लव बोस से जब पूछा गया तो उन्होंने बताया की इसका हर एक सीट पर ₹600 किराया पड़ेगा और एक जोड़ी सेवा दी जाएगी। एक बस को लखनऊ से आलमबाग और दूसरी बस को मुजफ्फरपुर से चलाया जाएगा। मुजफ्फरपुर से जो बस चलेगी वहां का समय लगभग 1:00 बजे रखा जा चुका है और रूट भी पहले की तरह ही रहेंगे।

 

किसान आंदोलन के कारण गाजियाबाद से लखनऊ तथा कानपुर होते हुए पटना के साथ-साथ बिहार के अन्य रास्तों पर चलने वाली 4 बस अभी तक के संचालित नहीं की गई हैं। उनको भी संचालित करने का जल्द ही प्रयास किया जा रहा है।

क्या आप का डिबेट कार्ड खो गया है? अगर हां तो कैसे ने डेबिट कार्ड को प्राप्त किया जाए?

क्या आप का डिबेट कार्ड खो गया है? अगर हां तो कैसे ने डेबिट कार्ड को प्राप्त किया जाए?

 

 

 

 

 

आइए जाने अगर किसी व्यक्ति का डेबिट कार्ड खो जाता है तो वह नया डेबिट कार्ड कैसे प्राप्त करें और उसको ब्लॉक कैसे करे ।

लखनऊ, ( कुलसूम फात्मा )  एसबीआई द्बीट – ने एसबीआई डेबिट कार्ड के ग्राहकों को इस बात की जानकारी दी की यदि उनका डेबिट कार्ड गुम हो जाए तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। बस उसको ब्लॉक करना होगा यह जानकारी एसबीआई द्बीट ने कहा की अब इसे किस तरीके से उस कार्ड को ब्लॉक करवाएं तथा उसके बदले में एक नया डेबिट कार्ड किस तरह से पाएं विस्तार से बताया –

 

 

उन्होंने बताया कि यदि कार्ड खो जाए तो उस पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से हमारे टोल फ्री नंबर पर कॉल करें और कार्ड को पुनः पाने के लिए रिक्वेस्ट करें। टोल फ्री नंबर हमारा 1800112211 तथा 1800253800 है जो कि लोगों को सुविधा प्रदान कर रहा है। उन्होंने बताया की इसके अलावा ग्राहकों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी बनाया गया है जो 18004253800 है इसे डायल करके बात करें और वेबसाइट तथा मोबाइल एप के द्वारा डेबिट कार्ड के फिर से जारी करने का अनुरोध करें।

 

ग्राहक उपलब्ध आधिकारिक वेबसाइट के जरिए एसबीआई डेबिट कार्ड को फिर से इस्तेमाल कर सकेगें

जाने अधिकारिक वेबसाइट चलाने की प्रक्रिया।

सर्वप्रथम एसबीआई साइट
Sbicard.com पर जाएं। उसके बाद request पर क्लिक करें। इसके पश्चात reissue, replace Card पर क्लिक करे
रिप्लेस कार्ड पर क्लिक कर कोई नंबर चुनिए उसके बाद जमा करें option पर क्लिक करें।

 

डेबिट कार्ड को फिर से जांच करने के लिए

 

 

सर्वप्रथम एसबीआई कार्ड मोबाइल ऐप पर लॉगिन करें फिर इसके बाद मेनू टैब पर क्लिक कर सर्विस रिक्वेस्ट पर क्लिक करें और रिशु रिप्लेस कार्ड पर क्लिक करने के पश्चात कोई नंबर का चयन करें और सबमिट पर टैप करें।

 

 

कार्ड की फिर से प्राप्त करने के लिए इसका शुल्क आपको ₹100 देना होगा एसबीआई कार्ड को फिर से जारी करने में केवल 7 दिनों का समय लगेगा उसके पश्चात आपको आपका कार्ड मिल जाएगा। इस तरह से उपर्युक्त प्रक्रिया के द्वारा वह व्यक्ति जिसका डेबिट कार्ड खो जाता है। बड़ी आसानी से अपने डेबिट कार्ड को ब्लॉक करवा करके नया डेबिट कार्ड जारी कर सकता है।